कलाम की पुण्यतिथि पर विशेष : मिसाइल मैन के कुछ रोचक किस्से

कलाम की पुण्यतिथि पर विशेष : मिसाइल मैन के कुछ रोचक किस्सेपूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम।

लखनऊ। भारत के 'मिसाइल मैन' के नाम से मशहूर डॉक्टर अब्दुल कलाम की आज दूसरी पुण्यतिथि है। अब्दुल कलाम की उदारता से हर कोई वाकिफ है। डॉक्टर कलाम को पीपुल्स प्रेसीडेंट के रूप में जाना जाता है। आपको बताते हैं अब्दुल कलाम से जुड़े कुछ रोचक किस्से जिन्हें पढ़ने के बाद आपके दिल में उनके प्रति और सम्मान बढ़ेगा।

1. एक बार जब डॉक्टर कलाम रक्षा अनुसंधान की टीम में थे और विकास संगठन (डीआरडीओ) और उनकी टीम एक इमारत की सुरक्षा के लिये उसकी चहारदीवारी पर कांच के टूटे टुकड़े लगाने का प्रस्ताव रखा लेकिन उनके द्वारा रखे प्रस्ताव को अब्दुल कलाम ने ये कहते हुए ठुकरा दिया कि इससे पक्षियों के घायल होने का खतरा बना रहेगा।

ये भी पढ़ें- बिहार समेत इन 14 राज्यों में है बीजेपी की सरकार

साभार- यूथ कनेक्ट।

2. राष्ट्रपति होने के दौरान एक बार कुछ युवाओं और किशोरों ने अब्दुल कलाम के साथ एक बैठक का अनुरोध किया था उन्होंने बच्चों के अनुरोध को सिर्फ स्वीकार हीं नहीं किया बल्कि बैठक के दौरान बच्चों के विचारों को भी ध्यान से सुना।

साभार - यूथ कनेक्ट

3. जब राष्ट्रपति पद के लिये अब्दुल कलाम का नाम चयन किया गया उसके पहले अपने भाषण के लिये उन्होंने एक साधारण स्कूल का चयन किया। जिस वक्त वो 400 छात्रों के बीच भाषण दे रहे थे उसी वक्त बिजली चली जाने की वजह से माइक बंद हो गया। कार्यक्रम में रुकावट न आये इसके लिये कलाम मंच से उतरकर छात्रों के बीच चले गये और अपनी बात पूरी की। एक बात और थी कि उनके साथ उनकी सुरक्षा भी न के बराबर ही रहती थी।

4. अब्दुल कलाम ने अपने जीवन भर की पूंजी और वेतन एक ट्रस्ट जो ग्रामीण आबादी के लिए शहरी सुविधाओं को प्रदान करने के काम को करता है को दे दी। इतनी ही नहीं इन सबके बाद जो भी उनके पास बचा था उसके लिये उन्होंने अमूल के संस्थापक डॉक्टर वर्गीस कुरियन को फोन किया और अपनी उदारता दिखाते हुए पूछा कि अब जो भी पूंजी मेरे पास बची है उसका अब मैं क्या कर सकता हूं।

ये भी पढ़ें- ‘कृपया यहां गाड़ी न रोके‍ं, आप दुश्मन के सीधे निशाने पर हैं’ : करगिल युद्ध के रिपोर्टर की डायरी

साभार- यूथ कनेक्ट

5. एक बार एक क्वोरा यूजर नमन नारायन ने राष्ट्रपति का स्कैच बना कर उन्हें भेंट किया था जिसके बदले में अब्दुल कलाम ने अपना हस्ताक्षर किया हुआ धन्यवाद पत्र उन्हें भेजा था।

साभार- यूथ कनेक्ट

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top