Read latest updates about "बाराबंकी" - Page 1

  • मेंथा की नर्सरी का सही समय, नर्सरी लगाते समय करें बीजोपचार

    बाराबंकी। मेंथा की खेती करने वाले किसानों के लिए ये सही समय है, इस समय किसान मेंथा की खेती की शुरुआत कर सकते हैं।बाराबंकी के किसान रमेश चन्द्र मौर्य (60 वर्ष) कहते हैं, 'अगेती मेथा की खेती करने वाले किसान जनवरी माह के प्रारंभ से ही मेथा की नर्सरी करना चालू कर देते हैं नर्सरी ठंड अधिक होने के कारण...

  • Video : देखिए कैसे बनता है गन्ने से गुड़

    हेतमापुर (बाराबंकी)। गुड़ तो हम सब खाते हैं लेकिन गुड़ को बनते हुए देखना भी बहुत खास होता है। खेतों में कई महीने तक फसल लगने के बाद किसान गन्ना काटते हैं, उसकी कोल्हू में पेराई करते हैं और फिर गन्ने के रस को उबालने के बाद गुड़ बनता है।चीनी मिलें तो गन्ने से शक्कर बनाती हैं लेकिन देश में बड़े पैमाने...

  • शकरकंद की खेती से मुनाफा कमा रहे बाराबंकी के किसान 

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क/दीपांशू मिश्राशिवराजपुर (बाराबंकी)। सर्दियों में खाए जाने वाले कंदों में शकरकंद काफी प्रचलित हैं। आलू की तरह शकरकंद भी जमीन में पैदा होती है और इसमें स्टार्च भरपूर मात्रा में होती है, इसलिए इसका प्रयोग शरीर में ऊर्जा बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसमें आंखों की रोशनी बढ़ाने वाला...

  • यूपी: बाराबंकी के पूरे गांव में होती है मशरुम की खेती, तीन महीने में कमा लेते हैं अच्छा मुनाफा

    विनय बताते हैं, ''इस बार मैंने 75 कुंतल भूसे में मशरूम लगाया है जिससे मुझे उम्मीद है कि 40 कुंतल मशरूम का उत्पादन होगा। बाजार में इसकी कीमत लाखों रुपए में होगी।'' सिद्धौर (बाराबंकी)। मनरखापुर गाँव के किसान पांरपरिक खेती के साथ-साथ मशरूम की खेती करके दोगुना लाभ कमा रहे है। इस गाँव के लगभग सभी...

  • इनसे सीखिए सहफसली खेती के फायदे, मटर के साथ करते हैं कद्दू की खेती

    बाराबंकी। क्या कभी आपने हरी मटर और कद्दू की सहफसली खेती के बारे में सुना अगर नहीं तो हम बताते हैं आप भी हरी मटर के साथ कद्दू की सहफसली खेती करके कम लागत में अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। ये बेहद कम लागत में सहफसली खेती आपके लिए साबित हो सकती है हरी मटर की खेती देश के उत्तर प्रदेश, हरियाणा,...

  • शुगर फ्री सिंघाड़े खाने हों तो यहां आइए

    बाराबंकी। जिले की तहसील हैदरगढ़ के ब्लॉक त्रिवेदीगंज का ये वहीं शिवनाम गाँव हैं, सैकड़ों परिवार अपनी पुश्तैनी खेती सिंघाड़े पर निर्भर रहते हैं। इस बार इस गाँव में शुगर फ्री सिंघाड़े की खेती पिछले वर्ष से ज्यादा हुई है।यूं तो इस गाँव में कई प्रकार के सिंघाड़े उपजाए जाते हैं जो विभिन्न रंग में होते...

  • जानिए कैसे कम जगह और कम पानी में करें ज्यादा मछली उत्पादन

    जहांगीराबाद (बाराबंकी)। पिछले तीन वर्षों से कम लागत, कम जगह और कम पानी में परेवज़ खान (40 वर्ष) ज्यादा से ज्यादा मछली का उत्पादन कर रहे है। भारत सरकार ने उनके इस मॅाडल को नीली क्रांति के अंर्तगत पूरे देश में 'रिसर्कुलर एक्वाकल्चर सिस्टम' (आरएएस) परियोजना के नाम से इस वर्ष शुरू किया है। रिसर्कुलर...

  • आलू के साथ कद्दू की सहफसली खेती करके कमा सकते हैं अच्छा मुनाफा 

    आलू नगदी फसल है, 90 से 100 दिन में पैसा मिल जाता है। लेकिन कई बार इसमें नुकसान भी हो जाता है। ऐसे में जो किसान आलू के साथ सहफसली खेती करते हैं उनके लिए मुनाफे की गुंजाइश ज्यादा हो जाती है। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में हजारों किसान आलू के साथ कद्दू की खेती करते हैं। इससे आलू की लागत में कद्दू...

Share it
Top