Top

सिंगरौली रिलायंस ऐश डैम हादसा: मजिस्ट्रियल जांच के आदेश, पावर प्लांट के सीईओ को नोटिस

Mithilesh DharMithilesh Dhar   12 April 2020 5:30 PM GMT

सिंगरौली रिलायंस ऐश डैम हादसा: मजिस्ट्रियल जांच के आदेश, पावर प्लांट के सीईओ को नोटिस

मध्य प्रदेश के सिंगरौली में ऐश डैम हादसे की मजिस्ट्रियल जांच होगी। इसके लिए जिलाधिकारी केवीएस चौधरी ने अपर मजिस्ट्रेट बीके पांडेय को जांच अधिकारी नियुक्त किया है साथ ही सासन पावर प्लांट के सीईओ (मुख्य कार्यपालन अधिकारी) एके सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए तीन दिन के अंदर जबाव मांगा है।

शुक्रवार (10 अप्रैल 2020) को शाम लगभग चार बजे मध्य प्रदेश के जिला सिंगरौली के ग्राम पंचायत हिर्रवाह, गांव सिद्धकला के पास बने रिलायंस पावर प्लांट (सासन) का ऐश डैम टूट गया था। इस हादसे में कुल आठ लोग बह गये थे जिसमें दो लोगों को बचा लिया गया जिनका इलाज चल रहा। दो शव भी बरामद हुए, चार लोग अभी भी लापता हैं।

हादसे के तुरंत बाद जिलाधिकारी ने अपने बयान में कहा था कि इस हादसे के लिए कंपनी दोषी है जिसके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। इसी क्रम में उन्होंने ने रविवार को मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिये जिसकी रिपोर्ट 45 दिन के अंदर सौंपने होंगे। कलेक्टर ने विज्ञप्ति जारी करके कहा कि हादसे की जांच इन बिंदुओं पर होगी-

यह भी पढ़ें- सिंगरौली रिलायंस ऐश डैम हादसा: जीजा का दाह संस्कार करने के बाद नंदलाल अब भाभी, भांजे और भतीजी के शव का इंतजार कर रहे हैं

1- रिलायंस सासन पावर परयोजना का ऐश डैम टूटने की घटना किन परिस्थियों में हुई तथा इस घटना के लिए कौन जिम्मेदार है?

2- क्या रिलायंस सासन पावर परियोजना के ऐश डैम टूटने का निर्माण निर्धारित मानदंडों और गुणवत्ता के अनुरूप किया गया था ? यदि हाँ तो ऐश डैम टूटने की घटना का कारण क्या?

3- यदि निर्माण गुणवत्ता के अनुरूप नहीं किया गया था तो घटिया निर्माण के लिए कौन जिम्मेदार है?


4- भविष्य में ऐसी घटनाएं फिर ना हो इसके लिए सुझाव हो सकते हैं?

जिलाधिकारी सिंगरौली केवीएस चौधरी ने सासन पावर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एके सिंह को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए तीन दिन के अंदर जबाव मांगा है। जिलाधिकारी ने प्लांट प्रबंधन को पहले भी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था लेकिन उस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई, इस पर भी जवाब मांगा गया है।

सिंगरौली जिलाधिकारी द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति।

मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड मौके पर पहुंचा

इस हादसे में कई मवेशियों के मरने की भी खबर है। साथ ही कई एकड़ की फसल भी चौपट हुई है। डैम में जहरीली राख होती है जो कई किलोमीटर क्षेत्र में फैल चुकी है। इस बारे में क्षेत्रीय मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, भोपाल के क्षेत्रीय अधिकारी आरएस परिहार ने गांव कनेक्शन को बताया, "अभी तो हमने नमूना ले लिया है। इससे कितना प्रदूषण होगा, क्या नुकसान हो सकता है यह रिपोर्ट आने के बाद भी पता चलेगा। अभी भी कुछ भी आंकलन नहीं कर सकते।

तीसरे दिन भी नहीं मिले शव

हादसे के दिश शुक्रवार को ही देर रात दो शव मिल गये थे। इसके बाद शनिवार को वाराणासी से एनडीआरएफ ((राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल), एसडीआरएफ (राज्य आपदा मोचन बल) की टीम भी आई, लेकिन बाकी के तीन शव नहीं मिल सके। इसके बाद रविवार को पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से तलाश अभियान चलाया लेकिन सफलता नहीं मिली।

यह भी पढ़ें- रिलायंस पावर प्लांट के जिस ऐश डैम को अधिकारियों ने रिपोर्ट में सही बताया था, उसके टूटने से दो की मौत, कई लापता, फसलें बर्बाद

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.