उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र के बाद अब पंजाब के किसानों की बल्ले -बल्ले 

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र के बाद अब पंजाब के किसानों की बल्ले -बल्ले पंजाब में खेतों में जाता किसान (फ़ोटो साभार -इंटरनेट )

नई दिल्ली। विधानसभा चुनाव में किसानों की कर्जमाफी का वादा करके पंजाब की सत्ता में आई कांग्रेस ने अपना वादा पूरा किया है। सोमवार को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों की कर्जमाफी का ऐलान किया।

ये भी पढ़ें- यूपी सरकार ने किया दो करोड़ से अधिक लघु एवं सीमांत किसानों का फसली कर्ज माफ

पंजाब सरकार की घोषणा के मुताबिक 5 एकड़ तक की जमीन वाले किसानों का कर्जमाफ किया जाएगा। जिसमें प्रदेश के 10.25 लाख किसानों को इसका फायदा मिलेगा। इसके अलावा पंजाब सरकार राज्य के 10 लाख गरीब किसानों को 2 लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता भी देगी। जिन किसानों ने आत्महत्या की है उनके परिवारवालों को भी आर्थिक सहायता दी जाएगी।

ये भी पढ़ें- दिल्ली पहुंचे रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विधानसभा में बोलते हुए कहा कि जिन किसानों को फ्री बिजली मिलती है उनकी फ्री बिजली चलती रहेगी। अमरिंदर सिंह ने इसके साथ ही प्रदेश में बागवानी को बढ़ावा देने के लिए राज्य में एम.एस. रंधावा के नाम से एक हार्टीक्ल्चर यूनिवर्सिटी बनाने की घोषणा की।

2 लाख से ज्यादा का कर्ज लेने वाले 1.5 लाख किसानों को 2 लाख रुपए की सहायता देने का भी एलान पंजाब सरकार ने किया है। पंजाब सरकार ने इकोनॉमिस्ट डाॅ. टी हक की अध्यक्षता वाली कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर कर्ज माफी का एलान किया। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, "खुदकुशी करने वाले किसानों के परिवार के कर्ज का जिम्मा सरकार लेगी। खुदकुशी करने वाले किसानों के परिवार के लिए राहत राशि भी अब तीन लाख रूपए से बढाकर पांच लाख रूपए की जा रही है।"

गैर संस्थागत जरिए से लिए गए कर्ज के बारे में सीएम ने कहा कि इसके लिए पंजाब कृषि कर्जों का निपटारा अधिनियम में संशोधन किया जाएगा। इस एक्ट में संशोधन के लिए कैबिनेट सब कमेटी का गठन पहले ही किया जा चुका है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top