पंजाब : बारिश ने बढ़ायी किसानों की चिंता, आंधी-पानी से खेत में तैयार फसल गिरी 

पंजाब : बारिश ने  बढ़ायी  किसानों की चिंता, आंधी-पानी से खेत में तैयार फसल गिरी बारिश से खेत में गिर गई तैयार फसल। 

पिछले कुछ दिनों में हो रही बारिश और आंधी ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। पंजाब के अधिकतर हिस्सों और हरियाणा के कुछ हिस्सों में जोरदार बारिश से कटाई के लिए खंडी गेहूं की फसल भीग गई।

मौसम कार्यालय के अनुसार, पंजाब में आज लगभग पूरे राज्य में व्यापक बारिश हुयी। हरियाणा में फरीदाबाद, कुरूक्षेत्र, पलवल, कैथल, जींद, अंबाला, पंचकूला, यमुनानगर और हिसार में बारिश हुयी। चंडीगढ़ में भी आज सुबह बारिश हुयी।

ये भी पढ़ें- मानसून : ये हैं मौसम के पूर्वानुमान के देसी अलार्म, घटनाएं जो बताती हैं बारिश कैसी होगी ?

पंजाब में ओले गिरने से बर्बाद फसल दिखाता किसान। फोटो साभार: मंजीत सिंह

सोमवार को भी दोनों राज्यों में बारिश हुयी थी जिसके कारण किसानों को अपनी गेहूं के फसल की चिंता हो गयी है। पंजाब और हरियाणा देश में प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्य है। पश्चिमी गड़बड़ी के कारण बारिश हुयी है। आमतौर पर पंजाब और हरियाणा में साल के इस समय बारिश नहीं होती है।

किसानों का कहना है कि गेहूं की फसल के लिए बरसात की स्थिति हानिकारक होती है। इस बीच, मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मौसम कल साफ रहेगा और बारिश के कारण दो से चार डिग्री सेल्सियस नीचे आ गये तापमान में शुक्रवार से बढ़ोतरी शुरू होगी।

ये भी पढ़ें- आंधी और बारिश से किसानों को झटका, खेत में खड़ी फसल गिरी तो मंडी में हजारों बोरी गेहूं भीगा

बीते शुक्रवार से शुरु हुई बारिश अभी भी कई राज्यों में हो रही है। यूपी के लखनऊ, पीलीभीत, बाराबंकी समेत कई जिलों में किसानों ने गेहूं काटना शुरु कर दिया था, ऐसे में कंबाइन से कटा गेहूं काफी किसानों के दरवाजों पर पड़ा था, जिसे नुकसान हुआ। उत्तराखंड से सटे यूपी के पीलीभीत में तेज हवा के चलते कई जगह पेड़ गिए गए। यहां भी फसलों को नुकसान हुआ है। उत्तराखंड से सटे यूपी के पीलीभीत में तेज हवा के चलते कई जगह पेड़ गिए गए। यहां भी फसलों को नुकसान हुआ है।

ये भी पढ़ें- कोरॉजन कीटनाशक के प्रयोग से गन्ना किसानों को होगा नुकसान: गन्ना एवं चीनी आयुक्त

तेज आंधी और बारिश के चलते खड़े गेहूं फैल गए हैं, जबकि कटे पड़े गेहूं में और ज्यादा नुकसान है। क्योंकि ज्यादातर खेतों में पानी भर गया है। जिसमें गेहूं गलने की ज्यादा संभावना है। वहीं खेतों में कटी पड़ी सरसों तो पूरी तरह झड़ गई है।

Share it
Share it
Share it
Top