अमेरिकी पत्रकार ने एमजे अकबर पर लगाया रेप का आरोप, अकबर बोले, आपसी सहमति से बने संबंध

अमेरिका के एक प्रमुख मीडिया हाउस की संपादक ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर 23 साल पहले भारत में अपने साथ बलात्कार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रतिभाशाली पत्रकार ने एक अखबार का प्रधान संपादक होने के नाते अपने पद का इस्तेमाल कर उनका यौन शोषण किया।

अमेरिकी पत्रकार ने एमजे अकबर पर लगाया रेप का आरोप, अकबर बोले, आपसी सहमति से बने संबंध

वाशिंगटन। अमेरिका के एक प्रमुख मीडिया हाउस की संपादक ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर 23 साल पहले भारत में अपने साथ बलात्कार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रतिभाशाली पत्रकार ने एक अखबार का प्रधान संपादक होने के नाते अपने पद का इस्तेमाल कर उनका यौन शोषण किया। वहीं, इन आरोपों पर अकबर ने कहा कि यह करीब 1994 की बात है जब हमारे बीच आपसी सहमति से रिश्ता बना था।

अकबर के खिलाफ कई महिलाओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। फिलहाल वाशिंगटन स्थित अमेरिकी मीडिया संगठन नेशनल पब्लिक रेडियो (एनपीआर) की बिजनेस डेस्क की मुख्य संपादक पल्लवी गोगोई ने अकबर के खिलाफ बलात्कार के आरोप लगाए हैं। गोगोई ने द वाशिंगटन पोस्ट में एक लेख में अपनी जिंदगी के सबसे कष्टकारी क्षणों के बारे में विस्तार से लिखा है।

रक्तरंजित : परिवार अक्सर खुद ही दबाते हैं बलात्कार के मामले

अकबर के वकील संदीप कपूर ने कहा, मेरे मुवक्किल इन आरोपों को झूठा बताते हैं और स्पष्ट रूप से इससे इनकार करते हैं। गोगोई ने कहा कि उस समय एशियन एज अखबार के प्रधान संपादक अकबर एक प्रतिभाशाली पत्रकार थे लेकिन उन्होंने अपने पद का इस्तेमाल कर उनका यौन शोषण किया। उन्होंने कहा, मैं जो साझा कर रही हूं वे मेरे जीवन के सबसे कष्टदायी पल हैं। मैंने 23 वर्षों तक उन्हें दबा कर रखा।



उन्होंने इस बारे में विस्तार से बताया कि कैसे अकबर ने नयी दिल्ली से मुंबई-जयपुर-लंदन तक एशियन एज में काम करते हुए वर्षों तक उनका शारीरिक तथा मानसिक शोषण किया। गोगोई ने बताया कि जब उन्होंने एशियन एज में काम करना शुरू किया तब उनकी उम्र 22 साल थी। वह अकबर के व्यक्तित्व से प्रभावित थीं। उनकी भाषा, मुहावरों का इस्तेमाल करने के उनके तरीके से प्रभावित थीं और इसलिए उन्होंने सभी अपशब्द सहे।

हावभाव और हरकतों से पहचाने जा सकते हैं महिलाओं के प्रति गलत सोच रखने वाले लोग

गोगोई 23 साल की उम्र में ओपेड पेज की संपादक बनी जो इतनी कम उम्र में एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी। पत्रकार ने आरोप लगाया, लेकिन मुझे अपनी पसंदीदा नौकरी के लिए जल्द ही बड़ी कीमत चुकानी पड़ी। यह 1994 की गर्मियों का वक्त रहा होगा और मैं उनके ऑफिस में गई। उनका दरवाजा अक्सर बंद रहता था। मैं उन्हें ओपेड पेज दिखाने गई जो मैंने बनाया था। उन्होंने मेरी कोशिश की सराहना की और अचानक मुझे चूमने के लिए झपट पड़े। मैं लड़खड़ा गई। मैं ऑफिस से बाहर निकल आई। मेरा चेहरा लाल था, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, मैं शर्मिंदा और बहुत टूटी हुई महसूस कर रही थी।

उन्होंने दावा किया कि एक खबर के सिलसिले में वह जयपुर गई। जब वह वापस आने लगीं तो अकबर ने कहा कि वह जयपुर में उनके होटल में अपनी खबर पर चर्चा करने के लिए आ सकती हैं। गोगोई ने कहा, उनके होटल के कमरे में मैंने विरोध किया लेकिन वह शारीरिक रूप से अधिक शक्तिशाली थे। उन्होंने मेरे कपड़े फाड़ दिए और मेरा बलात्कार किया। उन्होंने कहा कि पुलिस में शिकायत करने के बजाय वह शर्म महसूस कर रही थीं। उन्होंने कहा, मैंने तब इसके बारे में किसी को नहीं बताया। क्या कोई मुझपर यकीन करता? मैंने अपने आप को जिम्मेदार ठहराया।

साभार: एजेंसी

रक्तरंजित पार्ट- 7: बलात्कार रोकने के लिए सिर्फ कड़े कानून काफी नहीं, जल्द कार्रवाई जरुरी


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top