बिना ड्राइवर के चलती है सौर ऊर्जा से चलने वाली ये बस

Divendra SinghDivendra Singh   5 Jan 2019 6:15 AM GMT

बिना ड्राइवर के चलती है सौर ऊर्जा से चलने वाली ये बस

जालंधर। जिस तरह से प्रदूषण बढ़ रहा है, सौर ऊर्जा से चलने वाहन का प्रयोग मददगार साबित हो सकता है। लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) के छात्रों ने इस जरूरत को समझकर सौर ऊर्जा से चलने वाली ड्राइवर रहित एक स्मार्ट बस डिजाइन की है।

जालंधर में चल रही 106वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस में आए लोगों के लिए यह सोलर स्मार्ट बस का प्रदर्शन किया गया।


एलपीयू में इस परियोजना के प्रमुख मनदीप सिंह बताते हैं, "मैकेनिकल, इलैक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग विभागों के करीब 300 छात्रों ने कई प्रोफेसरों और विशेषज्ञों की देखरेख में इस बस का निर्माण किया है। पूरी तरह चार्ज होने के बाद यह बस 60 से 70 किलोमीटर तक चल सकती है और ब्लूटूथ और जीपीएस के जरिए इसकी निगरानी की जा सकती है। बस की अधिकतम रफ्तार 30 किलोमीटर प्रति घंटा है और इसमें10 यात्री सवार हो सकते हैं।"

ये भी पढ़ें : खेत में लगाइए ये मशीन, फसल के आसपास भी नहीं आएंगे नीलगाय और छुट्टा जानवर

इस बस की सबसे खासियत यह है कि इससे न तो प्रदूषण होता है और न ही इसमें सवार होने पर किसी दुर्घटना का डर रहता है। इस बस में वायरलेस संकेतों पर आधारित तकनीक का उपयोग किया गया है। इन संकेतों को अल्ट्रासोनिक और इंफ्रारेड सेंसरों की मदद से पकड़ा जा सकता है। बस के रास्ते में जब भी कोई अवरोध आता है तो इसमें लगाए गए खास सेंसर सक्रिय हो जाते हैं और बस को तत्काल रोक देते हैं।


मनदीप सिंह के अनुसार, इस स्मार्ट बस को बनाने में करीब 6 लाख रुपए की लागत आयी है।

इसके निर्माण से जुड़े शोधकर्ताओं के अनुसार, भारतीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए इस बस को डिजाइन किया गया है। इस स्मार्ट बस का इंजन और इसमें लगी बैटरी सौर ऊर्जा के प्रति अनुकूलित है। करीब दस मीटर के दायरे से इस चालक रहित बस को नियंत्रित किया जा सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है किइस बस का उपयोग हवाई अड्डों, हाउसिंग सोसायटी, औद्योगिक संस्थानों और शिक्षण संस्थानों में किया जा सकता है।

एलपीयू के चांसलर अशोक मित्तल के अनुसार, "यह बस छात्रों की एक अनूठी परियोजना पर आधारित है। इसका निर्माण छात्रों की एडवांस तकनीकी क्षमता को दर्शाता है। एलपीयू के छात्रों की अन्य तकनीकी परियोजनाओं में फ्लाइंग फार्मर, फॉर्मूला-1 कार और गो-कार्ट्स इत्यादि शामिल हैं।" फ्लाइंग फार्मर सेंसर आधारित वायरलेस उपकरण है औरइसका उपयोग मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र में खेतों के सर्वेक्षण के लिए किया जा सकता है। (इंडिया साइंस वायर)

ये भी पढ़ें : ये सोलर ट्री खत्म कर सकता ऊर्जा संकट , जानिए क्या है इसमें खास

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top