जेल के दिनों को याद कर रो पड़ीं साध्‍वी प्रज्ञा, कहा- मुझे दिन-रात पीटा जाता था

जेल के दिनों को याद कर रो पड़ीं साध्‍वी प्रज्ञा, कहा- मुझे दिन-रात पीटा जाता था

लखनऊ। मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के टिकट पर साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर चुनाव लड़ रही हैं। गुरुवार को उन्‍होंने आरोप लगाया कि जेल में उनके साथ मारपीट की गई। वो इस घटना को याद करते हुए रो पड़ीं। साध्‍वी प्रज्ञा ने कहा, ''मुझे दिनभर पीटा जाता था, पीटने वाले बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली मैं एक ही रहती थी।''

प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, ''जब मुझे गैर कानूनी तरीके से लेकर गए तो 13 दिन तक रखा। पहले ही दिन बिना कुछ पूछे हुए उन्‍होंने मुझे पीटा। बेल्‍ट से पीटा, एक बेल्‍ट से हाथ सूज जाता है, अगर दूसरा बेल्‍ट पड़ता है तो आपके हाथ फट जाएगा। यह जो बेल्‍ट मारते थे तो पूरा नर्वस सिस्‍टम ढीला पड़ जाता था, सुन्‍न पड़ जाता था, और यह दिन और रात पीटते थे।''

प्रज्ञा ठाकुर ने आगे कहा, मैं आपके सामने अपनी पीड़ा नहीं बता रही हूं लेकिन इतना कह रही हूं कि और कोई बहन आज के बाद कभी इस पीड़ा का सामना न करे। पीटते-पीटते इतनी गंदी गालियां देते थे, उल्‍टा लटका देंगे, तुझे निर्वस्त्र करेंगे, असहनीय है मेरे लिए कहना।''

उन्होंने कहा ''मुझे दिनभर पीटा जाता था, पीटने वाले बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली मैं एक ही रहती थी। 24 दिनों तक सिर्फ पानी दिया था, अन्न का एक दाना तक नहीं दिया गया।''

साध्‍वी प्रज्ञा ने बताया कि उनके खिलाफ साजिश रची गई है। उन्‍होंने कहा, ''मेरे खिलाफ साजिश रची गई थी। मुझे जेल में बहुत प्रताड़ित किया गया। पीटने वाले मुझसे जबरन झूठ बुलवाते थे। कुछ लोग चाहते हैं कि मुझे फांसी पर लटका दिया जाए, लेकिन एनआईए ने कहा कि मैं आतंकवादी नहीं हूं।''

बता दें, प्रज्ञा ठाकुर ने बुधवार को भाजपा की सदस्यता ली थी और इसके बाद बीजेपी ने उन्हें भोपाल से उम्मीदवार बनाया है। वह 23 अप्रैल को भोपाल से अपना नामांकन करेंगी। बीजेपी से टिकट मिलने के बाद उन्होंने प्रचार शुरू कर दिया है।

हालांकि उनकी उम्‍मीदवारी को लेकर सवाल भी खड़े हो रहे हैं। मालेगांव बम धमाकों के एक पीड़ित के पिता ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के भोपाल से चुनाव लड़ने के खिलाफ एनआईए कोर्ट में अर्जी दाखिल की है। न्‍यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीड़ित के पिता ने अर्जी में एनआईए कोर्ट के सामने साध्वी की सेहत का हवाला देते हुए उनकी उम्मीदवारी पर सवाल उठाया गया है। दरअसल, इसकी बड़ी वजह यह है कि साध्वी प्रज्ञा की जामनत अर्जी में उनके स्वास्थ्य का हवाला दिया गया था।

Share it
Top