ये हैं भारत के वे 11 कुख्यात नाम जिन्हें सुन लोगों की रूह कांप जाती थी

ये हैं भारत के वे 11 कुख्यात नाम जिन्हें सुन लोगों की रूह कांप जाती थीये हैं भारत के वे 11 कुख्यात नाम जिन्हें सुन लोगों की रूह कांप जाती थी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मथुरा में सर्राफा कारोबारी की हत्या व लूटकांड में आज पुलिस को कामयाबी मिली। घटना में शामिल 6 अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस पूरे प्रकरण को अंजाम देने में रंगा-बिल्ला गिरोह के होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। ऐसे में रंगा-बिल्ला का नाम एक बार फिर सुर्खियों में है। एक समय था जब रंगा-बिल्ला नाम से लोगों की रूह कांप जाया करती थी। रंगा-बिल्ला के अलावा भारत में और कई ऐसे नाम रहे जो आतंकी का पर्याय बन गए थे। नजर डालते हैं भारत के उन 10 कुख्‍यात लोगों पर जिनका डंका पूरी दुनिया में बजा-

ठग बहराम

ठग बहराम।

ये भी पढ़ें- मथुरा हत्याकांड: दर्जनों दबिश के बाद पकड़े गए पांच आरोपी, हफ्ते भर से की थी रेकी

ठग बहराम एक ऐसा नाम था जिसे कारण अंग्रेजी हुकूमत को ठग विरोधी कानून बनाने के लिए मजबूर होना पड़ा। 1790 से 1840 तक उसने 931 हत्याएं कीं। वह अपने शिकार की हत्या उनका गला दबाकर किया करता था। 'गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड' के अनुसार सन् 1790-1840 के बीच महाठग बहराम ने 931 सीरियल किलिंग की, जो कि विश्व रिकॉर्ड है। वर्ष 1840 में उसे अंग्रेज सरकार ने सजा-ए-मौत दे दी।

भूपत सिंह चौहाण

भूपत सिंह।

भूपत सिंह के नाम से बड़े-बड़े राजा भी कांपते थे। अंग्रेज तो इनको देखकर अपना रास्ता बदल लेते थे। यही कारण था कि भूपत सिंह को 'इंडियन रॉबिनहुड' कहा जाता था। इनको पुलिस कभी पकड़ नहीं पाई। गुजरात के काठियावाड़ में रहने वाले भूपत सिंह को अंतिम समय तक न तो किसी राजा की सेना पकड़ सकी और न ही ब्रितानी फौजें।

दरअसल, भूपत के जिगरी दोस्त और पारिवारिक रिश्ते से भाई राणा की बहन के साथ उन लोगों ने बलात्कार किया जिनसे राणा की पुरानी दुश्मनी थी। जब इनसे बदला लेने राणा पहुंचा तो उन लोगों ने राणा पर भी हमला कर दिया। भूपत ने किसी तरह राणा को बचा लिया, लेकिन झूठी शिकायतों के चलते वह खुद इस मामले में फंस गया और उसे काल-कोठरी में डाल दिया गया। बस, यहीं से खिलाड़ी भूपत मर गया और डाकू भूपत पैदा हो गया।

ये भी पढ़ें- अद्भुत : 5 हजार लोगों के इस गांव में सबका जन्म 1 जनवरी को हुआ

60 के दशक में डाकू भूपत सिंह अपने तीन खास साथियों के साथ देश छोड़कर गुजरात के सरहदी रास्ते कच्छ से पाकिस्तान जा पहुंचा। कुछ समय बाद उसने वापस भारत आने का इरादा किया, लेकिन भारत-पाक पर मचे घमासान के चलते उसके लिए यह मुमकिन नहीं हुआ। अंतत: पाकिस्तान में उसने मुस्लिम धर्म अंगीकार कर लिया और अब पाकिस्तान में उसे अमीन यूसुफ के नाम से जाता जाता है। धर्म-परिवर्तन के बाद उसने मुस्लिम लड़की से निकाह किया। पाकिस्तान की धरती पर ही 2006 में उसकी मौत हो गई। उसे मुस्लिम रीति-रिवाजों से दफना दिया गया।

रंगा और बिल्ला

रंगा और बिल्ला।

रंगा और बिल्ला ने 1978 में 2 बच्चों की नृशंस हत्या कर दी थी। यह कांड देश ही नहीं, विदेश में भी खासा चर्चित हुआ था। यह दौर ही ऐसा था जबकि बच्चों की हत्या करने के मामले में कोई सोच भी नहीं सकता था, जैसे कुछ दिनों पूर्व पाकिस्तान के पेशावर के एक स्कूल में आतंकवादियों ने हमला कर 132 बच्चों की हत्या कर दी थी। आज के दौर में यह सबसे जघन्य और वीभत्स अपराध है, हालांकि अब देश में कई रंगा और बिल्ला पैदा हो गए हैं, लेकिन रंगा और बिल्ला द्वारा किए गए जघन्य कांड के बारे में आज भी लोगों को मालूम है। रंगा और बिल्ला ने एक सैन्य अधिकारी के बच्चों को अगवा कर दुष्कर्म के बाद उनको मौत के घाट उतार दिया था। केस चलने के बाद दोनों को फांसी दे दी गई।

ये भी पढ़ें- अविश्वसनीय लेकिन ये सच है, देखिए दीवारों पर कैसे होती है खेती

कुलजीत सिंह उर्फ रंगा और जसबीर सिंह उर्फ बिल्ला ने 29 अगस्त 1978 को संजय और गीता चोपड़ा का फिरौती के लिए अपहरण कर लिया। 3 दिन बाद दोनों भाई-बहनों के शव बरामद किए गए। रंगा-बिल्ला को एक ट्रेन से गिरफ्तार किया गया और 4 साल तक चली सुनवाई के बाद 1982 में उन्हें फांसी दे दी गई। दोनों बच्चों के नाम पर बाद में वीरता पुरस्कार शुरू किया गया, जो हर साल दिया जाता है।

चार्ल्स शोभराज

चार्ल्स शोभराज ।

चार्ल्स शोभराज को कौन नहीं जानता। दुनिया के सबसे शातिर और खतरनाक सीरियल किलर्स चार्ल्स शोभराज को 'बिकिनी किलर' भी कहा जाता है। माना जाता है कि 1972-1976 के बीच उसने 24 लोगों की हत्या की थी। उसकी चर्चा इसलिए भी की जाती है कि उसने दुनियाभर की पुलिस को खूब चकमा दिया। भेष बदल-बदलकर वह कई देशों का दौरा करता था। हर बार पुलिस के हाथ से बच निकलने के कारण चार्ल्स शोभराज को सर्पेंट (सांप) के नाम से भी जाना जाता था। वह 1976 से 1997 के बीच भारतीय जेल में रहा। इसके बाद उसे फ्रांस में बंदी बनाया गया। 2010 में वह भागकर नेपाल आ गया, जहां कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई। फिलहाल वह नेपाली जेल में आराम से रह रहा है।

ये भी पढ़ें- 24 साल बड़ी टीचर से शादी करने वाले फ्रांस के नए राष्ट्रपति मैक्रॉन का जीवन दिलचस्प किस्सों से है भरा

भारतीय पिता की संतान चार्ल्स शोभराज का वास्तविक नाम हतचंद भाओनानी गुरुमुख चार्ल्स शोभराज है। 1970 के दशक में दक्षिण-पूर्वी एशिया के लगभग सभी देशों में विदेशी पर्यटकों को अपना शिकार बनाने वाला चार्ल्स शोभराज चोरी और ठगी का भी माना हुआ खिलाड़ी है।

पिता का परिवार को छोड़कर जाना और माता का अन्य पुरुष के साथ विवाह कर लेने के कारण चार्ल्स शोभराज ने उपेक्षित रहकर अपना बचपन व्यतीत किया था। चार्ल्स ने पारसी युवती चंतल से प्रेम विवाह किया। दोनों ने मिलकर बंटी और बबली की तरह काम किया। चंतल से चार्ल्स को एक बेटी है। चार्ल्स की एक और प्रेमिका मैरी एंड्री थीं जिसके साथ मिलकर चार्ल्स ने कई महिलाओं को ‍अपना शिकार बनाया। 2008 में नेपाल में सजा काटने के दौरान चार्ल्स शोभराज ने अपने से बहुत छोटी आयु की नेपाली युवती निहिता बिस्वास के साथ जेल में ही विवाह संपन्न किया, हालांकि नेपाल जेल प्रशासन लगातार इस बात से इंकार करता रहा। चार्ल्स के जीवन पर अब तक 4 किताबें लिखी गईं और 3 डॉक्यूमेंट्री बन चुकी हैं।

मिस्टर नटवरलाल

पुलिस गिरफ्त में नटवरलाल।

ठगी का पर्यायवाची नाम है 'मिस्टर नटवरलाल'। नटवरलाल को कोई भी उनके असली नाम मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव से नहीं जानता। चालाकी और ठगी को ललित कला बना देने वाला यह शख्स अब इस दुनिया में नहीं है लेकिन उस पर बहुत सारी किताबें लिखी गईं और एक फिल्म बनी- ‘मिस्टर नटवरलाल’ जिसमें अमिताभ बच्चन हीरो थे। 'दो और दो पांच', 'हेराफेरी' और हाल ही है बनी फिल्म 'राजा नटवरलाल' जैसी फिल्में भी उसके जीवन से प्रेरित हैं। देश के सारे ठग नटवरलाल का नाम बड़ी इज्जत से लेते हैं।

ये भी पढ़ें- कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा, ये तो पता चल ही गया, लेकिन अब ये भी जान लीजिए कि क्यों बनेगी बाहुबली 3

नटवरलाल की प्रसिद्धि इसलिए भी है कि उसने ताजमहल, लाल किला, राष्ट्रपति भवन और संसद भवन को वास्तविक जीवन में बेच दिया था। अमीर लोगों ने उसकी बातों पर यकीन भी कर लिया। खुद नटवरलाल ने एक बार भरी अदालत में कहा था कि 'सर, अपनी बात करने की स्टाइल ही कुछ ऐसी है कि अगर 10 मिनट आप बात करने दें तो आप वही फैसला देंगे, जो मैं कहूंगा।'

बिहार के सीवान जिले के जीरादेई गांव में जन्मे नटवरलाल ने बहुत सी ठगी की घटनाओं से बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और दिल्ली की सरकारों को वर्षों परेशान रखा। नटवरलाल पर 52 से अधिक मामले दर्ज थे। लगभग 75 साल की उम्र में दिल्ली की तिहाड़ जेल से कानपुर के एक मामले में पेशी के लिए उत्तरप्रदेश पुलिस के दो जवान और एक हवलदार उसे लेने आए थे। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से लखनऊ मेल में उन्हें बैठना था। स्टेशन पर खासी भीड़ थी। पहरेदार मौजूद थे और नटवरलाल बेंच पर बैठा हाफ रहा था।

ये भी पढ़ें- कभी साइकिल से चलते थे बाबा रामदेव, आज अरबों में है उनकी कंपनी का कारोबार

उसने सिपाही से कहा कि बेटा बाहर से दवाई की गोली ला दो। मेरे पास पैसा नहीं है लेकिन जब रिश्तेदार मिलने आएंगे तो दे दूंगा। अब बेचारे सिपाही को क्या मालूम था कि परिवार और रिश्तेदार उसे लाइक नहीं करते थे। पत्नी की बहुत पहले मौत हो गई थी और उसकी कोई संतान नहीं थी। सिपाही दवाई लेने गया, आखिर दो पहरेदार मौजूद थे। इनमें से एक को नटवरलाल ने पानी लेने के लिए भेज दिया। बचा अकेला हवलदार तो उससे नटवर ने कहा कि भैया तुम वर्दी में हो और मुझे जोर से पेशाब लगी है। तुम रस्सी पकड़े रहोगे तो मुझे जल्दी अंदर जाने देंगे, क्योंकि मुझसे खड़ा नहीं हुआ जा रहा। उस भीड़भाड़ में नटवरलाल ने कब हाथ से रस्सी निकाली, कब भीड़ में शामिल हुआ और कब गायब हो गया, यह किसी को पता नहीं। तीनों पुलिस वाले निलंबित हुए और कहते हैं कि नटवरलाल 60वीं बार फरार हो गया।

ये भी पढ़ें- यहां है बाहुबली का राज्य माहिष्मती, काल्पनिक नहीं हैं बाहुबली के किरदार, ये रहे प्रमाण

नटवरलाल को अपने किए पर कोई पछतावा नहीं था। वह अपने आपको 'रॉबिनहुड' मानता था। कहता था कि मैं अमीरों से लूटकर गरीबों को देता हूं। उसने कहा कि मैंने कभी हथियार का इस्तेमाल नहीं किया। इसके बाद नटवरलाल का नाम 2004 में तब सामने आया, जब उसने अपनी वसीयतनुमा फाइल एक वकील को सौंपी, बलरामपुर के अस्पताल में भर्ती हुआ और इसके बाद वह एक दिन अस्पताल छोड़कर चला गया। डॉक्टरों का कहना था कि जिस हालत में वह था, उसमें उसके 3-4 दिन से ज्यादा बचने की गुंजाइश नहीं थी। उसे ठगी के जिन मामलों में सजा हो चुकी थी, वह अगर पूरी काटता तो 117 साल की थी। 30 मामलों में तो सजा हो चुकी थी, वह अगर पूरी काटता तो 117 साल की थी। 30 मामलों में तो सजा हो ही नहीं पाई थी।

चंबल की घाटी

चंबल की घाटी में बैठे डकैत।

इंदौर के पास बसे एक शहर महू से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित विंध्याचल की पहाड़ियों में इस नदी का उद्गम स्थल है। इसके बाद राजस्थान के कुछ हिस्सों को पार करते हुए चंबल मध्यप्रदेश के भिंड-मुरैना क्षेत्रों क्षेत्रों में बहती है, फिर उत्तरप्रदेश के इटावा जिले की तरफ रुख कर लेती है। पानी के कटाव से चंबल के किनारे-किनारे मीलों तक ऊंचे-ऊंचे घुमावदार बीहड़ों की संरचना हुई है। डाकू मानसिंह, तहसीलदार सिंह, मोहर सिंह, माधो सिंह : विश्‍वप्रसिद्ध है चंबल की घाटी जिसके बीहड़ों में छुपकर रहते हैं आज भी डाकू।

ये भी पढ़ें- विनोद खन्ना के बारे में वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं

पुलिस का इन बीहड़ जंगलों में घुसना बहुत ही ‍मुश्किल है। इन बीहड़ों में ही रहता था एक कुख्यात डाकू मलखान सिंह। 70 के दशक में चंबल घाटी के गांवों में आतंक का पर्याय बन चुके मलखान सिंह को पकड़ना पुलिस के लिए बहुत ही मुश्किल था। उससे भी ज्यादा उसे पकड़कर जेल में रखना मुश्‍किल था।

इनमें से कई बड़े डकैतों ने 1960 में विनोबा भावे के शांति अभियान के चलते आत्मसमर्पण किया था और बाकी पुलिस मुठभेड़ों में मारे गए। वैसे 1920 में माधवराव सिंधिया (ग्वालियर से लोकसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के परदादा) द्वारा करवाए गए 97 डकैतों के आत्मसमर्पण को चंबल के इतिहास का पहला आधिकारिक आत्मसमर्पण माना जाता है।

फूलन देवी

फूलन देवी ।

फूलन देवी के जीवन पर एक बहुत ही मशहूर फिल्म बनी है 'बैंडिट क्वीन'। फूलन देवी से दूर-दूर के गांव के रसूखदार लोग ही नहीं, डाकू भी कांपते थे। महिला डकैत फूलन देवी का जीवन बहुत ही संघर्षमय रहा लेकिन आत्मसमर्पण करने के बाद वह सांसद तक बन गई थीं। वो कभी गांव की एक आम लड़की हुआ करती थी जिसे केवल अपने परिवार से मतलब था। घर में बाहर से पानी लाना और पूरे परिवार के लिए खाना पकाना, फिर चैन की नींद सोना। बस यही उसका जीवन था। लेकिन अचानक उसके साथ हुई एक घटना ने उसे बंदूक उठाने को विवश कर दिया और चंबल के जंगलों के डाकू ही नहीं, पत्ता-पत्ता उसकी आवाज से कांपने लगा।

ये भी पढ़ें- पंचायती राज दिवस: मध्य प्रदेश के इस गाँव में कभी नहीं हुए चुनाव

दरअसल, गांव के कुछ लोगों ने फूलन देवी के साथ बलात्कार किया था। बलात्कार करने वाले कुल 11 लोग थे। इस घटना के बाद फूलन देवी का जीवन बदल गया। परिवार ने न्याय की मांग के लिए कई दरवाजे खटखटाए, लेकिन हर तरफ से उसे मायूसी ही हाथ लगी। न्याय नहीं मिलने पर मजबूर हुई फूलन देवी ने बंदूक उठा ली और डाकुओं के गिरोह में शामिल हो गई।

एक दिन फूलन अपने पूरे लाव-लश्कर के साथ गांव में पहुंची और उसके साथ बलात्कार करने वाले 11 लोगों को एक-एक कर लाइन में खड़ा कर गोलियों से भून दिया गया। वहां उसने कुल 22 लोगों की हत्या की।

साल 1981 में फूलन तब चर्चा में आईं जब उनके गिरोह पर बेहमई में सवर्ण जातियों के 22 लोगों की हत्या का आरोप लगा। ऐसा करने के बाद फूलन देवी देश ही नहीं, बल्कि पूरे विदेश में भी चर्चित हो गई। साल 1983 में इंदिरा गांधी सरकार ने उसके सामने आत्मसमर्पण करने का प्रस्ताव रखा। 1994 में मुलायम सिंह यादव की सरकार ने उसे रिहा कर दिया।

ये भी पढ़ें- कृषि क्षेत्र में नई क्रांति ला सकती है नैनो बायोटेक्नोलॉजी

1996 में फूलन देवी ने समाजवादी पार्टी के टिकट पर उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत गई। 1998 में वह चुनाव हार गई लेकिन 1999 में फिर से जीतकर दोबारा संसद पहुंची। 2001 में शेरसिंह राणा ने दिल्ली में फूलन देवी की उनके आवास पर गोली मारकर हत्या कर दी। जब फूलन की हत्या की गई तब वह मिर्जापुर से सांसद थी। फूलन की मौत को एक राजनीतिक साजिश भी माना जाता है। उनके पति उम्मेद सिंह पर भी आरोप लगे थे, लेकिन वे साबित नहीं हो सके थे।

वीरप्पन

साउथ के बड़े फिल्म अभिनेता राजकुमार का वरिप्पन ने अपहरण कर लिया था।

बड़ी-बड़ी मुछों वाले चंदन तस्कर वीरप्पन को पकड़ने के चक्कर में कई पुलिस वाले और जवान शहीद हो गए। दक्षिण भारत के कुख्‍यात 'वीरप्पन' के नाम से प्रसिद्ध कूज मुनिस्वामी वीरप्पन का जन्म गोपीनाथम नामक गांव में 1952 में एक चरवाहा परिवार में हुआ था। कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल के जंगलों में था वीरप्पन का राज। तीनों ही राज्यों की पुलिस उसको पकड़ने के लिए अभियान चला रही थी।

ये भी पढ़ें- क्रिकेट का एक गुमनाम हीरो “बालू”, जिसपर तिग्मांशु धूलिया बना रहे फिल्म

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और वन अधिकारियों समेत 184 लोगों की हत्या, 200 हाथियों के शिकार, 26 लाख डॉलर के हाथीदांत की तस्करी और 2 करोड़ 20 लाख डॉलर कीमत की 10 हजार टन चंदन की लकड़ी की तस्करी से जुड़े मामलों में पुलिस को वीरप्पन की तलाश थी। हालांकि कुछ लोग कहते हैं कि उसने लगभग 2,000 हाथियों की हत्या की थी। चंदन की तस्करी के अतिरिक्त वह हाथीदांत की तस्करी, हाथियों के अवैध शिकार, पुलिस तथा वन्य अधिकारियों की हत्या व अपहरण के कई मामलों का भी अभियुक्त था।

कहा जाता है कि उसने कुल 2,000 हाथियों को मार डाला, पर उसकी जीवनी लिखने वाले सुनाद रघुराम के अनुसार उसने 200 से अधिक हाथियों का शिकार नहीं किया होगा। बड़ी मुश्‍किलों के बाद 1986 में वीरप्पन को एक बार पकड़ लिया गया था लेकिन वह भाग निकलने में सफल रहा। उसने एक चरवाहा परिवार की कन्या मुत्थुलक्ष्मी से 1991 में शादी की। उसकी 3 बेटियां थीं- युवरानी, प्रभा तथा तीसरी के बारे में कहा जाता है ‍कि वीरप्पन ने ही उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी थी। 1993 में पुलिस ने उसकी पत्नी मुत्थुलक्ष्मी को गिरफ्तार कर लिया। अंतत: 18 अक्टूबर 2004 को उसे मार गिराया गया। उसकी मौत पर कई तरह के विवाद हैं।

दाऊद इब्राहीम और छोटा राजन

दाऊद इब्राहीम

दाऊद इब्राहीम।

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम प्रारंभ में फिरौती, जालसाजी, धोखाधड़ी, तस्करी, नशे का व्यापार, हफ्ता वसूली के लिए ही कुख्‍यात था, लेकिन 1992 में बाबरी ढांचा विध्वंस होने के बाद उसने बदले की भावना से मुंबई में एक बम हमला करवाकर 257 लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इस धमाके में 700 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। इसके बाद से ही वह भारत का 'मोस्ट वॉन्टेड' बन गया। कहते हैं कि उसको पाकिस्तान भागने में भारत के राजनीतिज्ञों ने ही मदद की थी। सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई बम धमाकों के मामले में दाऊद इब्राहीम, उसके भाई अनीस इब्राहीम और टाइगर मेमन को साजिशकर्ता माना है। फिल्म अभिनेता संजय दत्त को इन धमाकों के दौरान ही अपने पास हथियार रखने के जुर्म में देश के सुप्रीम कोर्ट ने 5 साल कैद की सजा सुनाई है। संजय इस वक्त पुणे की यरवडा जेल में हैं।

ये भी पढ़ें- आने वाली जेनरेशन को भरपेट खाना मिलता रहे इसलिए 7 चीजें खानी बंद करनी होंगी

भारतीय जांच अधिकारियों के मुताबिक़ दाऊद इब्राहीम का जन्म महाराष्ट्र के रत्नागिरि शहर में हुआ था। करीम लाला की गैंग से जुड़कर 1980 के दशक में 'दाऊद' नाम मुंबई अपराध जगत में बहुत तेजी से उभरा और कहा जाता है कि फिल्म जगत से लेकर सट्टे और शेयर बाजार में वह दखल रखने लगा। पुलिस के मुताबिक दाऊद इब्राहीम विदेश में बैठा हुआ भी भारत में कई वारदातों को अंजाम देने का हुक्म देता है।

छोटा राजन

पुलिस गिरफ्त में छोटा राजन।

फिरौती, जालसाजी, धोखाधड़ी, तस्करी आदि के मामले में छोटा राजन को पकड़ने के लिए जब मुंबई पुलिस ने अभियान चालाया तो वह सिंगापुर भाग गया। कई बार उसकी मौत की खबर आई लेकिन वह एक अफवाह ही साबित हुई। बाद में प्रत्यार्पण के बाद उसे भारत लाया गया। छोटा राजन का असली नाम है राजन सदाशिव निखालजे। राजन ने जब मुंबई के अपराध जगत में कदम रखा, उस समय मुंबई के एक इलाके में राजन नायर का दबदबा था। राजन निखालजे अपने आक्रामक तेवर के कारण अपराध जगत में तेजी से उभरा और कुछ समय तक राजन नायर के साथ काम भी किया। ऐसे में गिरोह के लोग राजन नायर को 'बड़ा राजन' और राजन सदाशिव निखालजे को 'छोटा राजन' के नाम से पुकारने लगे।

ये भी पढ़ें- नई तकनीकी से पानी बचा रहे चीन के किसान, कार्ड स्वैप करिए, पानी खेतों में पहुंच जाएगा

बड़ा राजन की हत्या के बाद छोटा राजन दाऊद गैंग में शामिल हो गया, लेकिन कहा जाता है कि दाऊद द्वारा धोखा दिए जाने के बाद छोटा राजन ने खुद की अलग सत्ता कायम कर ली और इस तरह मुंबई में दो गैंग बन गई जिनमें आए दिन गैंगवार होती रहती थी।

दुश्मनी की वजह पैसे को बंटवारे को लेकर थी। लेकिन दुश्मनी तब पुख्‍ता हो गई, जब राजन ने दाऊद को जानकारी दिए बिना ही शिवसेना के नगर सेवक खिम बहादुर थापा को मार दिया था। इससे दाऊद नाराज हो गया। कहा जाता है कि थापा के दाऊद से अच्छे संबंध थे। राजन को उसके दोस्त अबू सलेम ने चेताया कि वह दाऊद से सावधान रहे तभी से राजन अलग हो गया।

संतोख बेन जडेजा

संतोख बेन जडेजा।

'गॉडमदर' के नाम से प्रसिद्ध संतोख बेन जड़ेजा पर एक फिल्म भी बन चुकी है। शबाना आजमी ने इसमें लीड रोल किया है। वर्ष 1999 में प्रदर्शित फिल्म 'गॉडमदर' में शबाना आजमी ने एक ऐसी महिला का किरदार निभाया, जो अपने पति की मौत के बाद माफिया डॉन बनकर भ्रष्ट राजनीतिक व्यवस्था के विरुद्ध आवाज उठाती है और अपने पति की मौत का बदला लेती है। उसका एक बेटा है जिसका नाम कंधल जड़ेजा है।

ये भी पढ़ें- ऐसे इजराइल ने खेती को बनाया मुनाफे का सौदा: हवा को निचोड़ कर करते हैं सिंचाई, रेगिस्तान में पालते हैं मछलियां

'लेडी डॉन' के नाम से मशहूर, एक समय में आतंक का पर्याय रह चुकी और जीवन में कई घातक हमलों में बचने वाली गॉडमदर संतोख बेन जड़ेजा (63) का 5 अप्रैल 2011 को हृदयाघात से निधन हो गया। दिवंगत पति सरमणभाई मुंजाभाई जडेजा के निधन के बाद वे सार्वजनिक जीवन में आई थीं। बाद में वे गुजरात राज्य विधानसभा के कुटिया निर्वाचन (पोरबंदर) क्षेत्र से वर्ष 1989 में चुनी गईं। वे महेर समाज की पहली महिला विधायक (1989-1994) थीं। महात्‍मा गांधी के शहर पोरबंदर में एक शख्सियत ऐसी भी थी जिसके बारे में स्‍थानीय लोगों का मानना था कि उसके घर के नालों से पानी नहीं, बल्कि खून बहता था। संतोख बेन का गिरोह कथित तौर पर कम से कम 18 हत्याओं के लिए जिम्मेदार था।

ये भी पढ़ें- युद्धग्रस्त सोमालिया भीषण सूखे की चपेट में, खतरे में 62 लाख लोगों का जीवन

संतोख बेन के बेटे का नाम कंधल जडेजा है जिसकी पत्नी का नाम रेखा है। 2006 में बहू रेखा कंधल की विरोधी गिरोह ने गोली मारकर हत्या कर दी। संतोख बेन के दो बेटे करन और कंधल केशुभाई की हत्या के आरोप में हिरासत में हैं। संतोख बेन का कभी सौराष्ट्र खासकर पोरबंदर में आतंक मचा हुआ था तथा उसके नाम से पूरा गुजरात ही थर-थर कांपता था।

नोट- ऊपर दिए गए सभी तत्थ समाचार पत्रों, टीवी चैनलों, पुलिस की साइट्स और विकीपीडिया पर आधारित हैं।

Share it
Share it
Share it
Top