भ्रष्टाचार रोकने के लिए रेलवे का होगा डिजीटलीकरण, 60,000 करोड़ रुपए की बचत होगी

भ्रष्टाचार रोकने के लिए रेलवे का होगा डिजीटलीकरण, 60,000 करोड़ रुपए की बचत होगीरेलवे मे पारदर्शिता लाने के लिए ये कदम उठाया गया है 

नई दिल्ली (भाषा)। रेलवे एक साझा डिजिटल प्लेटफार्म विकसित कर रहा है, जिसमें सभी विभागों की सूचनाओं का एकीकरण होगा। भविष्य की रूपरेखा के तहत यह प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है जिससे प्रणाली में पारदर्शिता आएगी और रेलवे को करीब 60,000 करोड़ रुपए की बचत होगी।

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि इसके अलावा रेलवे की पूरी खरीद श्रृंखला का डिजिटलीकरण होगा, जिससे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा।

उन्होंने कहा, ‘हमारी पूरी आपूर्ति श्रृंखला का डिजिटलीकरण होगा। भुगतान इलेक्ट्रॉनिक तरीके से किया जाएगा, खरीद भी इसी तरीके से होगी। इससे भ्रष्टाचार रुकेगा।’ रेलवे के लिए अपनी सोच का उल्लेख करते हुए प्रभु ने कहा कि हम पूर्ण डिजिटलीकरण प्रक्रिया एंटरप्राइज रिसोर्स प्लानिंग (ईआरपी) करने जा रहे हैं। रेल का पूरा परिचालन ऑनलाइन होगा। उद्योग के अनुमान के अनुसार इससे 60,000 करोड़ रुपए की बचत होगी।

ईआरपी एक आईटी आधारित प्लेटफार्म होगा, जिससे प्रणाली के आधार पर एकीकरण और योजना के लिए होगा।

उन्होंने कहा कि हमारी रेलवे के लिए सोच यह है कि उन मुद्दों को सुलझाया जाए जिनकी वजह से आज यह संकट में है। पूर्ण डिजिटलीकरण से एक स्थान से परिचालन का प्रबंधन हो सकेगा।

Share it
Top