प्रधानमंत्री मोदी पर ‘हमला’ न कर दे ततैया, इसलिए उनके छत्ते हटा रहा श्रीलंका

प्रधानमंत्री मोदी पर ‘हमला’ न कर दे ततैया, इसलिए उनके छत्ते हटा रहा श्रीलंकाप्रतीकात्मक फोटो।

कोलंबो (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगले सप्ताह होने वाली यात्रा के मद्देनजर श्रीलंका ने कीड़ों के संभावित ‘हमलों' से बचने के लिए डिकोय के मध्य पहाडी क्षेत्र से ततैया के छत्तों को हटाना शुरू कर दिया हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 मई को श्रीलंका पहुंच रहे है।

पुलिस प्रमुख पुजीथ जयासुन्दर के आदेशों के बाद हैटन पुलिस निदेशक के कार्यालय द्वारा ये छत्ते हटाए जा रहे हैं। श्रीलंकाई पुलिस को आशंका है कि वीआइपी को ले जाने वाले हेलीकॉप्टर को आस-पास के क्षेत्र में बड़े-बड़े पेड़ों पर मौजूद ततैया के छत्तों से परेशानी हो सकती है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ‘श्रीलंका के अधिकारियों ने ततैया द्वारा संभावित किसी भी हमले से निपटने के लिए एहतियाती कदम उठाए हैं, जो अभी एस्टेट क्षेत्र में बड़ी संख्या में मौजूद हैं।’

प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा की जिम्मेदारी जिन सुरक्षा इकाईयों को सौंपी गई हैं वे हैटन पुलिस ऑफिस के अधीक्षकों के साथ संपर्क कर रहे हैं और उन्होंने इन ततैयों से निपटने के लिए संगठन की सहायता भी ली है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

श्रीलंकाई पुलिस को आशंका है कि वीआईपी को ले जाने वाले हेलीकॉप्टर को आस-पास के क्षेत्र में बड़े-बड़े पेड़ों पर मौजूद ततैया के छत्तों से परेशानी हो सकती है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ‘‘श्रीलंका के अधिकारियों ने ततैया द्वारा संभावित किसी भी हमले से निपटने के लिए एहतियाती कदम उठाए हैं, जो अभी एस्टेट क्षेत्र में बडी संख्या में मौजूद हैं।''

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 मई को श्रीलंका पहुंच रहे है। वह यहां अगले दिन सबसे बड़े बौद्ध उत्सव ‘वेसाक डे' में हिस्सा लेने आ रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय डे ऑफ वेसाक' का जश्न 12 मई से 14 मई तक कोलंबो में मनाया जाएगा। इसमें एक अंतरराष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा जिसमें 100 देशों के 400 से अधिक प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। मोदी यहां डिकोय में भारतीय सहयोग से निर्मित सभी तकनीकों से लेस एक अस्पताल का शुभारंभ करेंगे। इसके बाद वह नोरवुड ग्राउंड्स में एक जन रैली का संबोधन करेंगे। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे दोनों भारतीय नेता के साथ पहाडी क्षेत्र का दौरा करेंगे।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top