भाजपा और मोदी समाज को बांटने में लगे हैं : राहुल गांधी            

भाजपा और मोदी समाज को बांटने में लगे हैं : राहुल गांधी            कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ।

नांदेड (महाराष्ट्र) (भाषा)। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सत्ता में कायम रहने के लिए समाज को बांटने में लगे हुए हैं।

उन्होंने पार्टी की रैली में कहा कि केवल कांग्रेस की विचारधारा के जरिये भाजपा और आरएसएस से मुकाबला किया जा सकता है। गांधी ने नोटबंदी को लेकर भी मोदी की अगुवाई वाली सरकार पर हमला बोला और कहा कि वह कार्यक्रम पूरी तरह फ्लॉप रहा।

कांग्रेस नेता ने कहा, “पूरा भारत जानता है कि इससे भारत के 'चोरों' का कालाधन सफेद हुआ।” उन्होंने कहा, “पहले उन्होंने कहा कि नोटबंदी से आतंकवाद पर लगाम लगेगी। इसके बाद उन्होंने कहा कि इससे काले धन पर रोक लगेगी। भारत में हर कोई इस सच्चाई को जानता है कि 90 फीसदी कालाधन रियल एस्टेट में है।”

गांधी ने कहा, “मुझे यह नहीं पता कि मोदी किसानों, गरीब श्रमिकों और घरेलू महिलाओं की नकदी के पीछे क्यों पडे़ हुए हैं।” उन्होंने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पर भी सवाल खडे़ करते हुए कहा कि उसने इस बात की घोषणा में करीब एक वर्ष का समय लगा दिया कि अमान्य घोषित किये जा चुके करीब 99 फीसदी नोट सरकार के पास लौट आए हैं।

ये भी पढ़ें:गौरी लंकेश मेरी बहन जैसी थीं, संघ के खिलाफ न लिखतीं तो ज़िंदा होतीं’

उन्होंने जीडीपी के आंकड़ों में गिरावट के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहराया। गांधी ने कहा, “इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा? इसके लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार हैं।” कांग्रेस उपाध्यक्ष के अनुसार भाजपा और मोदी की समाज को बांटने की कोशिश के कारण रोष का माहौल बन रहा है।

राहुल गांधी ने आरोप लगाया, “हरियाणा में उन्होंने जाट बनाम गैर-जाट और महाराष्ट्र में मराठा बनाम गैर-मराठा का भेद पैदा किया।”

उन्होंने कहा, “वे भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की बात करते हैं लेकिन उन्होंने गोवा और मणिपुर में लोगों (विधायकों ) को 'खरीद ' लिया और गुजरात में लोगों को खरीदने की कोशिश की।” कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, “वे (भाजपा और आरएसएस) एक या दो चुनाव लड़ेंगे। उसके बाद कांग्रेस ही सत्ता में होगी।” कांग्रेस नेता ने युवाओं को रोजगार देने के वादे को लेकर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की। जीएसटी के मुद्दे पर गांधी ने कहा कि मोदी सरकार इसका श्रेय लेने की कोशिश कर रही है लेकिन कांग्रेस ने इसकी शुरुआत की थी।

यह भी पढ़ें : पत्रकार गौरी लंकेश का लिखा आख़िरी संपादकीय

Share it
Top