यूपी: उन्‍नाव में मुआवजे की मांग कर रहे किसानों का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

यूपी: उन्‍नाव में मुआवजे की मांग कर रहे किसानों का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में ट्रांस गंगा सिटी प्रोजेक्ट की जमीन के मुआवजे की मांग को लेकर शनिवार दोपहर किसानों व पुलिस के बीच जमकर बवाल हुआ। भूमि अधिग्रहण के विरोध में धरना दे रहे किसानों ने पुलिस की सख्ती के विरोध में उनके वाहनों व उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) की जेसीबी पर पथराव किया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। किसानों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे व पानी की बौछार की।

उन्नाव के गंगाघाट थानाक्षेत्र के कन्हवापुर गांव में वर्ष 2002-03 में ट्रांसगंगा सिटी के लिए 1144 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया गया था। जमीन की रजिस्ट्री भी हो चुकी है। लेकिन किसान मुआवजे को कम बताकर मौजूदा सर्किल रेट के अनुसार मुआवजा देने या जमीन वापस करने की मांग कर रहे हैं। तय योजना के अनुसार यूपीसीडा को शनिवार को जमीन पर कब्जा लेना था।

इसके विरोध में सुबह सात बजे ही पांच सौ से अधिक किसान यूपीसीडा कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। शासन के निर्देश पर किसानों को हटाने व निर्माण शुरू कराने के निर्देश पर पहुंचे पुलिस बल ने किसानों को हटाने का प्रयास शुरू किया। इस दौरान यूपीसीडा की जेसीबी ने जैसे ही भूमि खाली करानी शुरू की तभी किसान भड़क गए। किसानों ने जेसीबी व पुलिस के वाहनों पर पथराव शुरू कर दिया, जिससे जेसीबी चालक व एक सिपाही घायल हो गया।


पथराव से पुलिस को पीछे हटना पड़ा। हमलावर किसानों ने यूपीसीडा के कार्यालय से बाहर निकल गंगा बैराज मार्ग जाम कर दिया। पथराव की सूचना पर एडीएम राकेश कुमार व एएसपी विनोद कुमार पांडेय ने मौके पर पहुंच किसानों से वार्ता का प्रयास किया। हालांकि किसान पीछे हटने को तैयार नहीं हुए।

अधिकारियों व किसानों के बीच वार्ता के दौरान बात बिगड़ गई। इसके बाद किसानों ने दोबारा पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। पथराव से एएसपी विनोद कुमार पांडेय के हाथ व सीओ सिटी एके राय के जबड़े में ईंट लग गई। एएसपी विनोद कुमार पांडेय ने मामले की सूचना आला अधिकारियों को दी और कुछ ही देर में पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज शुरू कर दिया।


किसानों को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए। जिससे किसान यूपीसीडा के कार्यालय से दूर हट गए। किसानों के पीछे हटते ही पुलिस ने किसान नेता वीएन पाल को हिरासत में लिया और घायल किसानों को अस्पताल भेजा। पुलिस ने विवादित भूमि स्थल को अपने कब्जे में ले लिया है।

इसके बाद यूपीसीडा के चीफ इंजीनियर संदीप चंद्र ने निर्माण कार्य शुरू कराया। डीएम देवेंद्र कुमार पांडेय ने बताया कि किसानों से वार्ता की हरसंभव कोशिश की गई थी। किसानों के साथ मौजूद अराजकतत्वों ने पथराव किया था। इनमें से एक को हिरासत में ले लिया गया है। लगभग डेढ़ घंटे तक चले बवाल में छह किसान, एएसपी विनोद कुमार पांडेय, सीओ सिटी एके राय, एक दरोगा व तीन सिपाही घायल हो गए हैं।

खबर- नवनीत कुमार

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top