मध्य प्रदेश: सेनेटरी नैपकिन को जीएसटी मुक्त करने के लिये छात्रों ने चलाया अभियान

मध्य प्रदेश: सेनेटरी नैपकिन को जीएसटी मुक्त करने के लिये छात्रों ने चलाया अभियानसाभार: इंटरनेट।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में स्टूडेंट्स से सेनेटरी नैपकिन को टैक्स फ्री करने के लिये एक अनोखा अभियान चलाया है। उन्होंने फैसला लिया कि नैपकिन पर संदेश लिखकर 1000 से अधिक नैपकिन और पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री को भेजेंगे।

इस अभियान में उन्होंने महिलाओं को सेनेटरी नैपकिन पर मासिक धर्म की स्वच्छता पर अपने विचार लिखने के लिये प्रोत्साहित किया गया। इस अभियान की शुरूआत 4 जनवरी को की गई। इस अभियान के लिये सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों का समर्थन मिल रहा है। स्कूल के छात्र हरि मोहन के हवाले से आज तक ने बताया सेनेटरी नैपकिन को 12 प्रतिशत जीएसटी के तहत रखा गया है।

ये भी पढ़ें- माहवारी के दौरान पेड लीव : क्या लड़कियां उठा पाएंगी इसका फायदा ?

ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाएं मासिक धर्म के दिनों में सेनेटरी नैपकिन के अलावा अन्य चीजों का भी इस्तेमाल करती हैं जो उनके स्वास्थ्य के लिये घातक साबित हो सकता है। सेनेटरी नैपकिन को सब्सिडी देने के बजाय लग्जरी आइटम के तहत रखा गया है। इस अभियान के तहत 3 मार्च तक सरकार को 1000 पैड भेजने का लक्ष्य है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित खबरें- क्यों चाहती हैं महिलाएं माहवारी के दौरान एक दिन की ‘पेडलीव’

माहवारी स्वच्छता प्रबंधन है ज़रूरी, झारखंड के इस ज़िले में लड़कियों को किया जा रहा जागरूक

माहवारी : पुरुषों के लिए भी समझना जरुरी है महिलाएं किस दर्द से गुजरती हैं...

Tags:    Sanitary Pads 
Share it
Share it
Share it
Top