ट्विटर और यूपी पुलिस के सिपाही ने बुजुर्ग महिला की ऐसे की मदद

ट्विटर और यूपी पुलिस के सिपाही ने बुजुर्ग महिला की ऐसे की मददी पुलिस के सिपाही ने बूढ़ी महिला को पहुंचाया वृद्धा

पुलिस को लेकर हमारे मन में हमेशा एक नकारात्मक छवि ही रहती है लेकिन कई बार पुलिस ऐसे काम भी कर देती है जो इंसानियत की मिसाल पेश करते हैं। ऐसा ही कुछ किया है झांसी पुलिस के सिपाही जितेंद्र यादव ने।

झांसी पुलिस में सिपाही जितेंद्र यादव को शनिवार को झांसी में एक बेसहारा बुजुर्ग महिला मिली जो सड़क के किनारे बैठी थी। जितेंद्र को जब ये महिला मिली तो उन्हें लगा कि सर्द रात में उसे अकेला नहीं छोड़ना चाहिए।

जितेंद्र यादव गाँव कनेक्शन को फोन पर बताते हैं, “झांसी में आवास विकास में एक शिव मंदिर है जिसमें मैं हर मंगलवार व शनिवार को भजन करने जाता हूं। इस शनिवार को भी मैँ वहां गया लेकिन तब तक भजन खत्म हो चुके थे, तो मैं वहां के पुजारी से बातें करने लगा। बात करते - करते मंदिर के पुजारी ने बताया कि यहीं पास में एक बुजुर्ग महिला तीन दिन से बैठी हैं। मैं उनके पास गया और उनसे बात करने की कोशिश की, वो माता जी ठीक से कुछ बोल नहीं पा रही थीं, कुछ टूटे - फूटी पंजाबी- सिंधी में उन्होंने बोला जो ठीक से मेरी समझ में नहीं आया। इसके बाद मैं पास में ही सरदार जी का एक ढाबा है वहां से उनके लिए दाल - रोटी लेकर आया।”

यह भी पढ़ें : यातायात के नियमों का पालन कराने के लिए यूपी पुलिस ले रही सुपरमैन का सहारा

जितेंद्र बताते हैं कि जब मैंने उन्हें खाना लाकर दिया तो उन्होंने मेरे ऊपर भरोसा ही नहीं किया, उन्हें लगा कि मैंने कहीं खाने में कुछ मिलाकर न दे दिया हो उन्हें। वो खाने से मना कर रही थीं, फिर मुझसे बोलीं कि तुम पहले खाकर दिखाओ। फिर मैंने उन्हें अपनी पुलिस वाली फोटो दिखाई और कहा कि आप मेरे ऊपर भरोसा करो और खाना खा लो, तब बड़ी मुश्किल से उन्होंने खाना खाया।

इसके बाद मैंने मंदिर के पुजारी से कहकर उत्तर प्रदेश की महिला हेल्प लाइन 181 पर कॉल करवाई लेकिन उन्होंने कह दिया कि हम अब सुबह ही कुछ कर पाएंगे।

इसके बाद जितेंद्र ने गाँव कनेक्शन के फाउंडर नीलेश मिसरा और यूनिसेफ इंडिया को टैग करते हुए ट्वीट किया व मदद करने के लिए बोला। इसके बाद नीलेश मिसरा ने यूपी100 व झांसी पुलिस को टैग करते हुए ट्वीट किया और जितेंद्र से यूपी 100 से बात करके उन्हें लोकेशन बताने के लिए कहा। जितेंद्र बताते हैं कि इसके बाद मैंने नीलेश मिसरा और यूनिसेफ इंडिया को टैग करते हुए ट्वीट किया और उनकी मदद से जल्द ही 181 की टीम माता जी को लेने आवास विकास पहुंच गई।

उन्होंने 181 के प्रमुख को फोन करके मामले की सूचना दी।

जिंतेंद्र यादव और नीलेश मिसरा के प्रयास से 181 की टीम रात लगभग 12.30 बजे बुजुर्ग महिला के पास पहुंची और उन्हें वृद्धाश्रम पहुंचाया गया।

ये भी पढ़ें : अलीगढ़ पुलिस ने गुम हुयी बेटी को उसकी माँ से मिलवाया, एसएसपी से महिला ने लगायी थी गुहार

आईपीएस की मार्मिक पोस्ट- ‘उसकी किसी ने नहीं सुनी क्योंकि वो गरीबी रेखा के अंतिम पायदान पर है’

Share it
Top