उग्रवादियों के साथ मुठभेड में थाना प्रभारी विद्यापति समेत दो पुलिसकर्मी मारे गए  

उग्रवादियों के साथ मुठभेड में थाना प्रभारी विद्यापति समेत दो पुलिसकर्मी मारे गए  झारखंड पुलिस। प्रतीकात्मक छायाचित्र

झारखंड। सिमडेगा के गिरिजाटोली में पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) के साथ मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी मारे गये और एक अन्य घायल हो गया। मृतकों की पहचान बानो थाना प्रभारी विद्यापति सिंह और कांस्टेबल तरण बिरली के रुप में की गयी है। आईजी (परिचालन) आशीष बत्रा ने कहा कि तीन थानों का एक दल पीएलएफआई उग्रवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद शनिवार की देर रात इलाके में पहुंचा था। उग्रवादी हमले की योजना बना रहे थे। जब उग्रवादियों ने पुलिस दल को देखा तो उन्होंने गोली चलाना शुरू कर दिया। इसके बाद जवाब में सुरक्षा बलों ने भी गोलियां चलाईं। बत्रा के मुताबिक आधे घंटे तक चली गोलीबारी के बाद दो पुलिसकर्मियों के शव मिले और एक घायल अवस्था में मिला।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

अधिकारी के मुताबिक उग्रवादी मौके से भागने में सफल रहे। मौके पर मोबाइल फोन, एके 47 राइफल की मैगजीन और एक डायरी मिली है। विशेष कार्यबल, राज्य का जगुआर बल और सीआरपीएफ को मिलाकर अतिरिक्त बल घटनास्थल पर पहुंच गया और तलाशी अभियान शुरू कर दिया। इस बीच मुख्यमंत्री रघुबर दास ने हमले को ‘‘कायराना'' बताया और कहा कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। उन्होंने कहा, ‘‘पुलिसकर्मियों ने उग्रवादियों का साहस से सामना किया, हमें उन पर गर्व है। हम कट्टरपंथ को जड़ से उखाड़ फेकेंगे, उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।'' दास ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। उनके परिवार को उनकी बची हुई सेवा की अवधि का वेतन भी दिया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘सरकार शहीदों के बच्चों की शिक्षा का खर्च वहन करेगी और हर परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी।'' मुख्यमंत्री ने प्रधान सचिव :गृह: एसके रहाते और पुलिस महानिदेशक डीके पांडे को घटनास्थल पर पहुंचने और आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top