सबरीमाला में दर्शन करने वाली महिला को अपने ही घर में घुसने की इजाजत नहीं

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • koo
सबरीमाला में दर्शन करने वाली महिला को अपने ही घर में घुसने की इजाजत नहीं

केरल के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली महिला को अपने ही परिवार से विरोध का सामना करना पड़ रहा है। कनक दुर्गा को उनके पति ने घर से बाहर निकाल दिया है। बता दें, इससे पहले मंदिर में प्रवेश करने से नाराज कनक दुर्गा की सास ने उनके साथ मारपीट भी की थी। फिलहाल कनक दुर्गा एक शेल्‍टर होम में रह रही हैं।

कनक दुर्गा (50 साल) ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सबरीमाला मंदिर की परंपराओं को तोड़ते हुए 2 जनवरी को अपनी महिला साथी बिंदू के साथ भगवान अयप्पा के दर्शन किए। इसके बाद से ही राज्‍य में विरोध प्रदर्शन भड़क गए। ऐसे में अपनी सुरक्षा के मद्देनजर दोनों महिलाएं दो हफ्ते तक छिपी रहीं। इसके बाद जब कनक दुर्गा अपने ससुराल गईं तो वहां उन्‍हें अपने परिवार से ही विरोध का सामना करना पड़ा। इसी कड़ी में उनकी सास से झड़प भी हुई, जिससे कनक दुर्गा के सिर पर चोट लग गई। इसके बाद कनक दुर्गा को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से सोमवार की शाम उन्हें छुट्टी मिल गई।


अस्‍पताल से छूटने के बाद पुलिस उन्हें अपने साथ उनके घर ले गई थी, लेकिन कनकदुर्गा के पति अपनी मां और दो बच्चों के साथ पहले ही कहीं और चले गए। साथ ही कनकदुर्गा के पति उनके बात करने को भी तैयार नहीं थे। ऐसे में पुलिस उन्हें लेकर एक सरकारी महिला सहायता केंद्र गई, जहां अब वह रही हैं। कनन दुर्गा अब निचली अदालत में अपने घर में प्रवेश की अनुमति पाने के लिए गुहार लगाएंगी।

बता दें, 28 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर में हर उम्र की महिला को प्रवेश की इजाजत दी थी। इससे पहले यहां 10 से 50 साल की उम्र की महिला के प्रवेश पर रोक थी। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का राज्यभर में विरोध भी हुआ था। फैसले के खिलाफ केरल के राजपरिवार और मंदिर के मुख्य पुजारियों समेत कई हिंदू संगठनों ने पुनर्विचार याचिका भी दायर की थी। हालांकि, अदालत ने सुनवाई से इनकार कर दिया था।

  

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.