आज की भाजपा अटल-आडवाणी के जमाने की नहीं रही: यशवंत सिन्हा 

आज की भाजपा अटल-आडवाणी के जमाने की नहीं रही: यशवंत सिन्हा भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा

जबलपुर (भाषा)। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर बागी तेवर दिखाते हुए आज दावा किया कि आज की भाजपा वह भाजपा नहीं रह गई है जो अटल बिहारी वाजपेयी एवं लाल कृष्ण आडवाणी के जमाने में थी।

सिन्हा ने कहा, ''आज जो भाजपा है वह अटल जी एवं आडवाणी जी की भाजपा नहीं है।'' उन्होंने कहा, ''अटलजी एवं आडवाणी जी के काम करने का जो तरीका था, जो शैली थी, वह बिलकुल भिन्न थी।'' सिन्हा ने कहा कि एक साधारण कार्यकर्ता जबलपुर से जाकर भाजपा के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष आडवाणी से पहले से समय लिए बिना मिल सकता था। लेकिन आज वह व्यवस्था बदल गई है।

ये भी पढ़ें- राजनीति में हर रंग कुछ कहता है…

सिन्हा ने बताया, ''मैंने 13 माह पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने के लिए समय मांगा था। वह समय हमें आज तक नहीं मिला है।'' उन्होंने कहा, ''चूंकि समय नहीं मिला, तो मैंने तय किया है कि अब मैं सरकार में बैठे किसी भी व्यक्ति से बात नहीं करुंगा। बात होगी तो सार्वजनिक तौर पर होगी। बंद कमरे में नहीं होगी।'' उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने जिन मुद्दों का विरोध किया था, सरकार में आने के बाद उन मुद्दों को स्वीकार कर रही है।

ये भी पढ़ें- चारे से लेकर टूजी तक जानिए वो घोटाले, जिनसे देश में हड़कंप मच गया

सिन्हा ने बताया कि देश में किसानों की कोई पूछ नहीं हो रही है। मध्य प्रदेश में भी किसानों के हालात ठीक नहीं हैं। किसानों को उनकी उपज के वाजिब दाम दिलाने के लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में शुरु भावांतर योजना एवं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फसल बीमा योजना को सिन्हा ने झुनझुना करार दिया।

ये भी पढ़ें- राजस्थान की अजमेर लोकसभा सीट, अलवर लोकसभा सीट व मांडलगढ़ विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव 29 जनवरी को 

Share it
Top