कश्मीर में हिंसक संघर्षों के बाद अतिरिक्त बल तैनात, बंद से जनजीवन प्रभावित 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   29 March 2017 1:03 PM GMT

कश्मीर में हिंसक संघर्षों के बाद अतिरिक्त बल तैनात,  बंद से जनजीवन प्रभावित कश्मीर में तैनात सुरक्षा बल।

श्रीनगर (भाषा)। कश्मीर घाटी के संवेदनशील इलाकों में आज अतिरिक्त बलों को तैनात किया। सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में आम नागरिकों की मौत के विरोध में अलगाववादियों द्वारा आहूत हड़ताल के मद्देनजर घाटी में जनजीवन प्रभावित हो गया है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

विश्वविद्यालय की परीक्षाएं टली

स्थिति को देखते हुए कश्मीर विश्वविद्यालय, केंद्रीय विश्वविद्यालय कश्मीर और इस्लामिक यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ने आज होने वाली परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं।

ये वो चेहरे है जो सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी कर रहे हैं। जहां एक तरफ सुरक्षा बल आतंकवादियों से जनता के लिए संघर्ष कर रहा है वहीं कश्मीर के कुछ लड‍़के सुरक्षा बल पर पत्थर फेंक रहे हैं। आप क्या कहेंगे कि ये भारत देश के हितैषी हैं।

उल्लेखनीय है कि सुरक्षा बलों और उन पर पथराव कर रहे लोगों के बीच कल हुई झड़प में तीन आम नागरिकों की मौत हो गई थी, जबकि 18 अन्य लोग घायल हो गए थे। ये लोग पथराव करके सुरक्षा बलों के आतंकवाद विरोधी अभियान को बाधित करने का प्रयास कर रहे थे। यह अभियान बडगाम में एक आतंकी की हत्या के बाद समाप्त हुआ।

श्रीनगर में आज हड़ताल, जनजीवन प्रभावित

अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर में आज हड़ताल के कारण ज्यादातर दुकानें, कारोबारी प्रतिष्ठान, पेट्रोल पंप और शहर के शैक्षणिक संस्थान बंद रहे। उन्होंने बताया कि सरकारी वाहन भी सड़कों से नदारद रहे, जबकि शहर के कुछ इलाकों में निजी कारें, कैब और ऑटो-रिक्शा चलते दिखे। अधिकारी ने बताया कि घाटी के अन्य जिला मुख्यालयों में इसी प्रकार के बंद की खबरें मिली हैं।

अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात

उन्होंने कहा कि मध्य कश्मीर के बडगाम जिले के चदूरा जैसे संवेदनशील इलाकों में कानून व्यवस्था बरकरार रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं।

हुर्रियत धड़ों के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारक और जेकेएलएफ प्रमुख मोहम्मद यासीन मलिक ने कल लोगों से मौत के विरोध में हड़ताल की अपील की थी। अलगाववादियों ने लोगों से शुक्रवार की नमाज के बाद विरोध-प्रदर्शन करने के लिए भी कहा है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top