महिला उद्यमियों को राष्ट्रपति देंगे सीआईआई श्रेष्ठ उद्यमिता सम्मान  

महिला उद्यमियों को राष्ट्रपति देंगे सीआईआई श्रेष्ठ उद्यमिता सम्मान  राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी।

नई दिल्ली (भाषा)। विपरीत हालात में उद्यमिता को बढ़ावा देने वाली महिला उद्यमियों को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी श्रेष्ठ महिला उद्यमिता सम्मान प्रदान करेंगे। सीआईआई की ओर से प्राप्त जानकारी के मुताबिक आगामी 27 अप्रैल को तेलंगाना की जयम्मा भंडारी, पश्चिम बंगाल की मणिका मजूमदार और महाराष्ट्र की कमल कुम्भार को भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के साल 2017 के श्रेष्ठ महिला उद्यमिता सम्मान से नवाजा जायेगा।

महिलाओं से संबन्धित सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जयम्मा ने 1000 महिलाओं को उपलब्ध कराया रोजगार

सीआईआई के प्रवक्ता राजीव बलूनी ने बताया कि तेलंगाना में यौनकर्मी महिलाओं और उनके बच्चों को शिक्षित करने के मिशन में लगीं जयम्मा को लगभग 1000 महिलाओं को वैकल्पिक रोजगार मुहैया कराने के लिए सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि स्वयं इस पेशे से निकल कर जयम्मा ने सात महिलाओं के साथ स्वयंसेवी समूह चैतन्य महिला मंडली का गठन कर यौनकर्मियों को शिक्षा के माध्यम से वैकल्पिक रोजगार के अवसर मुहैया कराने की मुहिम शुरु की थी। उनकी इस मुहिम से 4428 महिलायें और उनके बच्चों के जीवन में बदलाव आया है। संगठन ने इलाके के 3332 स्कूलों को अपने नेटवर्क से जोड़ कर बच्चों को पढ़ने के अवसर मुहैया कराए हैं।

मजूमदार पारिवारिक हिंसा की शिकार महिलाओं की करती हैं मदद

इसी तरह गरीबी की वजह से बीच में ही पढ़ाई छोड़ने से लेकर पारिवारिक हिंसा की शिकार रहीं मजूमदार ने पश्चिम बंगाल में मानसिक तौर पर बीमार लोगों के लिए उल्लेखनीय कार्य किया। वह मनोरोगियों की सामुदायिक स्तर पर पहली प्रशिक्षित कांउसलर बनीं। उन्होंने स्थानीय निकायों के साथ मिलकर छोटे-छोटे मनोचिकित्सा केंद्र शुरू किए। लगभग 800 रोगियों की देखभाल का जिम्मा उठा रही मजूमदार ने 35 नगर निकाय क्षेत्रों में मनोचिकित्सा केंद्र खोलकर 3000 मनोरोगियों की देखभाल की मुहिम चलायी है।

कुम्भार ने 3000 जरूरतमंद महिलाओं को कुक्कुट उत्पादों के कारोबार से जोड़ा

वहीं दिहाड़ी मजदूर की बेटी कुम्भार को महाराष्ट्र में छोटे कुक्कुट फार्म के जरिये 3000 जरूरतमंद महिलाओं को कुक्कुट उत्पादों के कारोबार से जोड़ने के लिए इस सम्मान से विभूषित करने का फैसला किया गया है। इसके अलावा वह राज्य के सूखा प्रभावित उस्मानाबाद जिले में 5000 महिलाओं को कुटीर उद्योगों से जोड़ने की मुहिम भी चला रही हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top