सिविल सेवा में सफलता पाने वाले आधे होते हैं इंजीनियर : सरकार

सिविल सेवा में सफलता पाने वाले आधे होते हैं इंजीनियर : सरकारसिविल परीक्षा में सफल होने वाले ज्यादातर इंजीनियर।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने आज कहा कि सिविल सेवा परीक्षा में सफलता पाने वालों में से आधे इंजीनियर होते हैं उनमें से अधिकतर लोक प्रशासन, समाजशास्त्र, भूगोल जैसे विषय लेकर यह सफलता पाते हैं।

सिंह ने पूरक प्रश्नों के उत्तर में आज राज्यसभा को बताया कि इस वर्ष सिविल परीक्षा में अव्वल आये 20 परीक्षाथर्यिों में से 19 इंजीनियर एवं एक चिकित्सक हैं।

भाजपा के सुब्रह्मण्यम स्वामी ने उनसे यह पूरक प्रश्न किया था कि क्या सरकार को इस बात का ज्ञापन मिला है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा परीक्षा में आयुर्वेद एक विषय बनाया जाए। इसके लिखित जवाब में कार्मिक, जन शिकायत एवं पेंशन मंत्री ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर गौर कर रही है।

ये भी पढ़ें:- बंद हो सकती है ‘ सार्वजनिक वितरण प्रणाली ’ कोटे पर नहीं मिलेगा अनाज, खाते में पहुंचेगा पैसा

सिंह ने कहा कि इस परीक्षा में 48 वैकल्पिक विषय हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि आयुर्वेद एक वैकल्पिक विषय नहीं होने का यह अर्थ नहीं है कि आयुर्वेद स्नातक इस परीक्षा में बैठ नहीं सकते।

उन्होंने कहा कि इन परीक्षाओं में प्राय: इंजीनियर एवं चिकित्सक सफल होते हैं किन्तु वे उन विषयों में सफल होते हैं जो उनके स्नातक के विषय नहीं होते। उन्होंने कहा कि दस प्रतिशत भी ऐसे डॉक्टर नहीं हैं जो इस परीक्षा में चिकित्सा विज्ञान को एक विषय बनाते हैं।

ये भी पढ़ें:- घरेलू सिलेंडर पर 50 लाख तक का होता है बीमा, ऐसे जानिये सिलेंडर की एक्सपायरी डेट

Share it
Share it
Share it
Top