किसानों की जमीन हथियाने में लगा रेलवे कारीडोर

किसानों की जमीन हथियाने में लगा रेलवे कारीडोरकिसानों ने रेलवे पर जबरन जगह हथियाने का आरोप लगाते हुए विरोध किया।

इश्त्याक खान, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। दिबियापुर में रेलवे कारीडोर का काम चल रहा है। किसानों ने रेलवे पर जबरन जगह हथियाने का आरोप लगाते हुए विरोध किया। डीएम ने रेलवे के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि चिन्हित जगह और पुराने दस्तावेजों के आधार पर निर्माण करें। निर्धारित जगह से ज्यादा किसान की जगह न लें।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर उत्तर दिशा में फफूंद-दिबियापुर रेलवे स्टेशन पर रेलवे कारीडोर का काम चल रहा है। किसानों की ली गई जगह को पहले से ही चिन्हित कर निशान बना दिए गए। इसके बाद निर्माण कार्य में लगी कंपनी ने चिन्हित निशान खत्म कर किसानों की जमीन पर निर्माण कराने लगे। इससे आक्रोशित किसानों ने विरोध जताते हुए कार्य रुकवा दिया।

रेलवे और जिले के आला अफसर मौके पर पहुंचे और किसानों की समस्या को सुना। डीएम के. बालाजी ने मामले को निपटाने के लिये रेलवे व तहसील राजस्व कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिये हैं। राजस्व कर्मचारी पुराने दस्तावेजों को खगलाने में जुटे हैं। निर्माण स्थल पर अपर जिलाधिकारी राम सेवक द्विवेदी, पुलिस क्षेत्राधिकारी लालता प्रसाद शुक्ला, उप जिलाधिकारी राजेन्द्र कुमार, दिबियापुर थाना प्रभारी निरक्षक जितेन्द्र कुमार सिंह सहित अन्य अधिकारी मौके पर देर शाम तक डटे रहे।

निर्धारित जगह से बढ़ रहे आगे

दिबियापुर निवासी राम कुमार तिवारी (52 वर्ष) ने बताया कि रेलवे कारीडोर ने जहां से जगह ली थी हम लोगों से वहां निशान लगाए थे। जब निर्माण कार्य शुरू किया तो निशान से आगे बढने लगे। इसलिए किसान विरोध पर उतर आए। वहीं, अभिषेक कुमार राजपूत (42 वर्ष) का कहना है कि जितनी जमीन का पैसा मुझे मिला है उतनी ही जमीन में बनाने देंगे। अगर इससे ज्यादा जमीन पर कार्य किया गया तो किसान निर्माण कार्य नहीं होने देंगे। रेलवे किसानों की जमीन फ्री में हड़पना चाहता है।

चिन्हित जगह पर ही होगा निर्माण

अपर जिलाधिकारी राम सेवक द्विवेदी ने बताया कि रेलवे कारीडोर के निर्माण के समय मिट्टी चिन्हित जगह से अधिक जगह में फैल गई। किसान समझ बैठे की जगह कब्जाई जा रही है जब कि ऐसा नहीं है। चिन्हित जगह से ज्यादा जमीन नहीं ली जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top