तीन तलाक : ‘निकाह के वक्त दूल्हों को तीन तलाक का रास्ता नहीं अपनाने की सलाह देंगे काजी’ 

Karan Pal SinghKaran Pal Singh   22 May 2017 9:43 PM GMT

तीन तलाक : ‘निकाह के वक्त दूल्हों को तीन तलाक का रास्ता नहीं अपनाने की सलाह देंगे काजी’ प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में एक एफिडेविट फाइल किया। इसमें बोर्ड ने कहा है कि वो काजियों से कहेगा कि वो दूल्हों को तीन तलाक का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दें। बता दें कि तीन तलाक के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई पूरी कर ली गई थी। कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले AIMPLB ने कोर्ट से कहा था कि वो निकाहनामे में महिलाओं की राय जानने के लिए काजियों को एडवायजरी जारी करेगा।

ये भी पढ़ें:- तीन तलाक का ये है शर्मसार करने वाला पहलू , जिससे महिलाएं ख़ौफ खाती हैं

ये भी पढ़ें:- महिलाएं तीन तलाक से निकलने का विकल्प चुन सकती हैं : एआईएमपीएलबी

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने एफिडेविट में लिखा, "हम काजियों को एडवायजरी जारी करेंगे, जिसमें उनसे कहा गया है कि वो दूल्हों को तीन तलाक का सहारा नहीं लेने की सलाह दें। शरियत और निकाहनामे में तीन तलाक एक गलत प्रथा है, ऐसे किसी प्रोविजन की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।"

गुरुवार को कोर्ट में किसने क्या कहा

कपिल सिब्बल, AIMPLB के वकील: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड काजियों को एडवायजरी जारी करेगा कि तीन तलाक पर न सिर्फ महिलाओं का मशविरा लिया जाए, बल्कि उसे निकाहनामे में भी शामिल किया जाए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट को तीन तलाक की वैलिडिटी जानने के मसले में नहीं पड़ना चाहिए, क्योंकि किसी कम्युनिटी के रीति-रिवाजों की वैलिडिटी बहुत नाजुक मसला है।

सुप्रीम कोर्ट: कोई चीज मजहब के हिसाब से गुनाह है तो वह किसी कम्युनिटी की रिवाज का हिस्सा कैसे बन सकती है?

अमित चड्ढा, मेन पिटीशनर शायरा बानो के वकील: इस्लाम ने कभी औरत और मर्द में भेदभाव नहीं किया। मेरी राय में तीन तलाक एक पाप है। यह मेरे और मुझे बनाने वाले (ईश्वर) के बीच में रुकावट है।

ये भी पढ़ें:- शादी खत्म करने का सबसे खराब तरीका है तीन तलाक: सुप्रीम कोर्ट

ये भी पढ़ें:- तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक : रीता बहुगुणा जोशी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top