श्रीनगर में जामिया मस्जिद के बाहर एक पुलिस अधिकारी को भीड़ ने निर्वस्त्र कर पत्थर मार-मार कर मार डाला, दो गिरफ्तार

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   23 Jun 2017 3:21 PM GMT

श्रीनगर में जामिया मस्जिद के बाहर एक पुलिस अधिकारी को भीड़ ने निर्वस्त्र कर पत्थर मार-मार कर मार डाला, दो गिरफ्तारश्रीनगर में पुलिस लाइन में मारे गए पुलिस अधिकारी मोहम्मद अयूब पंडित को श्रद्धांजलि स्वरुप पुष्पचक्र चढ़ातीं जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती।

श्रीनगर (भाषा)। शहर की जामिया मस्जिद के बाहर भीड़ के हाथों एक पुलिस अधिकारी मोहम्मद अयूब पंडित की मौत के मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है।

डीजीपी एसपी वैद ने जिला पुलिस लाइन्स में, मारे गए अधिकारी मोहम्मद अयूब पंडित को श्रद्धांजलि स्वरुप पुष्पचक्र चढ़ाने के लिए आयोजित सभा से अलग संवाददाताओं से कहा ' 'अब तक दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है, अधिकारी की जान लेने में शामिल सभी लोगों को कानून का सामना करना होगा। ' '

आज तड़के जामिया मस्जिद के समीप लोगों के एक समूह ने पुलिस उपाधीक्षक को तस्वीरें लेते हुए पकड़ा, जिसके बाद अधिकारी ने उन पर कथिततौर पर गोली चलाई। इस पर नाराज भीड़ ने अधिकारी के कपड़े उतरवाए और पत्थर मार-मार कर उन्हें मार डाला।

वैद ने बताया कि डीएसपी को मस्जिद के पहुंच नियंत्रण (एक्सेस कंट्रोल) पर इसलिए तैनात किया गया था ताकि वह असामाजिक तत्वों को माहौल खराब न करने दें और लोग शांतिपूर्वक नमाज पढ़ सकें। उन्होंने कहा ' 'लेकिन वह जिनकी सुरक्षा के लिए तैनात थे, उनमें से कुछ ने उनकी जान ले ली। यह अत्यंत दुखद है।' '

पुलिस प्रमुख ने कहा कि मानवीयता और अमानवीयता के बीच का अंतर तेजी से खत्म हो रहा है और लोगों को अच्छा तथा बुरा पहचानने की जरुरत है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच जारी है। प्राथमिक जांच का हवाला देते हुए वैद ने कहा कि भीड़ ने डीएसपी पर तब हमला किया जब वह पहुंच नियंत्रण (एक्सेस कंट्रोल) की जांच कर मस्जिद के बाहर आ रहे थे।

श्रीनगर में डीएसपी मोहम्मद अयूब पंडित की हत्या पर दुखी सीएम महबूबा ने कहा, यह ‘विश्वास की हत्या’ है

वैद ने कहा ' 'जब डीएसपी मस्जिद के पहुंच नियंत्रण क्षेत्र की जांच कर बाहर आ रहे थे तब नारे लगाते हुए कुछ असामाजिक तत्वों ने उन्हें पकड़ लिया और उन्हें पीटने लगे। ' '

यह पूछे जाने पर कि क्या दिवंगत अधिकारी हुर्यित कान्फ्रेंस के उदारवादी गुट के प्रमुख मीरवाइज उमर फारुक की सुरक्षा के लिए आए थे, तब डीजीपी ने कहा ' 'मीरवाइज यहां आते हैं, कल एक बहुत ही पवित्र अवसर था और हजारों लोगों के मस्जिद आने का अनुमान था इसलिए सुरक्षा के इंतजाम किए गए थे। ' '

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मीरवाइज अक्सर खुतबा (धार्मिक संबोधन) देने के लिए मस्जिद में आते हैं। पुलिस अधिकारी के गोली चलाने से तीन व्यक्ति घायल हो गए। गोलीबारी का बचाव करते हुए वैद ने कहा ' 'डीएसपी के पास पिस्तौल थी और उन्हें आत्मरक्षा का अधिकार था। ' '

कश्मीर में मुस्लिम शब ए कद्र मना रहे हैं और घाटी में मस्जिदों तथा दरगाहों के बाहर रात भर इबादत की गई एवं दुआ मांगी गई। प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर शहर के सात पुलिस थाना क्षेत्रों में लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी है।

मीरवाइज ने निंदा की

हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारुक ने जम्मू कश्मीर में श्रीनगर शहर के नौहट्टा में जामिया मस्जिद के बाहर पुलिस के एक अधिकारी की आज तड़के पीट-पीट कर हत्या किए जाने की आज निंदा की।

मीरवाइज ने एक ट्वीट में कहा, ' ' नौहट्टा में हुए बर्बर कृत्य से काफी परेशान हूं और निंदा करता हूं। ' ' मीरवाइज उमर फारुक ने यह भी कहा कि भीड़ की हिंसा न ही कश्मीरी मूल्यों का हिस्सा हैं और ना ही इस्लामी शिक्षा का है।

उन्होंने ट्वीट किया, ' ' भीड़ की हिंसा और लोगों द्वारा पीट-पीट कर हत्या करना हमारे मूल्य और मजहब के मापदंडों से बाहर है, हम राजकीय क्रूरता को हमारी मानवता और मूल्यों को छीनने की इजाजत नहीं दे सकते हैं।' '

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top