एक दम ज़ुदा होगा खबरों का अंदाज, गांव कनेक्शन और द क्विंट पर आ रहा है “द नीलेश मिसरा शो”

एक दम ज़ुदा होगा खबरों का अंदाज, गांव कनेक्शन और द क्विंट पर आ रहा है “द नीलेश मिसरा शो”द नीलेश मिसरा शो

नीलेश मिसरा, ये नाम अब किसी पहचान का मोहताज नहीं है। पत्रकार, गीतकार, कहानीकार और रेडियो पर अपनी मखमली आवाज से लोगों को दीवाना बना देने वाले मशहूर स्टोरी टेलर नीलेश मिसरा अब आपके लिए लेकर आ रहे हैं एक अनूठा शो।

गाँव कनेक्शन, द क्विंट और क्विंट हिंदी की ये पेशकश अपने आप में एकदम अलग होगी। जरा सोचिए, जब आम लोगों की कहानियां एक जादुई आवाज के जरिए आपके कानों में गूंजेंगी तो निश्चित रूप से खबरों को अलग अंदाज मिलेगा। ऐसा ही होगा 'द नीलेश मिसरा शो’। ये शो 27 फरवरी से शुरु हो रहा है।

ये भी पढ़ें - गाँव कनेक्शन गाँवों को जोड़ रहा है, वो छिपाते रहेंगे आप छापते रहिए : रवीश कुमार

पंद्रह दिसंबर से गाँव कनेक्शन, द क्विन्ट और क्विन्ट हिंदी की वेबसाइट पर ये सुनहरा सफर शुरू होने जा रहा है। 'द नीलेश मिसरा शो’ में मशहूर स्टोरी टेलर नीलेश मिसरा हमारी और आप की ज़िंदगी से जुड़ी कहानियां दिखाएंगे। इस शो में न जाने कितनी कहानियां, कितने लम्हे, कितने चेहरे, कितने दर्द, कितनी अनकही खुशियां, कितनी दोपहरें और कितनी शामें होंगी। ये अपने आप में एक अनूठी होंगी। जहां आप खबरों को एक नई विधा के रूप में देखेंगे और समझेंगे।

ये भी पढ़ें - पढ़िए, आज तक के मैनेजिंग एडिटर सुप्रिय प्रसाद ने गांव कनेक्शन के 5 साल पूरे होने पर क्या कहा

गाँव कनेक्शन पाठकों के स्नेह की बदौलत ही पांच वर्ष का सफर पूरा कर पाया है। गाँव कनेक्शन ने गाँवों और किसानों की समस्याओं सहित हर उस मुद्दे को उठाया जिनका सरोकार सीधे आम जनता से था। अब नीलेश मिसरा लेकर आए हैं 'द नीलेश मिसरा शो’। रेडियो पर कहानियों का जादू चलाने वाले नीलेश मिसरा की मखमली आवाज के करोड़ों लोग दीवाने हैं।

"पुराने खत मिले हैं आज घर में

दिये से जल गए हैं खंडहर में,

कोई खत शाम की दुल्हन का मंज़र

कोई पन्ना झुलसता दोपहर में,

है कुछ लम्हों में सारी उम्र जी ली

बरस कितने गुजारे रातभर में''

ये भी पढ़ें - गाँव की तरक्की बिना देश की तरक्की संभव नहीं : मालिनी अवस्थी

नीलेश मिसरा ने हिन्दुस्तान में कहानियां सुनने-सुनाने की परंपरा को दोबारा जीवित कर दिया। हिन्दी फिल्मों में नीलेश मिसरा तीस से अधिक फिल्मों में गीत लिख चुके हैं। उनके गीतों में पिछले डेढ़ दशक के कुछ सबसे मशहूर गीत शामिल हैं। बतौर पत्रकार नीलेश ने ‘इंडिया अब्रॉड’ अखबार से अपना सफ़र आरम्भ किया और अन्तरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी ‘एसोसिएटेड प्रेस’ में नौ साल काम करने के बाद और हिन्दुस्तान टाइम्स में डिप्टी एग्जीक्यूटिव एडिटर रहे। भारतीय पत्रकारिता का सर्वोच्च सम्मान 'रामनाथ गोयनका अवार्ड' दो बार जीत चुके हैं। हिन्दुस्तान टाइम्स में काम करते हुए दो बार केसी कुलिश पुरस्कार भी जीत चुके हैं।

ये भी पढ़ें - जानिए कैसे आज वो भारत का सबसे बड़ा ग्रामीण मीडिया प्लेटफार्म है

'द नीलेश मिसरा शो’ में आप उन कहानियों से रू-ब-रू होंगे जो आपके आसपास की ही होंगी, लेकिन आप का उनपर ध्यान भी नहीं गया होगा। इन कहानियों में पूरा देश होगा।

तो बस थोड़ा और इंतजार और गाँव कनेक्शन, द क्विन्ट और क्विन्ट हिंदी वेबसाइट पर आएं और इस अनूठी कहानियों की विधा 'द नीलेश मिसरा शो' के गवाह बनें।

ये भी पढ़ें - आज के समय में बहुत कम ही लोग हैं जो दुनिया को कुछ देने की चाह रखते हैं : वरुण ग्रोवर

Share it
Top