इन सात और शहरों को सीएम योगी बनाएंगे 'स्मार्ट सिटी'

इन सात और शहरों को सीएम योगी बनाएंगे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में वित्त 2019-20 का पहला विधानसभा सत्र चल रहा है ।इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा में 2019-20 की प्रथम अनुपूरक मांगों पर बोलते हुए 'मुख्यमंत्री पर्यटन संवर्धन योजना' की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना की तहत सरकार प्रदेश में पर्यटन की संभावनाओं को तलाशने का काम करेगी। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश की सात और शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने की भी घोषणा की है।

उत्तर प्रदेश में पर्यटन की आपार संभावनाएं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन में बोलते हुए कहा कि ने इस योजना में कुछ धन सरकार देगी, कुछ विधायक निधि से खर्च कराए जाएंगे तो कुछ पैसे जनसहयोग के माध्यम से जुटाए जाएंगे। इसके अलावा कुछ धन कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के माध्यम से जुटाया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पर्यटन की आपार संभावनाएं है। इस दौरान उन्होंने अयोध्या के 'दीपोत्सव' के विस्तार, बरसाना की होली, काशी की देव दीपावली के साथ साथ इको टूरिज्म का उल्लेख किया।

स्मार्ट सिटी के लिए 10 शहरों का हुआ था चयन

देश में सरकार की ओर से 100 शहरों को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित किया जा रहा है। इनमें उत्तर प्रदेश के 10 नगर निगमों का भी चयन हुआ है। प्रदेश के 7 अन्य नगर निगमों का स्मार्ट सिटी योजना में जगह नहीं मिली । स्मार्ट योजना में शामिल होने से छूटे शहरों को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि इन शहरों का स्मार्ट सिटी के रूप में विकास प्रदेश सरकार करेगी। इसके लिए प्रदेश सरकार की तरफ से राशि भी आवंटित की जाएगी।

ये भी पढ़ें- बाढ़ से निपटने के लिए क्या तटबंध ही हैं आखिरी उपाय?

सात और शहरों को प्रदेश सरकार बनाएगी स्मार्ट सिटी

केंद्र सरकार की ओर से स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत उत्तर प्रदेश से जो शहर चुने गए हैं वह लखनऊ, प्रयागराज, अलीगढ, कानपुर, झांसी, वाराणसी, आगरा, बरेली, मुरादाबाद और सहारनपुर हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश सरकार की योजना की तहत जिन सात छूटे शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने की बात कही है वह आयोध्या, फिरोजाबाद, गाजियाबाद, गोरखपुर, मथुरा, मेरठ और शाहजहांपुर है।

प्रदेश में योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद पर्यटन को लेकर कई सारे काम किए हैं जिसमें इलाहाबाद में भव्य कुंभ मेले का आयोजन, आयोध्या में दीपोत्सव, वाराणसी में घाटों का पुनरोद्धार भी शामिल है। इसके अलावा प्रदेश में भगवान श्रीराम की 251 मीटर ऊंची प्रतिमा के डिजिटल म्यूजियम,इण्टरप्रटेशन सेन्टर, लाईब्रेरी, फूड प्लॉजा, पार्किंग, लैण्डस्केपिंग जैसी योजनाओं पर भी काम किया जा रहा है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top