सब्ज़ियों के दाम में भारी तेज़ी, थोक महंगाई दर आठ महीने के उच्च स्तर पर

सब्ज़ियों के दाम में भारी तेज़ी, थोक महंगाई दर आठ महीने के उच्च स्तर परसब्ज़ियां

नई दिल्ली। थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई नवंबर में बढ़कर 3.93 प्रतिशत पर पहुंच गई है। यह आठ महीने का उच्‍च स्‍तर है। प्याज और अन्य सब्जियों के दाम बढ़ने से महंगाई में इजाफा हुआ है। अक्‍टूबर में थोक महंगाई दर 3.59 प्रतिशत पर थी, जबकि पिछले साल नवंबर में यह 1.82 प्रतिशत थी। वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, माह के दौरान सालाना आधार पर प्याज के दाम 178.19 प्रतिशत बढ़े। सीजन की अन्य सब्जियों की कीमतों में भी 59.80 प्रतिशत का इजाफा हुआ। अक्‍टूबर में इन सब्जियों के दाम 36.61 प्रतिशत बढ़े थे।

प्रोटीन वाले उत्पादों मसलन अंडा, मांस और मछली की श्रेणी में महंगाई दर 4.73 प्रतिशत रही। इससे पिछले महीने यह 5.76 प्रतिशत थी। नवंबर में खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर बढ़कर 6.06 प्रतिशत हो गई, जो अक्‍टूबर में 4.30 प्रतिशत थी। विनिर्मित वस्तुओं की महंगाई दर 2.61 प्रतिशत पर लगभग स्थिर रही। पिछले महीने यह 2.62 प्रतिशत थी। इससे पहले पिछले सप्ताह जारी आंकड़ों के अनुसार नवंबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर 4.88 प्रतिशत के 15 महीने के उच्चस्तर पर पहुंच गई थी।

यह भी पढ़ें : दालों की महंगाई में टोल टैक्स का तड़का

सब्जियों के दाम जल्द घटने की उम्मीद: डीईए

आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने गुरुवार को उम्मीद जताई कि सब्जियों के दाम में जल्द ही कमी आएगी। नवंबर महीने में उपभोक्ता व थोक मुद्रास्फीति दोनों में ही तेजी आई। गर्ग ने एक ट्वीट में कहा है कि यह सप्ताह आर्थिक डेटा के मोर्चे पर मिले जुले समाचार लेकर आया। उन्होंने लिखा है, ‘उम्मीद है कि सब्जियों के दाम जल्द ही कम होंगे।’

कारोबारियों का कहना है कि उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति बढ़ने के साथ राष्ट्रीय राजधानी के थोक व खुदरा बाजारों में प्याज तथा टमाटर के दाम घटने शुरू हो गए हैं।

यह भी पढ़ें : पोल्ट्री बिजनेस पर महंगाई की मार, चूजा और दाना महंगा होने से कारोबारी परेशान

Share it
Share it
Share it
Top