भारत पहुंचा सबसे खतरनाक वायरस, WHO ने की पुष्टि, पढ़िए कैसे करें इससे बचाव

भारत पहुंचा सबसे खतरनाक वायरस, WHO ने की पुष्टि, पढ़िए कैसे करें इससे बचावपिछले साल ब्राजील समेत कई दक्षिण अमेरिकी देशों में इस वायरस ने दहशत पैदा कर दी थी।

अहमदाबाद। पिछले साल ब्राजील समेत कई दक्षिण अमेरिकी देशों में दहशत मचाने के बाद जीका वायरस ने भारत में भी दस्तक दे दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गुजरात में 3 लोगों के जीका वायरस से पीड़ित होने की पुष्टि की है। भारत में इस वायरस के पाए जाने का ये पहला मामला है। तीनों ही मरीज अहमदाबाद के बापूनगर इलाके के रहने वाले हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट पर छपी रिपोर्ट में बताया गया है कि अहमदाबाद के बीजजे मेडिकल कॉलेज (BJMC) ने 10 से 16 फरवरी 2016 के बीच 93 ब्लड सैंपल इकट्ठे किए थे। इनमें से एक 64 साल के बुजुर्ग में जीका वायरस पाए गए। यह भारत में जीका वायरस के संक्रमण का पहला केस है।

ये भी पढ़ें- जीका वायरस की गुत्थी को सुलझाकर देश का नाम किया रोशन

इसी तरह एक 34 साल की महिला के ब्लड सैंपल में भी जीका वायरस पाने की पुष्टि हुई है। महिला ने पिछले साल नवंबर में बीजेएमसी में ही एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया था। उस समय लिए गए उसके ब्लड सैंपल में जीका वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई है। 22 साल की एक गर्भवती महिला भी जीका वायरस से पीड़ित है। महिला का इसी साल जनवरी में ब्लड सैंपल लिया गया था। उस समय महिला को 37 हफ्ते का गर्भ था।

ये भी पढ़ें- जीका को घातक बनाने वाले प्रोटीन की हुई पहचान

बता दें कि गुजरात सरकार ने मच्छरों से लड़ने और पूरे गुजरात को मलेरिया से मुक्त कराने के लिए मुहिम चलाई है। जिसकी शुरुआत अहमदाबाद से की गई। सरकार की कोशिश है कि वो गुजरात को साल 2022 तक मलेरियामुक्त करा दे।

क्‍या है जीका

एक वायरस जो एडीज, एजिप्‍टी और अन्‍य मच्‍छरों से फैलता है. ये चिकनगुनिया और डेंगू भी फैलाते हैं।

लक्षण

  1. बुखार
  2. जोड़ो का दर्द
  3. शरीर पर लाल चकत्‍ते
  4. थकान
  5. सिर दर्द
  6. आंखों का लाल होना

खतरा

  1. माइक्रोकेफेली- इससे प्रभावित बच्‍चे का जन्‍म आकार में छोटे और अविकसित दिमाग के साथ होता है।
  2. ग्‍यूलेन-बैरे- सिंड्रोम शरीर के तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है और इसके चलते लोग लकवा का शिकार हो जाते हैं।

चिंता की बात

  1. यह वायरस सबसे पहले अफ्रीका और दक्षिण एशिया के कुछ देशों में मिला था।
  2. अभी तक इसकी कोई दवाई मौजूद नहीं है।
  3. 40 लोग अकेले अमेरिका में इस खतरे में जिंदगी बिता रहे हैं।
  4. 23 देशों में लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, खासकर दक्षिण अमेरिका में।

कहां-कहां फैला

अब इसका फैलाव ब्राजील समेत कई दक्षिण अमेरिकी देशों में हो चुका है। ब्राजील में ऐसा तब हो रहा है जब 6 महीने बाद वहां ओलंपिक होने जा रहे हैं। ब्राजील में विश्व भर से पर्यटकों के आने जाने के कारण वहां से इसके पूरी दुनिया में फैलने का डर है।

ब्राजील के साथ ही पैरागुए, कोलंबिया, वेनेजुएला, फ्रेंच गयाना, सूरीनाम और मेक्सिको, हैती, प्युएर्तो रीको में जीका वायरस का कहर है। जबकि अर्जेंटीना, चिली, बोलिविया, पेरू, एक्वाडॉर, कोस्टा रिका, एल सैल्वडॉर, ग्वातेमाला, होंडूरास, पनामा, में खतरा मंडरा रहा है।

बचाव के तरीके

जीका वायरस का कोई इलाज नहीं है, इससे बचने का एकमात्र विकल्‍प इसके जोखिम को कम करना है। इसके लिए स्वास्थ्य अधिकारी कीट नाशकों का उपयोग, पूरी बाजू के कपड़े जिससे शरीर कवर हो और खिड़कियों और दरवाजों को बंद करने की सलाह देते हैं। इसके साथ ही उनका कहना है कि ऐसे मच्‍छर रूके पानी में अपने अंडे देते हैं इसलिए पानी को इकट्ठा होने से रोकें। इसके अलावा यूएस सेंट्रर ऑफ डिजीज कंट्रोल गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्रों में यात्रा न करने की सलाह देते हैं।

Share it
Top