मंगलवार की मध्यरात्रि तक गुजरात पहुंचेगा चक्रवात ओखी

मंगलवार की मध्यरात्रि तक गुजरात पहुंचेगा चक्रवात ओखीफोटो साभार: इंटरनेट

अहमदाबाद (भाषा)। दक्षिण तट पर तबाही मचाने के बाद चक्रवात ओखी के मंगलवार को तूफानी हवाओं के साथ मध्यरात्रि में तटीय गुजरात पहुंचने की आशंका है। इससे राज्य में अगले दो दिन में कई हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है।

उत्तरी महाराष्ट्र के आस-पास के क्षेत्रों को पार करने की संभावना

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा, गंभीर चक्रवातीय तूफान ओखी अब सूरत से तकरीबन 850 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में केंद्रित है और इसके गहरे अवदाब (डीप डिप्रेशन) के तौर पर पांच दिसंबर की मध्य रात्रि तक दक्षिण गुजरात और सूरत के निकट उत्तरी महाराष्ट्र के आस-पास के क्षेत्रों को पार करने की संभावना है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान जताने के बाद गुजरात के मुख्य सचिव जेएन सिंह ने किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिये प्रशासनिक तैयारियों का जायजा लिया।

एनडीआरएफ और बीएसएफ सतर्क

राजस्व विभाग के प्रधान सचिव पंकज कुमार ने गांधीनगर में कहा कि राज्य के तटीय क्षेत्र में संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे सभी एहतियाती कदम उठाएं। सूरत, नवसारी और राजकोट में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमों को तैनात किया गया है। अधिकारी ने कहा कि सेना, नौसेना और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को चक्रवात के आगमन के मद्देनजर सतर्क कर दिया गया है।

जरुरी कदम उठाने के निर्देश

कुमार ने कहा, आईएमडी के अनुमान के अनुसार चक्रवात ओखी मंगलवार मध्यरात्रि तक दक्षिण गुजरात पहुंचेगा। यह (दक्षिण गुजरात में) उमरगाम से (सौराष्ट्र में) गिर सोमनाथ जिले तक तटीय क्षेत्रों पर प्रभाव डालेगा। कुमार ने कहा, हमने स्थानीय नगर निकाय अधिकारियों के साथ-साथ जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे तैयार रहें और लोगों की सुरक्षा के लिये सभी जरुरी कदम उठाएं।

हवा की रफ्तार 50 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा तक

प्रधान सचिव ने कहा कि तटीय जिले के जिलाधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि मछुआरे समुद्र में नहीं उतरें क्योंकि यह अशांत रहेगा। उन्होंने कहा, जो मछुआरे पहले ही समुद्र में उतरे हुए हैं उन्हें अब लौट जाना चाहिये। ऐसे कई मछुआरे पहले ही तट की ओर लौट रहे हैं। कुमार ने बताया कि मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार चक्रवात जब यहां पहुंचेगा तो हवा की रफ्तार 50 किलोमीटर प्रति घंटा से 70 किलोमीटर प्रति घंटा तक रहेगी।

अगले चार दिन में गुजरात में बारिश होने का अनुमान

खराब मौसम के मद्देनजर खंभात की खाड़ी में घोघा और दाहेज के बीच रोरो फेरी सेवा को निलंबित कर दिया गया है। इस सेवा का हाल में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था और अगर मौसम सही रहा तो छह दिसंबर को सेवा बहाल होगी। मौसम विभाग के अनुसार अगले चार दिन में गुजरात में बारिश होने का अनुमान है।

इन क्षेत्रों में हो सकती है भारी बारिश

मौसम विभाग ने कहा, वलसाड, सूरत, नवसारी, भरच, डांग, तापी, अमरेली, गिर सोमनाथ और भावनगर जिलों में पांच दिसंबर को भारी बारिश हो सकती है। बंदरगाह चेतावनी में मौसम केंद्र ने कहा, समुद्र अशांत रहेगा। मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे छह दिसंबर तक समुद्र में नहीं उतरें। सभी बंदरगाहों पर दूरस्थ चेतावनी संकेत संख्या दो फहराएं। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने तैयारियों का जायजा लेने के लिये वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की।

यह भी पढ़ें: नहीं रहे शशि कपूर, 79 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

विवादित ढांचा विध्वंस के 25 वर्ष पूरे होने पर होंगे कार्यक्रम

मध्य प्रदेश विधानसभा ने पास किया दुष्कर्म के दोषियों को फांसी दिलाने वाला विधेयक

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top