ये खट्टे-मीठे फल देखकर यकीनन आपके मुंह में पानी आ जाएगा ...

ये खट्टे-मीठे फल देखकर यकीनन आपके मुंह में पानी आ जाएगा ...बेंग्लुरु में रहने वाली वरिष्ठ पत्रकार वासंती हरिप्रकाश ने फेसबुक पर फल के ढेले की यह फोटो शेयर की

कभी आप कहीं घूमने गए हों और रास्ते में आपको ढेर सारे ऐसे फलों का ढेला दिख जाए जिनका नाम आप भले ही न जानते हों लेकिन इन्हें देखकर मन जरूर ललचा जाता है। फिर स्वाद की परवाह किए बिना आप इन्हें खरीदने पर मजबूर हो जाते हैं।

देश के कोने-कोने में लगातार घूमने वाले लोग जब इन फलों के बारे में कुछ लिखते हैं या फिर उनकी फोटो शेयर करते हैं लोगों की उत्सुकता बढ़ा जाती है। बेंग्लुरु में रहने वाली वरिष्ठ पत्रकार वासंती हरिप्रकाश ने फेसबुक पर एक फल वाले ढेले की फोटो शेयर की जिसमें कई फल ऐसे थे, जिनके बारे में लोगों को शायद जानकारी ही नहीं थी। उन्होंने अपने स्टेटस पर इसका नाम बताने के लिए कहा। लोगो‍ं ने कई जवाब भी दिए जिनमें कुछ सही और गलत भी थे।

हालांकि इस फल का नाम मैंगोस्टीन है जो अपने खूबसूरत झरनों के लिए प्रसिद्ध कुत्ररालम में पाया जाता है।

ये भी पढ़ें: वो कलाकार जिसका सिर्फ इतना परिचय ही काफी है- बनारसी गुरु और बांसुरी

मुंबई में महालक्ष्मी मंदिर के बाहर ऐसे कई फल वाले अक्सर फल बेजते नजर आते हैं। फोटो- अरविंद शुक्ला

लखनऊ में रहने वाली साधना शुक्ला दो साल पहले मुंबई गई थीं, वो बताती हैं, "मुंबई में काफी कुछ देखने वाला था.. समुद्र, बीच सब अच्छा लगा लेकिन महालक्ष्मी मंदिर के बाहर जमीन पर बैठ कर कुछ महिलाएं इमली समेत कई चटफटे फल बेच रही थी, जिन्हें देखऩा ही अच्छा लगा था।"

इऩ टोकरियों में बेर, इमली, अमरख, समेत कई फल होते हैं।

गांव कनेक्शन के कंसेल्टिंग एडिटर दीपक आचार्य अक्सर लुप्त होती औषधियां और गुमनाम फलों के बारे में लिखते रहते हैं। इस पर वह कहते हैं, सच बात ही तो है, क्या कभी आपने सुपरमॉल या डिपार्टमेंटल स्टोर्स पर गुंदी, पकी इमली, जंगल जलेबी, हरफरोड़ी, फालसा, आंवला, तेंदू, कमरख जैसे फलों को बिकते देखा है? आपने जो देखा है वो सेब, माल्टा, कीवी, चेरी और स्ट्राबेरी हैं। तो क्या हम ये मान लें कि हमने विरासत में मिले इन देशी फलों को लगभग पूरी तरह से नकार दिया है?

ये भी पढ़ें: अपने वजूद की लड़ाई लड़ते देशी फल

पेशे से पत्रकार छत्तीसगढ़ में रहने वाले पुरुषोत्तम ठाकुर सोशल मीडिया पर कई ऐसे फलों की फोटो पोस्ट करके जानकारी देते हैं, जिनके बारे में अमूनन लोग नहीं जानते हैं। पुरुषोत्तम ग्रामीण पत्रकार हैं और वहां अधिकतर गांव से ही फलों की फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.