वाराणसी कमिश्नर की रिपोर्ट - बीएचयू बवाल के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन जिम्मेदार

वाराणसी कमिश्नर की रिपोर्ट - बीएचयू बवाल के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन जिम्मेदारबीएचयू

नई दिल्ली। वाराणसी के कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने काशी हिन्दू विश्वविद्यायल (बीएचयू) परिसर में शनिवार की रात हुए भारी बवाल के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन को दोषी ठहराया है। कमिश्नर ने सोमवार को मुख्य सचिव राजीव कुमार को भेजी अपनी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में कहा कि बीएचयू प्रशासन ने पीड़िता की शिकायत को संवेदनशील तरीके से नहीं संभाला, न ही स्थिति को सही वक्त पर संभाला। इसी वजह से इतना बड़ा बवाल हुआ। कमिश्नर ने जांच के दौरान वाइस चांसलर और पीड़ित लड़की समेत 12 लोगों के बयान लिए।

ये भी पढ़ें:- BHU : आखिर किसने दिया छात्राओं पर लाठीचार्ज का आदेश !

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन ने मामले को गलत तरीके से हैंडल किया और वक्त रहते इसका हल नहीं निकाला। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अगर वक्त रहते इस मामले को सुलझा लिया गया होता तो इतना बड़ा विवाद खड़ा नहीं होता। रिपोर्ट के अनुसार इस पूरे मामले में सबसे बड़ा दोष प्रशासन का ही है, वह चाहते तो यह मामला आराम से निपट सकता था।

संबंधित खबर :- बीएचयू की कहानी 4 लड़कियों की जुबानी... ‘हां हम हर वक्त छेड़खानी की दहशत में जीते हैं’

देखें वीडियो...

ये भी पढ़ें- बीएचयू विवाद : “कुर्ते में हाथ डाला था, कोई कहां तक बर्दाश्त करे”

ये भी पढ़ें-‘हम लड़कियों को कभी ना कभी रास्ता चलते यहां - वहां हाथ तो मारा ही जाता है’

ये भी पढ़ें-बीएचयू की कहानी 4 लड़कियों की जुबानी... ‘हां हम हर वक्त छेड़खानी की दहशत में जीते हैं’

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top