किसान आंदोलन में राजनीति तेज : अब आगे क्या ?

किसान आंदोलन में राजनीति तेज : अब आगे क्या ?राहुल गांधी पीड़ित किसान परिवारों से मिलने जाते हुए नीमच में।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में वस्तुओं के बहिष्कार से शुरू हुए किसान आंदोलन में मंदसौर में पुलिस की गोली से पांच किसानों की मौत के बाद राजनीति तेज हो गई है। हर दिन अब ये आंदोलन उग्र होने के साथ ही नया मोड़ ले रहा है। इस मामले में आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी किसानों से भेंट करने नीमच पहुंचे, जहां उन्हें पुलिस ने हिरासत में लेते हुए मंदसौर के किसानों से मिलने से रोक लिया।

आखिरकार 4 घंटे बाद जब वे 250 कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस हिरासत से छूटे तो, उन्होंने राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में पीड़ित किसान परिवारों को बुलाकर भेंट की। कांग्रेस कार्यकर्ता मारे गए पांच किसानों में चार के परिजनों को राहुल गांधी से भेंट कराने के लिए राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिला लेकर आये। उन्होंने इस मौके पर कहा कि वह देश भर में कृषि कर्ज माफी के लिए दबाव बनाएंगे।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

वहीं, इस मामले में अब आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल भी कूद पड़े हैं। आज गुरुवार को हार्दिक ने मध्य प्रदेश में प्रदर्शन कर रहे किसानों के खिलाफ कथित पुलिस कार्रवाई की निंदा की। इस आंदोलन के केन्द्र बने मंदसौर का हार्दिक पटेल ने 12 जून को दौरा करने की बात भी की। हार्दिक ने सूरत में संवाददाताओं से कहा कि गुजरात का पाटीदार समुदाय मध्यप्रदेश के किसानों तथा उनके आंदोलन का पूरा समर्थन करता है।

मध्य प्रदेश के देवास में किसान आंदोलन का एक दृश्य।

गुजरात में देशद्रोह के दो मामलों का सामना कर रहे हार्दिक पटेल ने कहा, एमपी में जो कुछ हुआ वह निंदनीय है। यह देखना परेशानीभरा है कि देश का पेट भरने वाले किसानों को बदले में गोलियां मिल रही हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि मैं 12 जून को मंदसौर जाने की योजना बना रहा हूं।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह जयपुर आयेंगे

जयपुर (भाषा)। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह एक दिवसीय दौरे पर कल शुक्रवार को जयपुर आयेंगे। भाजपा प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि राजनाथ सिंह जयपुर यात्रा के दौरान मुहाना मंडी में किसानों को सम्बोधित करेंगे। वह दूदू में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे और शाम में बुद्धिजीवी वर्ग को सम्बोधित करके दिल्ली प्रस्थान कर जायेंगे।

ये भी पढ़ें : मंदसौर पर महाभारत: किसान आंदोलन के बहाने एक-दूसरे को घेरने में जुटे नेता

इस निर्धारित कार्यक्रम से पहले ही राजनाथ सिंह गुरुवार को कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों के आंदोलन को कुछ ताकतें भड़का रही हैं। इस मामले की पूरी जांच हो रही है। मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में पुलिस गोलीबारी, और उससे पांच किसानों की मौत के बारे में सवाल करने पर राजनाथ ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि किसानों के प्रदर्शन में सुरक्षा बलों की जरुरत नहीं है। हालांकि, उपलब्ध जानकारी के अनुसार, कुछ ताकतें इस आंदोलन को हिंसक बनाने में जुटी हैं।

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में करीब एक सप्ताह से चल रहे प्रदर्शन के दौरान राज्य के पश्चिमी हिस्से से आगजनी सहित कई हिंसक घटनाओं की खबरें हैं। मंदसौर में मंगलवार को पुलिस गोलीबारी में पांच किसानों की मौत के बाद से हालात बहुत ज्यादा खराब हैं।

विश्व हिंदू परिषद ने भी की निंदा

विहिप के नेता प्रवीण तोगड़िया ने भी आज इस मामले कहा कि गोलियां देश के दुश्मनों पर चलाई जाती हैं। जो किसान अपने हक के लिए मांग कर रहे हैं, उन पर गोलियां चलाना निंदनीय है। वहीं, केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने भी आज पांच किसानों की मौत की घटना को ‘दुर्भाग्यपूर्ण' करार देते हुए कहा कि घटना का ‘राजनीतिकरण' करने वाले समुदाय के कल्याण को लेकर चिंतित नहीं हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top