अगले 48 घंटों में फिर आ सकती है धूल भरी आंधी, अब तक यूपी, राजस्थान में 110 की मौत

अगले 48 घंटों में फिर आ सकती है धूल भरी आंधी, अब तक यूपी, राजस्थान में 110 की मौतआगरा के कई हिस्सों में आंधी-तूफान से गिरे पेड़।

लखनऊ/जयपुर। यूपी और राजस्थान में आए आंधी तूफान में मृतकों की संख्या बढ़ती जा रही है। दोनों प्रदेशों में अब तक 110 से ज्यादा लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हुए है। मौसम विभाग ने 4 और मई मई को भी लोगों से सचेत रहने को कहा है।

बुधवार की रात आई आंधी में सबसे ज्यादा नुकसान पूर्वी राजस्थान और उससे सटी यूपी की आगरा बेल्ट में हुआ था। मकान ढहने, पेड़ और बिजली के खंभे गिरने से सबसे ज्यादा मौतें हुईं। अकेले यूपी में 73 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है।

मौसम विभाग के एक अधिकारी के अनुसार, क्षेत्र में बने चक्रवाती परिसंचार तंत्र से अगले 48 घंटों के दौरान दोनों राज्यों के कुछ हिस्सों में फिर से धूल भरी आंधी आने का पूर्वानुमान है। जनहानि पर दु:ख प्रकट करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को राज्यों के साथ समन्वय बनाने और प्रभावितों को तुरंत राहत प्रदान किया जाना सुनिश्चित करने को कहा है।

जयपुर के भारतीय मौसम विभाग के वैज्ञानिक हिमांशु शर्मा ने बताया, “राजस्थान में आगामी 48 घंटों के दौरान उच्च क्षमता की तेज हवाओं के चलने से धूल भरा अंधड़ आने की आशंका है। इससे उत्तर प्रदेश और राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्र विशेषकर करौली, धौलपुर जिले प्रभावित हो सकते हैं।“ जबर्दस्त आंधी-तूफान की वजह से अनेक मकान ध्वस्त हो गए, पेड़ गिर गए और बिजली के खम्बे उखड़ गये।

उत्तर प्रदेश में तेज आंधी-तूफान, बिजली गिरने और ओलावृष्टि के कारण हुए हादसों में 64 लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने बताया कि राजस्थान में 33 लोगों की मौत के साथ कुल 97 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में करीब 100 लोग घायल हो गए।

सबसे ज्यादा जनहानि आगरा और धौलपुर में

आगरा में कई घरों की छतें गिरी।

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा जनहानि आगरा जिले में हुई, जहां 36 लोगों की मौत हो गई और 35 अन्य जख्मी हो गये। आगरा के अलावा, उत्तर प्रदेश में बिजनौर, बरेली, सहारनपुर, पीलीभीत, फिरोजाबाद, चित्रकूट, मुजफ्फरनगर, रायबरेली और उन्नाव भी प्रभावित हुआ। राजस्थान में सबसे ज्यादा धौलपुर जिला प्रभावित हुआ जहां 17 लोगों की मौत हो गयी। धौलपुर में जिन दो लोगों की मौत हुई, उसमें दो लोग उत्तर प्रदेश के आगरा के थे।

कई लोगों का चल रहा है उपचार

आपदा प्रबंधन और राहत सचिव हेमंत कुमार गेरा ने बताया, “कुछ लोगों का उपचार चल रहा है, जबकि कुछ को छुट्टी दे दी गयी है। गंभीर रूप से घायल एक मरीज को धौलपुर से जयपुर भेजा गया है।“ उन्होंने बताया, “आंधी आपदा की विस्तृत रिपोर्ट की प्रतीक्षा है, हालांकि राहत दलों को सड़कों से मलबा हटाने, बिजली की सप्लाई को चालू करने सहित अन्य राहत कार्यों में लगाया गया है।“

मृतकों के परिजनों और घायलों को मिला मुआवजा

आगरा में कई जगह गिरे बड़े पेड़।

उन्होंने बताया, “आंधी प्रभावित जिला प्रशासन को आकस्मिक निधि कोष से राशि जारी की गई है। मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए का मुआवजा, 60 प्रतिशत तक घायल हुए लोगों को दो-दो लाख रुपए का मुआवजा, 40 से 50 प्रतिशत तक घायल हुए लोगों को 60-60 हजार रुपए का मुआवजा दिया जाएगा।

राजस्थान के बीकानेर में आसमान में छाई रही धुंध।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने प्राकृतिक आपदा पर दुख व्यक्त करते हुए जिला प्रशासन को निर्देश दिया है कि वह पीड़ितों को हर संभव राहत पहुंचाए। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्बन्धित जिलाधिकारियों को आंधी-तूफान और बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा, “संबंधित जिलों के अधिकारी नुकसान का आकलन करते हुए प्रभावितों को बिना देर किए मुआवजा प्रदान करें। राहत कार्यों में किसी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।“

(साभार: एजेंसी)

Tags:    thunderstorms 
Share it
Top