मध्‍य प्रदेश: किसानों के लिए मुसीबत बनी बारिश, सोयाबीन की पूरी फसल हो गई बर्बाद

सोयाबीन की पूरी फसल बर्बाद: मध्‍य प्रदेश में इन दिनों लगातार बारिश के कारण सोयबीन की फसल चौपट हो गई है। खेतों में अध‍िक पानी लगने के कारण फसल सड़ने लगी है। इससे किसानों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। किसानों के अनुसार अध‍िक वर्षा के कारण लगभग 70 फीसद फसल खराब हो गई ह‍ै

विष्णु शर्मा, कम्‍युनिटी जर्नलिस्‍ट

उज्जैन (मध्य प्रदेश)। मध्‍य प्रदेश में इन दिनों लगातार बारिश के कारण सोयबीन की फसल चौपट हो गई है। खेतों में अध‍िक पानी लगने के कारण फसल सड़ने लगी है। इससे किसानों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। किसानों के अनुसार अध‍िक वर्षा के कारण लगभग 70 फीसद फसल खराब हो गई ह‍ै।

नागदा जंक्‍शन से लगभग 8 किमी की दूरी पर ढेलनपुर गांव है। यह गांव हनुमान मंदिर की वजह से बहुत प्रसिद्ध है, यहां लोग दूर-दूर से दर्शन करने के लिए आते हैं। वही यहां रहने वाले किसान अपनी सोयाबीन की फसल को लेकर चिंतित हैं। इसका कारण अत्यधिक वर्षा का होना है।

ढेलनपुर किसान राधेश्याम पाटीदार ने बताया, "सोयाबीन की फसल लगभग 70 फीसद नष्ट हो गई है। लगातार बारिश के कारण खड़ी फसलों में फलों का विकास रुक गया है। सोयाबीन की खड़ी फसल में लगे पौधों की फलियां फिर से अंकुरण होने लगी हैं, लगातार बरसात से नमी के कारण सोयाबीन की उपज पर बुरा प्रभाव होने लगा है।"

इसे भी पढ़ें- बागवानी किसानों के लिए बड़े काम का है यह ऐप, मिलेंगी माैसम की सभी जानकारियां

अध‍िक पानी के कारण खेतों में सड़ रहा है सोयाबीनअध‍िक पानी के कारण खेतों में सड़ रहा है सोयाबीन

उन्‍होंने आगे बताया, "खेतों में अध‍िक पानी जम जाने के कारण सोयाबीन की जड़े गलने लगी हैं व उनकी पत्तियां पीली पड़ने लगी है। मेरे खेत में अलसी वैरायटी की सोयाबीन बोई गई थी। मेरी फसल पूरी तरह से पक गई थी अब उसे काटने की तैयारी की जा रही थी। फ‍िलहाल यहां लगातार बारिश के कारण खेतों में पानी भर गया है। ऐसे में खड़ी फसल सड़ने लगी है। इससे फसल बर्बाद होने की कागार पर पहुंच गई है।"

इसे भी पढ़ें- सोयाबीन की खड़ी फसल काटकर पशुओं को खिला रहे किसान

वहीं रूपेटा निवासी किसान तेजगंज सोनी बताते हैं, "यहां अन्नदाता का हाल बेहाल है, डेलनपुर सहित आसपास क्षेत्र रूपेटा आदि जगह लगातार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। अन्नदाता के लिए सोने की खान साबित होने वाला पीला सोना पकड़ने से पहले ही पीला पड़ चुका है। ऐसे में बारिश के कारण किसानों की हालत डामाडोल हो गई है।"

ढेलनपुर किसान संतोष पाटीदार बताते हैं, "10-15 दिनों से लगातार बारिश के कारण खड़ी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई। खेत में ही सोयाबीन खराब हो चुकी है, जिसे किसान अब उखाड़ कर जानवरों को डाल रहे हैं। खड़ी फसल की फली अंकुरित हो रही है, बोने के समय जो लागत लगी वह भी निकलना मुश्किल लग रहा है।"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top