Top

प्रवासी मजदूरों का पैदल पलायन रोकें और सुरक्षित घर वापसी सुनिश्चित करें राज्य : गृह मंत्रालय

लॉकडाउन के 53 दिन बीतने के बावजूद घर वापसी के लिए प्रवासी मजदूरों का पैदल पलायन अभी भी जारी है।

प्रवासी मजदूरों का पैदल पलायन रोकें और सुरक्षित घर वापसी सुनिश्चित करें राज्य : गृह मंत्रालयलॉकडाउन के 53 दिनों बाद भी मजदूरों का जारी है पैदल पलायन। फोटो साभार : इंडिया टुडे

लॉकडाउन के 53 दिन बीतने के बावजूद घर वापसी के लिए प्रवासी मजदूरों का पैदल पलायन अभी भी जारी है। ऐसे में गृह मंत्रालय ने एक बार फिर राज्यों को निर्देश दिए हैं कि राज्य सरकारें प्रवासी मजदूरों का पैदल पलायन रोकें।

गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों से कहा है कि हमें मिल रही जानकारी के अनुसार प्रवासी मजदूर सड़कों और रेलवे की पटरियों पर अभी भी चल रहे हैं। ऐसे में सभी राज्यों को सलाह दी जाती है कि यदि वे ऐसी स्थिति में पाए जाते हैं, तो उन्हें पैदल घर वापसी के लिए रोका जाए और उनके लिए पास के आश्रय स्थलों में भोजन, पानी आदि की व्यवस्था की जाए।

मंत्रालय ने राज्यों के मुख्य सचिवों को निर्देश दिए गए कि ऐसी स्थिति पर सभी प्रवासी मजदूरों को चलाई गईं विशेष बसों और श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से उनकी घर वापसी सुनिश्चित की जाए। मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि ये सभी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की हैं।

गृह मंत्रालय ने कहा है कि रेल मंत्रालय प्रति दिन 100 से अधिक श्रमिक विशेष ट्रेनें चला रहा है और आवश्यकता के अनुसार अतिरिक्त ट्रेनों की व्यवस्था करने के लिए भी तैयार है। इन व्यवस्थाओं के बारे में प्रवासी मजदूरों को जागरूक किया जाना चाहिए।

प्रवासी मजदूरों के घर लौटने के बीच सड़कों पर उनके साथ हादसों की घटनाएँ भी लगातार सामने आ रही हैं। ऐसी ही एक घटना आज सुबह उत्तर प्रदेश के औरैया में घटी जहाँ दो ट्रक आपस में भिड़ गए। इस हादसे में एक ट्रक से लौट रहे 50 मजदूरों में करीब 24 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि कई मजदूर घायल हैं। ये मजदूर हरियाणा और राजस्थान की ओर घर वापसी कर रहे थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस हादसे पर दुःख जाहिर किया है।

यह भी पढ़ें :


ट्रेनें न चलने पर आठ-आठ हज़ार रुपए जुटाकर महाराष्ट्र से झारखण्ड पहुँच रहे मजदूर


श्रम कानूनों में बदलाव के खिलाफ 20 मई को देशव्यापी प्रदर्शन की तैयारी, BMS ने अपनी पार्टी की सरकारों के खिलाफ उठाए कदम


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.