देश में जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर की है मांग, बना सकते हैं करियर  

देश में जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर की है मांग, बना सकते हैं करियर  अकाउंटेंसी की समझ रखने वाले बन सकते हैं जीएसटी सलाहकार।

अगर अकाउंट्स जैसे सब्जेक्ट्स में आपकी अच्छी पकड़ है और नंबर्स के साथ खेलना आपको पसंद है, तो नौकरी के कई मौके आपके इंतज़ार में हैं। सरकार इस साल खेती के साथ-साथ कई क्षेत्रों में जीएसटी कर में फेरबदल करने का विचार कर रही हैं। ऐसे में सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्रों को बड़ी संख्या में जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर, एप्‍लीकेशन सर्विस प्रोवाइडर और सॉफ्टवेयर सर्विस प्रोवाइडर्स की ज़रूरत पड़ेगी।

भारत में एक जुलाई 2017 से वस्तु एवं सेवा कर, यानी जीएसटी लागू किया गया है। जीएसटी सलाहकार बनना उन युवाओं के लिए एक अच्छा मौका हो सकता है, जिन्हें एकाउंट्स की अच्छी जानकारी है, लेकिन जो सीए की परीक्षा पास नहीं कर पाए हैं। ऐसे युवाओं के लिए जीएसटी ने जॉब और बिजनेस के नए रास्ते खोल दिए हैं।

ये भी पढ़ें- कमाई और सेहत एक साथ, ऐसे बनाएं योग में करियर

जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर की है भारी मांग -

जीएसटी लागू होने के बाद अचानक जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर्स (जीएसपी) की मांग बहुत बढ़ गई है। इस काम से जुड़ी कंपनी या व्‍यक्ति लाखों छोटी-बड़ी कंपनियों, उनके वेंडर्स, दुकानों और व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठानों को बिजनेस रजिस्‍ट्रेशन कराने, इले‍क्‍ट्रॉनिक इन्‍वॉइस अपलोड करने, टेक्‍नोलॉजी प्‍लेटफॉर्म पर फाइल करने और जीएसटी नेटवर्क से जुड़ी चीजें व प्रक्रियाएं जानने-समझने में मदद करते हैं।

जीएसटी कर लागू होने के बाद जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर की बढ़ी मांग।

एप्‍लीकेशन सर्विस प्रोवाइडर (एएसपी) क्षेत्र में हैं कई मौके -

जीएसपी के अलावा जीएसटी ने एप्‍लीकेशन सर्विस प्रोवाइडर (एएसपी) के लिए भी संभावनाओं के दरवाज़े खोल दिए हैं। एएसपी ऑनलाइन फाइलिंग के लिए टैक्‍सपेयर्स के सेल्‍स और परचेज डाटा का उपयोग करते हुए उसे जीएसटी रिटर्न में कन्‍वर्ट करते हैं। यहां भी अकाउंटेंसी और टैक्‍स की समझ रखने वालों की बड़ी जरूरत है। एएसपी उन लोगों को प्राथमिकता दे रहे हैं, जिन्‍हें इस सेक्‍टर की बुनियादी समझ है।

जीएसटी सेक्टर की बुनियादी समझ रखने वाले बन सकते हैं एप्‍लीकेशन सर्विस प्रोवाइडर।

सॉफ्टवेयर की समझ रखने वाले बन सकते हैं - सॉफ्टवेयर सर्विस प्रोवाइडर

जीएसपी और एएसपी के अलावा जीएसटी से सॉफ्टवेयर सर्विस प्रोवाइडर के लिए भी काफी अवसर निकल आए हैं। यहां भी कम्‍प्‍यूटर और सॉफ्टवेयर की समझ रखने वालों की जरूरत है।

कम्‍प्‍यूटर और सॉफ्टवेयर की समझ है ज़रूरी।

कहां अप्लाई करें -

जीएसटी सर्विस प्रोवाइडर पद के लिए अप्लाई करने के लिए वस्तु एवं सेवा कर परिषद, भारत सरकार की सरकारी वेबसाइट http://www.gstcouncil.gov.in/vacancies पर जाएं और वहां पर दी गई रिक्तियों पर जाकर दिये गए निर्देशों को भरें और अपना आवेदन पूरा करें।

बेसिक स्किल्स -

जीएसटी सलाहकार बनने के लिए आपको अकाउंटस के साथ लॉ विषयों में स्नातक करना ज़रूरी है। इसके साथ-साथ अगर आपकी कंम्प्यूटिंग स्किल्स (जोड़-घटाना) अच्छी हैं और आप इससे जुड़े कंम्प्यूटर सॉफ्टवेयरों की अच्छी खासी समझ रखते हैं, तो आप के लिए यह करियर अच्छा साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें- टैक्सी चलाने वाले पिता का अभिमान है ये कॉमनवेल्थ गोल्ड मेडेलिस्ट

Share it
Top