Top

कर्ज वसूली के लिए अपने साथ ले जा रही थी राजस्व टीम, किसान ने जहर खाकर दी जान

कर्ज वसूली के लिए अपने साथ ले जा रही थी राजस्व टीम, किसान ने जहर खाकर दी जान

बाराबंकी (लखनऊ)। कर्ज में डूबे एक और किसान ने आत्महत्या कर ली है। खबर उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले की है। किसान जगजीवन वर्मा (55) को 27 फरवरी को नायब तहसीलदार हैदरगढ़ की टीम अपने साथ वसूली के लिए ले जा रही थी जहां रास्ते में ही उन्होंने कोई जहरीला पदार्थ खा लिया। ईलाज के लिए उन्हें लखनऊ के लोहिया अस्पताल भेजा गया जहां से 28 फरवरी की शाम को वापस बाराबंकी के जिला अस्पताल में लाया गया जहां उनकी मौत हो गई।

बारांबकी के कोठी थाना क्षेत्र मवैया के किसान जगजीवन वर्मा पर लगभग 40 लाख रुपए का कर्ज था। कर्ज न चुका पाने के कारण केनरा बैंक जैदपुर, कार्पोरेशन बैंक बाराबंकी और इंडियन बैंक शाखा सतरही ने आरसी जारी कर दी थी। गुरुवार (27 फरवरी) को नायब तहसीलदार हैदरगढ़ अभिषेक यादव के नेतृत्व में राजस्व टीम कर्ज वसूलने के लिए गांव पहुंची थी।

बाराबंकी जिलाध्यक्ष डॉ आदर्श सिंह ने बताया, "जब राजस्व की टीम ने उन्हें अपने साथ ले जा रही थी तभी उन्होंने जहरीला पदार्थ खा लिया था। हालत बिगड़ने पर टीम उन्हें सीएचसी ले गई थी जहां से उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। इसके बाद लखनऊ के लोहिया अस्पताल भेजा गया। फिर परिवार के लोगों को उनका ईलाज किसी निजी अस्पताल में कराया, लेकिन जब स्थिति नहीं सुधरी तो उन्हें वापस बाराबंकी के जिला अस्पताल लाया गया जहां 28 फरवरी को उनकी मौत हो गई। किसान के ऊपर कई बैंकों का कर्ज था।"

हालांकि किसान के बेटे चंद्रेश राजस्व की टीम को दोषी मानते हैं। वे कहते हैं, " जिस वक्त टीम उन्हें अपने साथ ले गई थी उस समय उनके पास कुछ नहीं था। जहरीला पदार्थ कहां से आया और किसने दिया इसकी जानकारी हम लोगों को नहीं है। राजस्व टीम के लोगों ने काफी उत्पीड़न किया जिस कारण उनकी मौत हुई।"

इस मामले में ग्राम प्रधान सादुल्लापुर बद्री विशाल कहते हैं, "जगजीवन क्षेत्र में काफी सम्मानित व्यक्ति थे। गांव वालों के सामने राजस्व टीम ने उन्हें काफी भला-बुरा कहकर जलील किया था। टीम ने तो उनसे यहां तक कहा था कि कर्जा न अदा कर सकते हो तो जहर खा लो। मुझे तो लगता है कि टीम ने ही उन्हें जहर दिया जिसकी वजह से हालत बिगड़ी और मौत हो गई।"

बाराबंकी से दिपक सिंह की रिपोर्ट

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.