‘राजपूत गौरव की शान का गुणगान करने वाली फिल्म है पद्मावत’

‘राजपूत गौरव की शान का गुणगान करने वाली फिल्म है पद्मावत’करनी सेना चीफ लोकेंद्र सिंह कल्वी।

मुंबई। फिल्म 'पद्मावत' को लेकर मचे राजनीतिक बवाल के बावजूद फिल्म राष्ट्रीय स्तर पर रिलीज होगी। अदाकारा दीपिका पादुकोण ने उम्मीद जताई है कि फिल्म बॉक्स-ऑफिस पर धमाकेदार प्रदर्शन करेगी। तो इसके जवाब में कानपुर क्षत्रिय महासभा ने घोषणा की कि जो भी दीपिका पादुकोण की नाक काटेगा, उसे नकद पुरस्कार दिया जाएगा। मल्टीप्लेक्स संस्था ने कहा कि फिल्म चार राज्यों में नहीं दिखाई जाएगी। कई राजनीतिक दलों कांग्रेस, आप ने फिल्म का विरोध करने वाले की निंदा की है। फिल्म को जब बुधवार को दिल्ली और मुंबई के पत्रकारों को दिखाया गया तो उन्होंने कहा राजपूत गौरव की शान का गुणगान करने वाली फिल्म है।

एचटी मोस्ट स्टाइलिश अवॉर्ड 2018 समारोह में दीपिका पादुकोण

'पद्मावत' के रिलीज पर दीपिका पादुकोण से जब यह पूछा गया कि वह लगातार विरोध कर रहे लोगों को क्या संदेश या जवाब देना चाहेंगी, उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि हर चीज का एक समय होता है और फिल्म खुद बोल रही है क्योंकि ज्यादातर ने हमारी फिल्म (स्क्रीनिंग और प्रेस शो के माध्यम से) को अभूतपूर्व प्रतिक्रिया दी है।"

ये भी पढ़ें- पद्मावत: कलाकारों के बीच परदे पर दिखी बेजोड़ अभिनय करने की लड़ाई

उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि हम किसी को भी सबसे बेहतर जवाब अपने काम से दे सकते हैं। हम रिलीज को लेकर बहुत उत्साहित और अभिभूत हैं।" दीपिका ने एचटी मोस्ट स्टाइलिश अवॉर्ड 2018 समारोह से इतर कहा, "मैं इस समय बहुत भावुक हूं। मैं कभी बॉक्स ऑफिस की कमाई को लेकर उत्साहित नहीं होती लेकिन इस बार हूं। मुझे लगता है फिल्म की कमाई धमाकेदार होगी।"

ये भी पढ़ें- इतिहास का साहित्य, जायसी का पद्मावत

उन्होंने कहा, "'पद्मावत' की रिलीज हम सभी के लिए एक बड़ा दिन है। हमारी टीम की ओर से, मैं पूरी मीडिया को इस दौरान अपना समर्थन देने के लिए धन्यवाद देना चाहती हूं। मुझे लगता है कि यह हमारे लिए जश्न मनाने और फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर अद्भुत प्रदर्शन करते देखने का समय है।"

दीपिका पादुकोण की नाक काटने वाले को इनाम : क्षत्रिय महासभा

कानपुर क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष गजेंद्र सिंह राजावात ने कहा, ''हमने कानपुरवासियों से इनाम के तौर पर करोड़ों रुपए की धनराशि एकत्र की है और जो भी दीपिका पादुकोण की नाक काट कर लाएगा उसे यह इनाम की धनराशि दी जाएगी।''

ये भी पढ़ें- इस गांव में पक्षियों की भाषा में बात करते हैं लोग, यूनेस्को की हेरीटेज लिस्ट में शामिल

मल्टीप्लेक्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कहा कि फिल्म का प्रदर्शन राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और गोवा में नहीं करेंगे। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में भी फिल्म के प्रदर्शन पर आशंका है। जम्मू में सिनेमा हॉल में प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की।

सिनेमाघरों में देशव्यापी जनता कर्फ्यू लगाया जाएगा : कालवी

श्रीराजपूत करणी सेना के संरक्षक लोकेन्द्र सिंह कालवी ने कहा कि फिल्म पद्मावत की सिनेमाघरों में प्रदर्शन रोकने के लिए किसी भी सूरत में देशव्यापी जनता कर्फ्यू लगाया जाएगा। कालवी ने पद्मावत के प्रदर्शन से पहले करणी सेना के सदस्यों के फिल्म देखने की खबरों को खारिज कर दिया। कालवी ने दावा किया कि विवादित फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के बीच सपने का दृश्य मौजूद है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कालवी ने आरोप लगाया कि उन्हें और अन्य नेताओं को गिरफ्तार किया जा सकता है और गोली चलाई जा सकती है, लेकिन राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, और मध्यप्रदेश में फल्मि के विरोध में प्रदर्शन जारी रहेगा।

ऐसा कुछ नहीं है कि राजपूतों की नाक कटे

फिल्म पद्मावत 165 मिनट की है, इसमें शाहिद ने महारावल रतन सिंह, दीपिका ने महारानी पद्मावती और रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी की भूमिकाएं निभाई हैं। वास्तव में यह फिल्म राजपूत करणी सेना की तरह राजपूतों के सम्मान की ही बात करती है। यह फिल्म 16वीं सदी के कवि मलिक मुहम्मद जायसी की रचना पद्मावत पर आधारित है।

करणी सेना ने पद्मावती के लोगों के सामने राजस्थानी लोक नृत्य घूमर करने पर आपत्ति जताई थी लेकिन इस गीत से पहले डायलाग हुकुम के सिवा घूमर पर कोई नहीं आ सकता, उनकी इस आपत्ति को खारिज करता है। दीपिका ने पद्मावती की भूमिका निभाते हुए कई दमदार डायलाग बोले हैं जिसमें एक राजपूती कंगन में उतनी ही ताकत होती है जितनी राजपूती तलवार में है। इस फिल्म को बुधवार को दिल्ली और मुंबई में पत्रकारों को दिखाया गया था।

सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने के प्रयास चिंताजनक : डॉ. भगवती प्रकाश

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तर पश्चिम क्षेत्र संघचालक डॉ. भगवती प्रकाश ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृढ़ मत है कि हमारे स्मृति-शेष वीरों व वीरांगनाओं को मनोरंजन के व्यापार का माध्यम बनाने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के वीर वीरांगनाओं के जीवन प्रसंगों पर अपुष्ट, विवादास्पद व काल्पनिक जानकारियों के आधार पर फिल्म प्रदर्शन कर जन भावनाओं को आहत व उद्वेलित कर सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने के प्रयास गम्भीर रूप से चिन्ताजनक हैं।

ये भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस विशेष : इस बार भी राजपथ पर नहीं दिखेगी यूपी की झांकी 

प्रकाश ने बताया की अलाउद्दीन खिलजी ने गुजरात, सूरत, सोमनाथ, खम्भात, जैसलमेर, रणथम्भौर, चित्तौड़गढ़ (मेवाड़) मालवा, उज्जैन, धारानगरी, चन्देरी, जालौर, देवगिरी, तेलगांना, होयसल आदि अनेक राज्यों को लूटा, रौंदा, हजारों वीरों, स्त्रियों व पुरूषों को बन्दी बनाया, उन्हें गुलामों का जीवन जीने को विवश किया, रानी कमलादेवी व राजकुमारी देवल जैसी भारतीय रानियों व राजकुमारियों से स्वयं व अपने पुत्र व सेनापतियों से बलात निकाह कराया।

सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका दायर

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। अब एक वकील ने फिर से उच्चतम न्यायालय में इस फिल्म के खिलाफ याचिका दायर कर दी है। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने 29 जनवरी को इस नई याचिका पर सुनवाई के लिए सहमति जताई है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस पीठ में न्यायमूर्ति ए एम खनविलकर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूण भी हैं। पहले के अपने दो प्रयासों में विफल रहे वकील एम एल शर्मा ने अपनी नयी याचिका में पिछले साल 20 नवंबर को शीर्ष अदालत की ओर से दिए गए उस आदेश का हवाला दिया है जिसमें न्यायालय ने इसे कुछ विवरण निकालने को कहा था। यह आदेश भी शर्मा की याचिका पर ही आया था।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top