‘जम्मू कश्मीर में वर्ष 2017 में 200 से अधिक आतंकवादी मारे गये’

‘जम्मू कश्मीर में वर्ष 2017 में 200 से अधिक आतंकवादी मारे गये’‘जम्मू कश्मीर में वर्ष 2017 में 200 से अधिक आतंकवादी मारे गये’

श्रीनगर (भाषा)। जम्मू कश्मीर में सात साल में पहली बार आतंकवाद-रोधी अभियानों में मारे गये आतंकवादियों की संख्या 200 को पार कर गई है। राज्य पुलिस ने यह जानकारी दी।

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस पी वैद्य ने ट्वीट किया, ''जम्मू-कश्मीर पुलिस, भारतीय सेना, सीआरपीएफइंडिया, सीएपीएफ और कश्मीर के लोगों के सामूहिक प्रयासों से वर्ष 2017 में 200 से अधिक आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया।'' अधिकारियों ने यहां बताया कि कश्मीर के बड़गाम और बारामुला जिलों में सुरक्षा बलों के साथ हुई दो मुठभेड़ों में पांच आतंकवादियों के मारे जाने के एक दिन बाद डीजीपी का यह ट्वीट आया है।

ये भी पढ़ें - जम्मू कश्मीर में स्थिति सुधर रही, हिंसा में कमी आयी : महबूबा

डीजीपी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ''जम्मू कश्मीर और हमारे देश में शांति और स्थिरता का माहौल बनाने के लिए यह एक बड़ी बात है। आधिकारिक आकड़ों के अनुसार इस वर्ष एक जनवरी से आज तक सुरक्षाबलों के आतंकवाद-रोधी अभियानों के दौरान 200 आतंकवादी मारे गये। यह संख्या वर्ष 2010 के बाद से सबसे अधिक है।''

वर्ष 2010 में 270 आतंकवादी मारे गये थे। हालांकि वर्ष 2015 के अंत तक यह संख्या प्रतिवर्ष लगभग 100 तक गिर गई थी। साल 2016 में नियंत्रण रेखा (एलओसी) और आंतरिक इलाकों में सुरक्षाबलों की कार्वाई में 165 आतंकवादी मारे गये थे।

ये भी पढ़ें - जम्मू कश्मीर में शहीद हुए पुलिसकर्मी की बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे गौतम गंभीर

इसके साथ ही आतंकवाद से संबंधित हिंसा की घटनाओं में नागरिकों के मारे जाने की संख्या बढ़ी है और इस वर्ष ऐसी घटनाओं में 54 नागरिक मारे गये हैं। पिछले वर्ष यह संख्या 14 थी। इस वर्ष आतंकवादी घटनाओं में शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों की संख्या 77 है। पिछले वर्ष यह संख्या 88 थी।

ये भी पढ़ें - पिछले दो वर्षों में जम्मू-कश्मीर में संघर्षविराम उल्लंघन के 583 मामले

Share it
Top