Read latest updates about "लखनऊ" - Page 1

  • जन्मदिन विशेष: एक शायर जिसे ख़ून थूकने का शौक था 

    क्या तकल्लुफ करें ये कहने में, जो भी खुश है हम उस से जलते हैं- जॉन एलियाहिंदुस्तान के अमरोहा में पैदा हुए और पाकिस्तान के कराची की मिट्टी में दफ्न हुए जॉन एलिया वो शायर हैं जो हयात रहते हुए ही उर्दू अदब की दुनिया में अच्छी खासी मकबूलियत हासिल कर गए थे। जॉन एलिया का जन्म उत्तर प्रदेश के अमरोहा...

  • क़िस्सा मुख़्तसर : जॉन एलिया ने बताए अपने ख़ास दोस्त के क़िस्से

    उबैदुल्लाह अलीम का नाम शायरी के चंद उन उस्तादों में शुमार होता है जिन्होंने उर्दू शायरी की नफ़्स में कई इंकलाबी तब्दीलियां की। शेर कहने का नया अंदाज़ रखने वाले उबैदुल्लाह अलीम की पैदाइश साल 1939 में भोपाल में हुई थी। तक्सीम के बाद पाकिस्तान के सियालकोट आने के बाद उन्होंने कराची यूनिवर्सिटी से उर्दू...

  • स्मिता कहा करती थीं कि जब मैं मर जाऊंगी तो मुझे सुहागन की तरह तैयार करना

    स्मिता पाटिल शायद अकेली एक्ट्रैस थी जिन्हें कॉमर्शियल फिल्में कुछ खास पसंद नहीं थीनसीरुद्दीन शाह, एक इंटरव्यूहिंदी समानांतर सिनेमा में अलग पहचान बनाने वाली स्मिता पाटिल का फ़िल्मी सफ़र यूं तो सिर्फ 10 साल का था लेकिन अदाकारी इतनी कमाल थी कि उनकी फ़िल्में आज भी...

  • बायोसिक्योरिटी करके बढ़ाएं पोल्ट्री व्यवसाय में मुनाफा, देखें वीडियो

    लखनऊ। पोल्ट्री फार्मों में रोगों को फैलने से रोकने के लिए प्रबंधन, टीकाकरण के साथ साथ बायोसिक्योरिटी को अपनाना आवश्यक और सस्ता उपाय है। कई संगठित पोल्ट्री इनका ख्याल रखती हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में अभी भी असंगठित पोल्ट्री किसान इसको नज़रअंदाज कर देते हैं, जिससे पोल्ट्री किसानों को नुकसान उठाना...

  • विश्व मानवाधिकार दिवस: बारीकी से जानें अपने अधिकार 

    एक देश में महेश नाम के एक फिल्म स्टार को कोर्ट चार लोगों को शराब पीकर कुचलने के बावजूद मामूली जुर्माना लगा कर छोड़ देती है। इस फिल्म स्टार की शख्सियत और पहुंच बहुत ऊंची होती है इसलिए कानून उसकी पूरी मदद करता है। चार मासूम लोगों की जिंदगी को तबाह करने के बाद भी वह समाज में आजाद घूमता है।वहीं दूसरी...

  • विश्व मानवाधिकार दिवस- जानें कैसे लड़ें अपने हक़ की लड़ाई ? 

    मानवाधिकार दिवस हर साल 10 दिसंबर को दुनिया भर में मनाया जाता है। वर्ष 1948 में पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 10 दिसंबर को हर साल इसे मनाये जाने की घोषणा की गयी थी। इसे सार्वभौमिक मानव अधिकार घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा के सम्मान में प्रतिवर्ष इसे विशेष तिथि पर मनाया जाता है।...

  • मानवाधिकार दिवस : ह्यूमन राइट्स की फील्ड में बनाए करियर, ये है कोर्स

    लखनऊ। आज अंतरराष्‍ट्रीय मानवाधिकार दिवस यानी यूनिवर्सल ह्यूमन राइट्स डे है। संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा ने 10 दिसंबर 1948 को सार्वभौमिक मानवाधि‍कार घोषणापत्र को आधि‍कारिक मान्यता प्रदान की थी और 4 दिसंबर 1950 को आधि‍कारिक तौर पर मानवाधिकार दिवस मनाने का फैसला किया गया।मानवाधि‍कार दिवस मनाने का...

  • यहां पर यूपी के किसान करा सकते हैं जैविक खेती का पंजीकरण, मिलेगा उपज का सही दाम

    लखनऊ। पिछले कुछ वर्षों में जैविक खेती की तरफ किसानों का रुझान बढ़ा है, लेकिन जानकारी के आभाव में किसानों को उनके उत्पाद का सही दाम नहीं मिल पाता है, ऐसे में प्रदेश में किसानों को जैविक खेती का प्रमाणपत्र देने के लिए उत्तर प्रदेश राज्य जैविक प्रमाणीकरण संस्था की स्थापना की गई है। जहां पर किसान...

Share it
Top