केरल: शाह के बाद योगी आदित्यनाथ की राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ पदयात्रा

केरल: शाह के बाद योगी आदित्यनाथ की राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ पदयात्राउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। यूपी के सीएम और बीजेपी फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ आज केरल के कन्नूर पहुंचे। यहां वह बीजेपी और आरएसएस कार्यकर्ताओं की कथित राजनीतिक हत्याओं के खिलाफ पार्टी की ओर से निकाली जा रही 'जनरक्षा यात्रा' में शामिल हुए। उम्मीद है कि पार्टी के कई वरिष्ठ पदाधिकारी इस 14 दिवसीय मार्च में शामिल होंगे।

योगी के मुताबिक, केरल में जारी राजनीतिक हिंसा पर लोगों का ध्यान खींचने के लिए यह यात्रा निकाली गई है। योगी ने कहा, 'लोकतंत्र में हिंसा की कोई जगह नहीं है, लेकिन यहां राजनीतिक हत्याएं जारी हैं।' उन्होंने कहा, 'यह यात्रा केरल, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा की कम्युनिस्ट सरकारों के लिए आईना है। उन्हें राजनीतिक हत्याओं का अंत करना चाहिए।' वहीं, दिल्ली बीजेपी यूनिट ने भी राजधानी में यात्रा निकाली। यह यात्रा सीपीएम दफ्तर तक निकाली गई, जिसमें जितेंद्र सिंह समेत कई सीनियर नेता शामिल हुए।

ये भी पढ़ें- केरल : भूमि अतिक्रमण में शामिल परिवहन मंत्री के खिलाफ खबर चलाई तो एशियानेट टीवी के ऑफिस पर हमला

अमित शाह ने किया जनसुरक्षा यात्रा का आगाज

बता दें मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने केरल के कन्नूर के पयन्नुर से त्रिवेंद्रम तक के लिए इस यात्रा का आगाज किया और खुद भी 10.4 किमी की पदयात्रा की। शाह के साथ केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस भी नजर आए। बीजेपी की जनसुरक्षा यात्रा 15 दिनों तक चलेगी और केरल के 11 जिलों से होकर गुजरेगी।

सभी राज्यों की राजधानी में पदयात्रा

आपको बता दें कि बीजेपी प्रमुख अमित शाह ने उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ सीपीएम की हिंसा के खिलाफ बुधवार से सभी राज्यों की राजधानियों में दो सप्ताह की 'पदयात्रा' की घोषणा की है। आज से देश भर के सभी राज्यों की राजधानी में बीजेपी कार्यकर्ता दो सप्ताह के लिए सड़क पर उतरकर केरल सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में अराजकता, जंगलराज खत्म : योगी आदित्यनाथ

राजनीतिक हत्या और कम्यूनिस्ट शासन का चोली-दामन का साथ- शाह

यात्रा के बाद आज तक के साथ हुई खास बातचीत में अमित शाह ने कहा, "मैसेज तो चला गया... 9 किलोमीटर की यात्रा में पूरा जनसैलाब उभर गया था..." केरल में हुई हत्याओं पर बोलते हुए अमित शाह ने कहा, "केरल में जब से कम्युनिस्ट सत्ता में आए हैं तब से हत्याएं बढ़ी हैं। राजनीतिक हत्याओं का ग्राफ उठाकर देख लीजिए...जब-जब कम्युनिस्ट सत्ता में आते हैं हत्याएं बढ़ जाती हैं। जब-जब कम्युनिस्ट सत्ता में होते हैं राजनीतिक हत्याएं होती है.... राजनीतिक हत्या और कम्युनिस्ट शासन का चोली-दामन का साथ है।"

कम्युनिस्ट हिंसा से थक गए केरल के लोग : BJP

केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन के गृह नगर और सीपीएम के गढ़ में एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि राज्य में हिंसा के लिए विजयन जिम्मेदार हैं. बीजेपी कार्यकर्ता 'राजनीतिक हत्याओं' के पीड़ित हैं। शाह ने कहा "आज मुझे जो प्रतिक्रिया देखने को मिली है, मुझे पूरा भरोसा है कि केरल के लोग कम्युनिस्ट हिंसा से थक गए हैं और इसका जवाब देंगे।

बीजेपी की केरल को बदनाम करने साजिश : CPM

सीपीएम के राज्य सचिव कोडियेरी बालकृष्णन ने आरोप लगाया कि CPM नेतृत्व वाली एलडीएफ सरकार पर जानबूझकर हमले का प्रयास किया गया और 'केरल जिहादियों की भूमि' है यह बयान उस अभियान का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार आतंकवाद के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करेगी और आरोप लगाया कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह निराधार आरोप लगाकर राज्य में तनाव पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें- किसानों को आर्थिक रूप से इतना मजबूत कर दे कि कर्ज लेने की जरूरत न पड़ें : योगी आदित्यनाथ

कन्नूर में सबसे ज्यादा मारे गए बीजेपी कार्यकर्ता : BJP

बात दें कि बीजेपी की जनसुरक्षा यात्रा शुरू होने से एक दिन पहले सोमवार को तीन बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले हुए थे, जिसका आरोप वामपंथी कार्यकर्ताओं पर लगे हैं। बीजेपी ने सोमवार को कहा था कि राज्य में वर्ष 2001 के बाद से 120 बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की जा चुकी है जिनमें से 84 लोग केवल कन्नूर में मारे गए। पिछले साल सीपीएम के सत्ता में आने के बाद से कन्नूर में 14 लोग मारे जा चुके हैं।

Share it
Share it
Share it
Top