पढ़िए सरकार के चार साल पूरे होने पर कटक में क्या-क्या बोले पीएम मोदी ?

प्रधानमंत्री मोदी ने सरकार के 4 साल पूरे होने पर सरकार की उपलब्धियों को जनता के सामने रखा। उन्होंने कहा पिछले चार साल में हम अपने वादों पर खरे उतरे हैं।

पढ़िए सरकार के चार साल पूरे होने पर कटक में क्या-क्या बोले पीएम मोदी ?

कटक। नरेंद्र मोदी ने आज ही प्रचंड बहुमत से चुनाव जीतने के बाद देश की कमान संभाली थी। आज चार साल पूरे हो गए हैं। सरकार जश्न के मूड में है। देश भर में पीएम मोदी समेत तमाम मंत्री, सांसद और बीजेपी पार्टी सरकार की उपब्धियां जनता को बता रहे हैं। पीएम मोदी ओडिशा में रैली करके अपनी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि देश कालेधन से जनधन की तरफ जा रहा है। हमारा देश तेज गति से बदल रहा है, भारत बदल सकता है और नीतियां बदलकर हिंदुस्तान को बदला जा सकता है।



किसान क्रेडिट कार्ड का दायरा पशु पालन और मत्सय पालन तक बढ़ाया गया है

-सरकार बीज से बजार तक व्यवस्था विकसित कर रही है, किसानों की आय दोगुना करने का प्रयास किया जा रहा है

-ओड़िसा में आठ सिंचाई परियोजनाएं कई दशकों से अटकी पड़ी थीं, इसे पूरे करने के लिए केंद्र सरकार 80 हजार करोड़ रुपये खर्च कर रह है

-यूरिया की शत प्रतिशत नीम कोटिंग की गई है, खेती पर किसानों का खर्च कम हुआ है

-महंगाई पर लगाम लगाने को हमने काम किया है, जबकि कांग्रेस इसमें विफल थी

-पासपोर्ट मिलने का समय कम हुआ, रिटर्न मिलने का समय कम हुआ

-प्रक्रियाओं को जटिल बनाने वाले 1400 कानून खत्म किए

-हमने गरीबों को सशक्त करने का काम पिछले चार साल में किया है

-हम कब तक मूलभूत सुविधाओं के लिए इंतजार करते रहेंगे, यह सभी को मिलना चाहिए

-देश में 1 करोड़ लोगों को अटल पेंशन योजना से जोड़ा गया है

-जनधन योजना के तहत सवा करोड़ बैंक खाते खोले गए

-अब लगभग हर परिवार में एक बैंक खाता जरूर है

-उज्जवला योजना के तहत 4 करोड़ महिलाओं को मुफ्त में गैस कनेक्शन दिया जा चुका है

-10 करोड़ नए एलपीजी कनेक्शन दिए गए हैं पिछले चार साल में

-आजादी लेकर 2014 तक देश में लगभग 6 करोड़ शौचालय बने थे

-देश की 40 प्रतिशत जनता स्वच्छता के दायरे में थी, लेकिन अब यह दायरा 80 फीसदी हो चुका है

- हमारी सरकार किसी जनपथ से नहीं बल्कि जनमत से चल रही है



-उत्तरपूर्व पर भी ध्यान नहीं दिया गया, इसलिए देश का यह हिस्सा पिछड़ गया

-ये राजनैतिक योजनाओं का ऐलान कर के भूल जाते हैं

-इस स्थिति की वजह से इन दलों ने कभी सोचा कि सभी घरों में शौचालय हो, सड़क हो, सबके पास घर हो

-दूसरी सरकारें सबका साथ, सबका विकास के लिए काम नहीं करती थीं

-देश के आधे लोगों के पास गैस कनेक्शन नहीं था, सड़क नहीं थी

Share it
Share it
Share it
Top