छत्तीसगढ़ में एलईडी बल्बों से सालाना 379 करोड़ रुपये की बचत

छत्तीसगढ़ में एलईडी बल्बों से सालाना 379 करोड़ रुपये की बचतएलईडी बल्बों से सालान 379 करोड़ रुपये की बचत।

रायपुर (आईएएनएस)। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बुधवार को मंत्रालय (महानदी भवन) में राष्ट्रीय उजाला योजना के तहत एलईडी बल्ब वितरण की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि एलईडी बल्ब वितरण के उत्साहजनक नतीजे मिलने लगे हैं। लोगों के घरों में बिजली की अच्छी बचत होने लगी है।

प्रतिदिन सबसे ज्यादा मांग (पीक डिमांड) के समय राज्य में इन बल्बों के कारण बिजली की खपत में लगभग 190 मेगावाट की कमी आई है। इससे सालाना 379 करोड़ रुपये की बचत हो रही है। अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि प्रदेश में विद्युत उपभोक्ताओं को अब तक 72 लाख 90 हजार एलईडी बल्ब दिए जा चुके हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उल्लेखनीय है कि नौ वाट के एक एलईडी बल्ब से 100 वाट के बराबर रोशनी होती है। बिजली का मीटर भी कम रफ्तार से घूमता है और बिजली का बिल कम आता है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने 13 मार्च 2016 को राजनांदगाँव में इस योजना का शुभारंभ किया था।

डॉ. सिंह ने मंत्रालय में आज की समीक्षा बैठक में अधिकारियों से कहा कि शेष उपभोक्ताओं को भी जल्द से जल्द एलईडी बल्ब वितरित कर दिए जाएं। उन्होंने कहा कि योजना के अन्तर्गत इस वर्ष 2 अक्टूबर तक बी.पी.एल. श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं को शत-प्रतिशत एल.ई.डी. बल्ब का नि:शुल्क वितरण कर दिया जाए।

उन्होंने अधिकारियों को नगरीय निकायों में भी इस वर्ष दिसंबर माह तक एलईडी स्ट्रीट लाईट के निर्देश दिए। डॉ. सिंह ने कहा - शहरी क्षेत्रों में एल.ई.डी. बल्ब के वितरण के लिए मोहल्लों में विशेष शिविर भी आयोजित किए जाएं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top