Top

सुप्रीम कोर्ट: 26 जनवरी की ट्रैक्टर रैली पर फैसला सुनाने से इनकार, निष्पक्ष कमेटी बनाने पर सभी पक्षों को नोटिस

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सुनवाई के दौरान किसानों की ट्रैक्टर रैली पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। अब दिल्ली पुलिस पर तय करेगी कि वो किसानों को इसकी इजाजत देती है या नहीं? पढ़िए आज कोर्ट में क्या हुआ।

सुप्रीम कोर्ट: 26 जनवरी की ट्रैक्टर रैली पर फैसला सुनाने से इनकार, निष्पक्ष कमेटी बनाने पर सभी पक्षों को नोटिससुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो 26 जनवरी की ट्रैक्टर परेड को लेकर कोई फैसला नहीं सुनाएंगे, रैली को लेकर दिल्ली पुलिस फैसला करे।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने 26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस पर प्रस्तावित किसानों के ट्रैक्टर मार्च पर फैसला सुनाने से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा ट्रैक्टर मार्च को इजाज़त देने या न देने का फ़ैसला दिल्ली पुलिस को करना है। वहीं कृषि कानूनों को लेकर निष्पक्ष कमेटी बनाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को नोटिस जारी किया है।

ट्रैक्टर मार्च पर रोक लगाने की दिल्ली पुलिस की याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि अदालत 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली या गणतंत्र दिवस पर किसानों के अन्य किसी प्रदर्शन को लेकर कोई फैसला नहीं सुनाएगी। उन्होंने कहा कि अदालत ने पहले ही कहा था कि यह तय करना दिल्ली पुलिस का काम है कि कौन दिल्ली में प्रवेश करे कौन नहीं।

कोर्ट ने किसानों की तरफ से पेश वकील प्रशांत भूषण से कहा कि आप किसानों को शांति रखने के लिए समझाएं। जिसके जवाब में प्रशांत भूषण ने मुख्य न्यायाधीश को बताया, "मैंने उन्हें (किसानों को) शांतिपूर्ण आंदोलन के लिए समझाया है। वो दिल्ली के बाहरी इलाके में सिर्फ ट्रैक्टर रैली निकालेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों को लेकर गठित कमेटी के सदस्यों पर सवाल उठाए जाने पर भी सख्त नाराज़गी जाहिर की है। कोर्ट ने कहा, "जो उनके सामने पेश नहीं होना चाहते, वह मत जाए, पर मेंबर्स को ऐसे ब्रांड करने की ज़रूरत नहीं।" कोर्ट समिति में कोई बदलाव नहीं करेगा, सिर्फ भूपेंद्र सिंह मान की जगह एक नए सदस्य को रखा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि कमेटी को कोई फैसला लेने का अधिकार नहीं दिया है। उसकी जिम्मेदारी है दोनों पक्षों से बात कर कोर्ट को रिपोर्ट देना।

आठ किसान संगठनों की तरफ से आज सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे और प्रशांत भूषण ने कहा कि उनके संगठन के सदस्य समिति के सामने पेश नहीं होंगे।

26 जनवरी को किसान संगठन दिल्ली के बाहरी रिंग रोड ईस्टर्न पैरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर ट्रैक्टर मार्च करेंगे। ट्रैक्टर मार्च में शामिल होने के लिए देश के कई राज्यों के किसान ट्रैक्टर समेत दिल्ली आ रहे हैं। बुधवार को भी पंजाब के तरणतारण जिले से सैकड़ों ट्रैक्टर दिल्ली रवाना हुए हैं।


Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.