Top

सोनभद्र में मिला कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज, अस्पताल छोड़कर भागे दूसरे मरीज

Bheem kumarBheem kumar   25 March 2020 5:07 AM GMT

सोनभद्र में मिला कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज, अस्पताल छोड़कर भागे दूसरे मरीजप्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों ने डर की वजह से मरीज को पेड़ के नीचे लिटा दिया।

सोनभद्र (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश के जिला सोनभद्र में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज के मिलने से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद में हड़कंप मच गया। ईलाज के लिए आये दूसरे लोगों के साथ डॉक्टर भी इतना घबरा गये कि मरीज को अस्पताल की बजाय बाहर पेड़े के नीचे लिटा दिया। बाद में जिला मुख्यालय रार्बट्सगंज से टीम आने पर युवक को आइसोलेशन वार्ड ले जाया गया जहां से सैंपल जांच के लिए भेज दिया गया है।

मामला सोनभद्र जिला मुख्यालय से 90 किमी दूर विंढमगंज थाना क्षेत्र के ग्राम कुड़वा का है। 20 वर्षीय युवक प्रवीण गोंड 14 मार्च को मुंबई से लौटा था। जब वह अपने गांव लौटा तभी से बीमार था। तबियत ठीक न होते देख परिजनों ने उसे पहले निजी डॉक्टर को दिखाया लेकिन वहां भी कोई फायदा नहीं हुआ।

यह भी पढ़ें- काम की खबर: 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान क्या खुला रहेगा, क्या बंद रहेगा, पूरी लिस्ट देख लीजिए

इसके बाद परिजन बुधवार को दोपहर लगभग दो बजे उसे दुद्धी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। केंद्र पर तैनात डॉ संजीव कुमार ने शुरुआती जांच के बाद बताया कि लक्षण तो कोरोना वायरस के हैं। यह सुनते वहां ईलाज के लिए आये दूसरे मरीज भाग गये। डॉक्टर के साथ तैनात दूसरे सहयोगी स्टाफ भी डर गये और मरीज को तुरंत बाहर पीपल के पेड़ के नीचे लिटा दिया। इसके बाद जिला मुख्यालय रार्बट्सगंज में स्थापित कंट्रोल रूम में इसकी जानकारी दी गई।

जिला मुख्यालय से आई एंबुलेंस से मरीज को आइसोलेशन वार्ड ले जाया गया।

लगभग पांच बजे जिला मुख्यालय से आई एंबुलेंस से मरीज को ले जाया गया जहां से सैंपल जांच के लिए वाराणसी के सर सुंदरलाल हॉस्पिटल भेजा गया। इस बारे में मरीज के पिता जगधारी गोंड ने बताया, "प्रवीण जब से मुंबई से लौटा है तब से बीमार है। पहले पास के डॉक्टर को दिखाया लेकिल कोई आराम नहीं हुआ। उसे तेज बुखार था और सूखी खांसी भी आ रही थी, सांसे भी बहुत तेज थी।"

इस पूरे मामले पर सोनभद्र सीएमएस (मुख्य चिकित्सा अधिकारी) पीवी गौतम बताते हैं, "दुद्धी के युवक को कोरोना वायरस की आशंका में आइसोलेशन रूम में रखा गया है। ब्लड जांच के लिए बीएचयू वाराणसी के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा कि मरीज को कोरोना हुआ है या नहीं।"

यह भी पढ़ें- कोरोना : लॉकडाउन से दूसरे राज्यों में फंसे मजदूर कैसे भरेंगे अपना पेट ?

भारत में अब तक कोरोना वायरस की चपेट में 519 लोग आ चुके हैं जबकि 10 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, दुनियाभर की बात करें तो इस महामारी से अब तक 15,000 से अधिक लोगों की मौत चुकी है। उत्तर प्रदेश में कोरोनो के अभी तक कुल 32 मामले सामने आये हैं।

भारत में बढ़ते मामलों को देखते हुए देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम इसकी घोषणा की। देश के नाम अपने संबोधन में उन्होंने कहा कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए सोशल डिस्टेंसिंग को सख्त तरीके से लागू करने की जरूरत है।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.