दीपावली के बाद टमाटर और प्याज की फिर बढ़ी कीमतें, बिगड़ा रसोई का बजट

दीपावली के बाद टमाटर और प्याज की फिर बढ़ी कीमतें, बिगड़ा रसोई का बजटटमाटर

लखनऊ। एक बार फिर टमाटर और प्याज के दामों में हुई बढ़ोतरी के कारण जनता पर महंगाई की मार पड़ रही है। देश में टमाटर और प्याज के दामों में इन दिनों जबर्दस्त उछाल आ गया है। टमाटर 20 और प्याज 10 रुपये महंगे हो गया है। सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि नासिक में फसल खराब होने की वजह से रेट बढ़ रहे हैं।

इस समय मंडी में टमाटर के साथ-साथ प्याज के दाम में आया भारी उछाल आम जनता के लिए मुसीबत का कारण बन चुका है। पिछले 3-4 दिनों में ही प्याज का रेट जहां उछलकर 30 से 50 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गया है, वहीं टमाटर 40 से उछलकर 80 रुपए किलो बिक रहा है।

दिल्ली के खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने आशंका जताई है कि यह जमाखोरी के चलते हो रहा है। खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, टमाटर और प्याज के दाम में बिना किसी मुमकिन कारण के लगातार वृद्धि इन चीजों की जमाखोरी की तरफ इशारा करती है।

व्यापारी वर्ग पर सवालिया निशान

सब्जी मंडी के आढ़तियों के मुताबिक राजस्थान व गुजरात के अलावा मध्य प्रदेश व नासिक से देश भर की मंडियों में निर्यात होने वाले प्याज के दामों में अचानक तेजी आने से व्यापारी वर्ग की मनमानी पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है, क्योंकि पिछले 3 से 4 दिनों के अंदर प्रति किलो के भाव में बेतहाशा बढोतरी होना, इस मनमानी को उजागर कर रहा है। अगर डीजल के भाव में बढ़ोतरी होती तो और बात थी, लेकिन एकमुश्त 32 से 42 रुपए प्रति किलो बढ़ा भाव सरकार की व्यापारियों से मिलीभगत होने की बात को सीधा उजागर कर रहा है।

यह भी पढ़ें- सरकारी रिपोर्ट : किसान की आमदनी 4923 , खर्चा 6230 रुपए

सिर्फ नासिक में बचा स्टाक

जब इस संबंध में मंडी के थोक व्यापारियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि राजस्थान, मध्य प्रदेश व गुजरात से आने वाले प्याज की फसल का स्टाक खत्म हो चुका है। अब देशभर की मंडियों में जो प्याज आ रहा है, वह सिर्फ नासिक से आ रहा है। महाराष्ट्र के प्याज उत्पादक भी अपनी मनमानी के दाम मांग रहे हैं। अगर स्थिति ऐसी रही तो और रेट बढ़ सकता है। उनका कहना है कि व्यापारी कम रेट पर अपना माल बेचने को तैयार नहीं हैं।

एक माह में चार गुना बढ़ीं टमाटर की कीमतें

लखनऊ के एक सब्जी विक्रेता मुकेश का कहना है, "मंडी में टमाटर और प्याज काम आ रहा है। अचानक से प्याज और टमाटर का दाम बढ़ गया, जिसके चलते बिक्री भी कम हो गई है। पिछले एक महीने में 400 रुपए कैरेट का टमाटर आज 1600 रुपये कैरेट तक पहुंच गया है।" सब्जी मंडी में सब्जी खरीदने पहुंचे एक युवक ने बाताया, "पांच दिन पहले पहले वह बाजार से 35 रुपए प्रति किलो के भाव से प्याज खरीद रहे थे, लेकिन आज प्याज खरीदने लगे हैं तो विक्रेता 50 रुपए बता रहे हैं।"

विशेष : किसानों की आमदनी दोगुनी करने के मिशन में बाधा न बन जाएं बदहाल कृषि विज्ञान केन्द्र

15 नवंबर के बाद सस्ता होगा टमाटर

मंडी अधिकारियों की मानें तो 15 नवंबर से हल्द्वानी सहित पहाड़ के विभिन्न क्षेत्रों से भी टमाटर की आपूर्ति शुरू हो जाएगी। इसके बाद टमाटर के दाम कंट्रोल में आने की उम्मीद की जा रही है।

सब्जियों के दाम

सब्जी----------------- थोक के दाम----------------- फुटकर

आलू----------------- 3.5 से 6.5------------------- 20 रुपये

प्याज----------------- 15 से 20 -----------------40-50 रुपये

टमाटर----------------- 20 से 25----------------- 60-80 रुपये

बीन्स----------------- 6 से 11 --------------------80 रुपये

गोभी -----------------11 से 15------------------- 40 रुपये

भिंडी -----------------6.5 से 10------------------ 60 रुपये

मटर ----------------- 18 से 25 -----------------100 रुपये

बैंगन----------------- 7 से 10------------------- 40 रुपये

(नोट-थोक के दाम निरंजनपुर मंडी व फुटकर के दाम लालपुल स्थित मंडी से लिए गए हैं।)

ये भी पढ़ें:- किसानों की आय दोगुनी करने के पीएम मोदी के वादे की राह में अड़ंगे ही अड़ंगे

ये जरूर पढ़ें- किसान का दर्द : “आमदनी छोड़िए, लागत निकालना मुश्किल”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top