शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट, केजरीवाल सरकार ने सत्ता का किया दुरुपयोग 

शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट, केजरीवाल सरकार ने सत्ता का किया दुरुपयोग अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

नई दिल्ली। दिल्ली के तत्कालीन उपराज्यपाल नजीब जंग द्वारा गठित तीन सदस्यीय शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट में केजरीवाल पर सत्ता के दुरुप्रयोग का आरोप लगाया गया है। सौ पेज की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आम आदमी पार्टी सरकार ने अपने पार्टी कार्यालय के लिए भूमि आवंटन, मंत्री सत्येंद्र जैन की बेटी की दिल्ली राज्य स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक पद पर नियुक्ति और बतौर सलाहकार बड़ी मात्रा में आप के कार्यकर्ताओं की नियुक्ति कर सत्ता का बेजा इस्तेमाल किया है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उल्लेखनीय है कि यह रिपोर्ट ऐसे वक्त में आई है जब दिल्ली में एमसीडी चुनाव होने हैं। ऐसे में दिल्ली नगर निगम के चुनावों में केजरीवाल को इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है। पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक वीके शुंगलू की अध्यक्षता वाली समिति ने केजरीवाल सरकार के फैसलों से जुड़ी 404 फाइलों की जांच कर ये रिपोर्ट बनाई है।

रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल 2015 में केजरीवाल ने सभी विभागों को एक आदेश जारी किया था। इसमें केजरीवाल ने अपने अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि वे उपराज्यपाल से परामर्श लिए बगैर उन सभी मसलों पर खुद निर्णय लें जो भारतीय संविधान के अनुच्छेद 239एए (3) के तहत दिल्ली विधानसभा को हस्तांतरित हैं।

मंत्री ने रिपोर्ट को बताया दुर्भावना से प्रेरित

दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुंगलू समिति की रिपोर्ट को ‘‘दुर्भावना से प्रेरित'' बताते हुए खारिज किया है। उन्होंने कहा कि आप सरकार ने कोई ‘‘अनियमितता'' नहीं की है। जैन ने कहा, ‘‘मैंने रिपोर्ट नहीं देखी है लेकिन जहां तक हमारी बात है हमने कोई अवैधता या अनियमितता नहीं बरती। चार अगस्त 2016 तक हमारी सरकार ने संविधान के मुताबिक काम किया है। इसके बाद उच्च न्यायालय ने इसमें कुछ संशोधन किया था।'' यही नहीं दिल्ली राज्य स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक पद पर अपनी बेटी की नियुक्ति के आरोपों को भी खारिज किया। कहा कि यह सब झूठ है, नियुक्ति की स्वीकृति केंद्र ने दी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top