11 अप्रैल को योगी सरकार की दूसरी कैबिनेट बैठक, कई बड़े फैसलों पर लग सकती है मुहर

11 अप्रैल को योगी सरकार की दूसरी कैबिनेट बैठक, कई बड़े फैसलों पर लग सकती है मुहरमुख्यमंत्री की अध्यक्षता में 11 अप्रैल को होगी अगली कैबिनेट बैठक।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की होने वाली दूसरी कैबिनेट मीटिंग की तारीख तय हो चुकी है। 11 अप्रैल को यह कैबिनेट मीटिंग रखी गई है। तीन दिन बाद बोने वाली इस बैठक में यूपी मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी की तरफ से काफी अहम और बड़े फैसले लिए जा सकते हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने योगी सरकार की इस कैबिनेट मीटिंग की जानकारी दी। सिद्धार्थनाथ ने बताया कि ये मीटिंग विकास के कामों में तेजी लाने के लिए की जा रही और साथ में कुछ खास योजनाओं पर भी फैसला लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश की योजनाओं में जिस तरह की रफ़्तार होनी चाहिए, वह नहीं है, बल्कि अबतक बहुत धीमी थी। इसलिए उसपर विशेष ध्यान दिया जाएगा जिससे राज्य का विकास कम समय में तेजी से हो।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, “सीएम ने कहा है कि योजनाएं देर में पूरी होती हैं तो उसकी कॉस्ट (खर्च) भी बढ़ती है। इंडस्ट्रियल टाउन और केंद्र की योजनाओं के जो इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बन रहे हैं उसपर ध्यान रखने के लिए कहा गया है।” इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने यह आदेश दिया है कि अगल-बगल इंडस्ट्रियल पार्क टाउनशिप को जल्दी क्रियान्वित किया जाए। मुख्यमंत्री का कहना है कि आने वाले समय में रेन्यूवेबल एनर्जी पर भी ध्यान दिया जाएगा। इसे दो हजार मेगावाट से बढ़ाया जाएगा जिसमें केंद्र की मदद ली जा रही है। सिद्धार्थनाथ ने बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर अभी विस्तार से बात नहीं हुई है। होने वाली अगली बैठक में इस संबंध में विभाग के लोग आदित्यनाथ योगी को विस्तार से जानकारी देंगे।

4 अप्रैल को की गई थी पहली कैबिनेट बैठक

इससे पहले मुख्यमंत्री आदित्यानाथ योगी ने अपनी पहली कैबिनेट की बैठक यूपी में भाजपा सरकार बनने के दो हफ्ते बाद (4 अप्रैल) रखी थी जिसमें किसानों के हित में अहम फैसला लिया गया था। इस बैठक में उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के दो करोड़ से ज्यादा लघु एवं सीमांत किसानों का एक लाख रुपए तक का फ़सली कर्ज माफ किया गया था। किसानों का कुल 30, 729 करोड़ रुपए का कर्ज माफ किया गया। चूंकि ये किसान बड़ा ऋण नहीं लेते, इसी अंदाज़ से एक लाख रुपए तक का ऋण उनके खाते से माफ किया गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top