महिंद्रा एंड महिंद्रा ने तुर्की की एरकुंट ट्रैक्टर को 478 करोड़ रुपए में खरीदा

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने तुर्की की एरकुंट ट्रैक्टर को 478 करोड़ रुपए में खरीदादुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर मेकर कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा है।

लखनऊ। वॉल्यूम के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर मेकर महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अपने ब्रांड के दुनिया में विस्तार की कोशिश के तहत तुर्की की चौथी सबसे बड़ी ट्रैक्टर मेकर एरकुंट ट्रैक्टर सानायी को को 12.7 करोड़ डॉलर (लगभग 740 करोड़ रुपये) में खरीदने की बुधवार को घोषणा की। महिंद्रा को अरमगन परिवार से 478 करोड़ के लिए ट्रैक्टर बनाने के 100% ट्रांजेक्शन का अधिग्रहण होगा। एरकुन सानाई में फाउंड्री बिजनेस जो मशीनिंग सेवाओं के लिए कास्टिंग प्रदान करता है, भारतीय कंपनी 41 मीटर डॉलर में 80% और 100% हिस्सेदारी के बीच खरीद लेगी ।

महिंद्रा एंड महिंद्रा एरकुंट की ट्रैक्टर बनाने वाली यूनिट के साथ ही उसकी फाउंडरी यूनिट एरकुंट सानायी को भी एक्वायर करेगी। महिंद्रा ट्रैक्टर बनाने वाली यूनिट में 100 पर्सेंट मालिकाना हक रखने वाली अरमागन फैमिली को 7.6 करोड़ रुपये का भुगतान करेगी। फाउंडरी यूनिट में 80-100 पर्सेंट स्टेक के लिए महिंद्रा 5.1 करोड़ डॉलर चुकाएगी। इस यूनिट में अरमागन फैमिली की 35 पर्सेंट हिस्सेदारी है।

महिंद्रा पिछले तीन वर्षों से यह डील करने की कोशिश में थी। इस डील से कंपनी को तुर्की के 3.5 अरब डॉलर के फार्म इक्विपमेंट मार्केट में अपनी मौजूदगी बढ़ाने में मदद मिलेगी। इस मार्केट के 70 पर्सेंट हिस्से पर स्थानीय कंपनियों का दबदबा है।

ये भी पढ़ें-ये भी पढ़ें-महिंद्रा ने भारत में पेश किया पहला चालक रहित ट्रैक्टर, जानें क्या हैं खूबियां

अपने पिछले एक्विजिशंस की तरह महिंद्रा बिजनेस चलाने के लिए कंपनी के मौजूदा मैनेजमेंट को बरकरार रखेगी। हालांकि, इसके बोर्ड में महिंद्रा का अच्छा प्रतिनिधित्व रहेगा।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के मैनेजिंग डायरेक्टर, पवन गोयनका ने ईटी को बताया, 'तुर्की बहुत महत्वपूर्ण मार्केट है। यह दुनिया का चौथा सबसे बड़ा ट्रैक्टर मार्केट है और यहां के कस्टमर्स जिन ट्रैक्टर्स की रेंज चाहते हैं उनमें महिंद्रा मौजूद है। इस बड़े मार्केट में उतरने का एकमात्र तरीका स्थानीय मौजूदगी रखना था और इसी वजह से एक्विजिशन किया गया है।'

महिंद्रा एंड महिंद्रा के 3.5 अरब डॉलर के फार्म इक्विपमेंट बिजनेस में ग्लोबल बिजनेस की हिस्सेदारी लगभग 35 पर्सेंट की है। कंपनी की ओर से फार्म इक्विपमेंट सेगमेंट किए गए पिछले तीन-चार एक्विजिशन से उसके कुल टर्नओवर में 70-80 करोड़ डॉलर की बढ़ोतरी हुई है।

एरकुंट की शुरुआत 2003 में हुई थी और इसका मार्केट शेयर 6 पर्सेंट का है। यह तुर्की की ट्रैक्टर इंडस्ट्री की बड़ी कंपनियों में शामिल है। इसके पास 55 से 110 HP के ट्रैक्टर मौजूद हैं। 2016 में इसका रेवेन्यू 8.8 करोड़ डॉलर का था। इसने पिछले कैलेंडर ईयर में लगभग 4,700 ट्रैक्टर बेचे थे। इसकी सेल्स में एक्सपोर्ट की हिस्सेदारी करीब 7 पर्सेंट थी। कंपनी का प्लांट तुर्की की राजधानी अंकारा में है और इसके पास 350 से अधिक कर्मचारी हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top