स्वामी आत्मास्थानंद जी महाराज का निधन, प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत नुकसान बताया  

स्वामी आत्मास्थानंद जी महाराज का निधन, प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत नुकसान बताया  अध्यक्ष आत्मास्थानंद जी महाराज

कोलकाता (भाषा)। रामकृष्ण मठ और मिशन के अध्यक्ष आत्मास्थानंद जी महाराज का आज यहां लंबी बीमारी के बाद एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 98 वर्ष के थे।

आत्मास्थानंद जी का फरवरी 2015 से ही आयु संबंधी बीमारियों का इलाज चल रहा था। रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन, बेलूर मठ ने एक बयान में कहा कि बेहतर इलाज के बाद भी उनकी स्थिति पिछले कुछ सालों में गिरती गयी तथा उनका रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान अस्पताल में शाम में साढे पांच बजे निधन हो गया।

बयान में कहा गया है कि उनका अंतिम संस्कार कल किया जाएगा तथा बेलूर मठ का द्वार आज रात तथा कल उनके अंतिम संस्कार तक खुला रहेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने उनके निधन पर शोक जताते हुए इसे "व्यक्तिगत नुकसान" बताया।

मोदी अपनी युवावस्था में संन्यासी बनने के लिए बेलूर मठ गए थे लेकिन उनके अनुरोध को स्वीकार नहीं किया गया था और कहा गया था कि उनकी कहीं अन्य स्थान पर जरुरत है। बाद में उन्हें राजकोट, गुजरात में स्वामी आत्मास्थानंद का आध्यात्मिक मार्गदर्शन मिला। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी स्वामीजी के निधन पर शोक जताया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top